आवरण कथा

कांग्रेस मुक्त राष्ट्रपति भवनडॉ. कुलदीप चन्द अग्निहोत्री

रामनाथ कोविंद के भारत के चौदहवें राष्ट्रपति बनने के साथ ही बरसों से कांग्रेस के एकाधिकार वाला राष्ट्रपति भवन भी कांगे्रस मुक्त हो गया। उनके दलित होने की चर्चा भाले ही जोरशोर से हुई हो परंतु उनके राजनैतिक सफर को भी कम नहीं आंका जाना चाहिए। भारत के चौदहव..

परमाणु हथियारों का ‘नो फर्स्ट यूज’पल्लवी अनवेकर

भारत के अमेरिका और इजराइल से घनिष्ठ होते सम्बंधों को देख कर पाकिस्तान और चीन भारत से खार खाए बैठे हैं। चूंकि वैश्विक दबाव के चलते खुले आम भारत पर हमला करना संभव नहीं होगा; अत: वे आत्मघाती मानवी परमाणु बम का उपयोग करने में भी नहीं हिचकिचाएंगे। ‘अ ..

राख से उभरा इजराइलधर्मेन्द्र पाण्डेय

सारे उदाहरणों, कहानियों और कथाओं के साथ ही साथ एक किंवदंती भी चलायमान रही कि पिछले दो हजार सालों तक धराविहीन रही एक कौम अभी तक जिंदा है। जिंदा ही नहीं है बल्कि दुनिया की बौद्धिक क्षमता के पांचवें भाग की मालिक है। उस कौम की आधुनिक उपलब्धियां भी किंवदंती बन..

सरकार की नीतियां और किसान आंदोलनकृष्ण्मोहन झा

अगर किसानों का आक्रोश शांत नहीं हुआ तो इसका असर अगले साल होने वाले विधान सभा चुनावों पर भी पड़ने के संकेत हैं। भाजपा सरकार को इसे चुनौती के रूप में स्वीकार करने के साथ ही किसानों के हितों की चिंता करनी होगी तभी किसान खुश होगा और उसके सत्तासीन होने की भी उम..

किसान आंदोलन के पीछे की राजनीतिराघवेन्द्र पटेल

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने किसानों के सब से बड़े संगठन भारतीय किसान संघ से हुई बातचीत में किसानों की अधिकांश मांगों को मंजूर कर लिया था। इस पर संघ ने आंदोलन वापस ले लिया। फिर भी अपनी रोटियां सेंकने में लगे राजनीतिक तबकों ने बेवजह आंदोलन को हि..

राजनीति में ‘विपक्ष’पल्लवी अनवेकर

‘विपक्ष’ ने व्यक्ति विरोध से लेकर राष्ट्र विरोध तक का लंबा सफर तय कर लिया है। विरोध शब्द छोडकर शायद अब उनके शब्दकोश में कुछ भी बाकी नहीं रहा। ‘पक्ष’ चाहे जो भी करे, ‘विपक्ष’ को उसका विरोध ही करना है। राजनीति एक शतरं..

सामाजिक न्याय के लिए कटिबद्ध सरकारसायली साटम

वर्तमान सरकार के तीन वर्षों के सुशासन में सामाजिक न्याय मंत्रालय ने भी अपने अच्छे कार्यों के कारण खूब सुर्खियां बटोरी। इस मंत्रालय के मंत्री थावरचंद गहलोत ने जहां एक तरफ कौशल विकास के प्रति युवाओं का रुझान आकर्षित करने की दिशा में कार्य किया वहीं प्रधानमं..

असम में नवचेतनाअमोल पेडणेकर

असम में भाजपा की सरकार सत्तारूढ़ होने से असम समेत पूरे पूर्वोत्तर में नवचेतना की लहर दौड़ रही है। नई आशा और आकांक्षा का संचार हुआ है। असम की अस्मिता व विकास से जुड़े विभिन्न मसलों पर केंद्र और राज्य सरकार तेजी से और प्रभावी रूप से कार्य कर रही है। घुसपैठ से ..

जनता हमें फिर से मौका देगीपल्लवी अनवेकर

रजवाड़ों और महलों का राज्य कहा जाने वाला राजस्थान एक बार फिर लगातार सुर्खियां बटोर रहा है,पर इस बार प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं के सफल क्रियान्वयन के लिए देश-विदेश में मिल रही सराहनाओं के लिए। हिंदी विवेक के साथ बातचीत के दौरान राज्य की मुख्यमंत्..

हम मंदिर वहीं बनाएंगे...अमोल पेडणेकर

रामजन्मभूमि विवाद, उसके समाधान से लेकर हिंदुओं में उत्पन्न नवजागरण, नोटबंदी, उत्तर प्रदेश में भारी जीत और केरल में स्वयंसेवकों पर हो रहे हमलों जैसे अनेक विषयों और देश की वर्तमान स्थिति पर प्रस्तुत है प्रखर हिंदुत्ववादी सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी से हुई ल..

सहज मार्गक्रमण की आवश्यकतादिलीप करंबेलकर

"जो शास्त्र सम्मत है वही टिकाऊ है। गैलीलियो के सिद्धांत शास्त्र सम्मत थे, इसीलिए टिके। उनके विरोधी नहीं बचे। संघ विरोधियों की समझ में नहीं आया इसलिए हीन भावना पालने की कोई आवयकता नहीं है। ...जिन सिद्धांतों पर संघ आजतक चला, बढ़ा; वह शास्त्रीय स्वरूप संघ क..

पाकिस्तानी साजिश का शिकारगंगाधर ढोबले

कुलभूषण जाधव पाकिस्तान के कुचक्र का शिकार बन गया है। यह भी उसके भारत के खिलाफ छद्मयुद्ध का एक हिस्सा है। उसे कश्मीर को जलते रखना है, बांग्लादेश के टूटने के घाव को सहलाना है। आतंकवादी राष्ट्र होने की बात से अंतरराष्ट्रीय समुदाय का ध्यान हटाना है। जाधव की..

इस्लामिक संघर्ष: इतिहास और वर्तमानरमेश पतंगे

मध्यपूर्व और विशेष रूप से इराक और सीरिया में पिछले दो-तीन वर्षों से जबरदस्त लड़ाई चल रही है। ओसामा बिन लादेन का अलकायदा संगठन हमें पता था। बिन लादेन मारा गया, नया संगठन खड़ा हो गया, उसका नाम है इस्लामिक स्टेट ऑफ सीरिया एण्ड इराक अथात इसीस। इस इसीस में भर्..

केरल की हिंसा वामपंथियों की राजनीति का हिस्सा - जे. नंदकुमारहिंदी विवेक

गत कई वर्षों से केरल में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एवं राष्ट्रवादी विचारधारा के कार्यकर्ताओं की हत्या की जा रही है| इन घटनाओं की पार्श्वभूमि, वैचारिक संघर्ष, राज्य सरकार एवं पुलिस की भूमिका तथा संघ का इन सब घटनाओं की ओर देखने का दृष्टिकोण, ये सारी बातें नागरिकों को ज्ञात हो इसलिए प्रस्तुत है ‘मुंबई तरुण भारत’ के प्रतिनिधि महेश पुराणिक द्वारा संघ की राष्ट्रीय मीडिया टीम के सह-समन्वयक श्री जे. नंदकुमार से किए गए विशेष साक्षात्कार के महत्वपूर्ण अंश-..

बैंक का विकास तकनीक के साथ -सुनील साठे एम डी ऍन्ड सी ई ओ, टीजेएसबी बैंकअमोल पेडणेकर

किसी भी संस्था की मजबूत बुनियाद ही उसे आगे बढ़ने की ऊर्जा देती है और यदि वह संस्था बैंक है तब तो उसे मजबूत बुनियाद के साथ ही तकनीक के साथ चलना भी आवश्यक है। ठाणे जनता सहकारी बैंक ने अपनी स्थापना के उद्देश्य को ही अपनी बुनियाद माना है और तकनीक का बेहतरीन उपयोग किया है। इसी का परिणाम है कि आज सहकार क्षेत्र के अग्रगण्य बैंकों में टीजेएसबी का नाम शामिल है। प्रस्तुत बैंक के विस्तार और प्रगति के संदर्भ में टीजेएसबी के सीईओ सुनील साठे से हुई चर्चा के कुछ महत्वपूर्ण अंश:-..

महिला क्रिकेट की नींव: डायनासुरभि

प्रश्न : आपकी क्रिकेट खेलने में रुचि कैसे जागृत हुई?उत्तर : हम लोग रेलवे क्रिकेट कालोनी, बधवार पार्क,मुंबई में रहते थे। वहां हर शनिवार-रविवार को टेनिस बाल क्रिकेट होता था। टीम में १० लडके और मैं अकेली लडकी हुआ करती थी। स्कूल में मैं टेबल-टेनिस और बास्के..

भारत की नारी, फूल और चिंगारी: मृदुला सिन्हाअमोल पेडणेकर

गोवा की राज्यपाल मा. मृदुला सिन्हा साहित्यकार और राजनीतिक हस्ती हैं। उनकी जीवन यात्रा तथा भारतीय समाज में महिलाओं की स्थिति के सम्बंध में लिए गए साक्षात्कार के कुछ अंश-  अपने जीवन संघर्ष के बारे में बताएं।मैं अगर अपने जीवन का आकलन करके कहूं तो मुझ..

सुरों की साधनापल्लवी अनवेकर

प्रश्न- अपनी पारिवारिक पृष्ठभूमी और संगीत में अपने पदार्पण के विषय में बतायें।उत्तर- संगीत में मेरा पदार्पण मेरी मां श्रीमती नीला घाणेकर की वजह से हुआ। वे स्वयं शास्त्रीय गायिका थीं। उन्होंने पुणे में दत्ता मारूलकर जी से संगीत की शिक्षा ग्रहण की और संगी..

कश्मीर का आध्यात्मिक महत्वपूजा बापट

कश्मीर सिर्फ भारत का ही नहीं बल्कि पृथ्वी का नंदनवन माना जाता है। आद्य शंकराचार्य के मतानुसार ‘कश्मीर’ महर्षि कश्यप की भूमि है। इतना ही नहीं बल्कि वह काव्य और कला का उत्तम स्थल है। प्राकृतिक सुंदरता से सजी यह भूमि नंदनवन है। कश्मीर की सुंदरत..

राष्ट्रहित से समझौता नहीं...- मा. निर्मल सिंह उप-मुख्यमंत्री, जम्मू-कश्मीरअमोल पेडणेकर

एक देश में दो विधान, दो प्रधान और दो निशान नहीं चलेंगे’इस वैचारिक उद्घोषणा को लेकर डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने अपना बलिदान दिया, इन विचारों में किस तरह का गौरवपूर्ण भाव है उसे स्पष्ट कीजिए?यह मात्र वैचारिक उद्घोषणा ही नहीं है इसे लेकर जम्मू-कश्मी..

जम्मू-कश्मीर : भारत के लिए अब अनुकूल माहौल-श्री अरुण कुमारअमोल पेडणेकर

आप ‘कश्मीर समस्या’ को हमेशा ‘भारत समस्या’ कहते हैं। ऐसा क्यों? मेरा बड़ा स्पष्ट मानना है कि ‘कश्मीर समस्या’ या ‘भारत समस्या’ जैसी कोई अवधारणा विश्व में है नहीं। जम्मू-कश्मीर में समस्या या समस्याएं हो सकती ..

जन सहयोग से सूखा लातूर ‘जलयुक्त’ बनाविलास आराध्ये

महाराष्ट्र के मराठवाड़ा संभाग के लातूर शहर ने भूकम्प और सूखा इन दोनों संकटों का सामना किया है। यहां तक कि पिछले वर्ष लातूर में ट्रेन से पानी लाकर लोगों की प्यास बुझानी पड़ी। इससे सचेत होकर लातूर के सूज्ञ नागरिकों ने जन सहयोग से ऐसा चमत्कार करवाया कि मांजरा नदी लबालब भर गई। प्रस्तुत है इस परियोजना के बारे में श्री अशोक कुकडे (वरिष्ठ संघ स्वयंसेवक) से हुई बातचीत के महत्वपूर्ण अंश, जो सूखाग्रस्त गांवों के लिए पथ प्रदर्शक होंगे।..

पहले प्रदूषण नियंत्रण, फिर स्मार्ट सिटीचंद्रशेखर बुरांडे

रोटी, कपड़ा, मकान ये मानव की तीन मूलभूत आवश्यकताएं हैं। पहली दो आवश्यकताएं प्रकृति से बड़े पैमाने पर उपलब्ध होती हैं। तीसरी याने निवास, इसकी पूर्ति मानव को स्वत: करनी पड़ती है। इस तीसरी आवश्यकता की पूर्ति हेतु मानव द्वारा प्रकृति का दोहन प्रचुर मात्रा में ..

चिड़िया की सीख राजकुमार जैन ‘राजन’

एक पेड़ की डाल पर दो कबूतर रहते थे। उनका नाम था सोनू और मोनू। दोनों गहरे दोस्त थे। उनकी दोस्ती की मिसाल पूरे जंगल में दी जाती थी किन्तु स्वभाव में दोनों एक-दूसरे के विपरीत थे। एक ओर सोनू मेहनती था वहीं मोनू आलसी, कामकाज और मेहनत से जी चुराने वाला था। सो..

रोमांचक हृदय स्थली मध्यप्रदेशपूजा बापट

मध्यप्रदेश भारत के बीचोबीच होने के कारण इसे ‘भारत का हृदय’ कहा जाता है। क्षेत्रफल के हिसाब से यह भारत के दूसरे क्रमांक का राज्य है। कुल ५१ जिले इस राज्य के अंतर्गत आते हैं। मध्यप्रदेश की राजधानी ‘भोपाल’ है। पर्यटन के शौकीनों को ..

नकल नहीं अक्लहिंदी विवेक

चंपक वन में रहने वाले रोमी हिरण व मोनू बंदर दोनों पड़ौसी थे। दोनों एक साथ खेलते, एक साथ विद्यालय जाते और एक ही कक्षा में पढ़ते थे। उनकी कक्षा में बंटी घोड़ा, लम्पू लोमड़ी, जग्गू हाथी, नटखट खरगोश, टोमी कुत्ता आदि जानवर पढ़ते थे। मोनू बंदर स्कूल से आकर कुछ सम..

प्रतिभाएं हैं, मौका तो दीजिएप्रमोद कुमार सैनी

उत्तर प्रदेश के बागपत जिले में स्थित जौहड़ी गांव में उम्मीद की एक किरण ने करीब डेढ़ दशक पूर्व अंगडाई ली। अंतरराष्ट्रीय निशानेबाज एवं पेशे से डॉक्टर रहे राजपाल सिंह ने जनसाधारण का खेल बना दिया। आधुनिक सुविधाओं के अभाव में उन्होंने युवाओें के हाथ में लाठी, ..

‘मनभावन पर्यटन’पूजा बापट

हे विश्वची माझे घर’ अर्थात यह विश्व ही मेरा घर है यह उक्ति इस भूतल पर रहने वाले प्रत्येक प्राणी पर लागू होती है। प्रत्येक प्राणी फिर वह चाहे छोटी सी चींटी हो या मानव, एक स्थान से दूसरे स्थान पर भ्रमण करता है। यह उसका स्वाभाविक गुणधर्म है। अब जब य..

तिरुपति में केशदान, शिर्डी में रक्तदान: सुरेश हावरेअमोल पेडणेकर

शिर्डी का साईंबाबा संस्थान दुआ, दवा, सेवा तथा भक्ति और शक्ति की अनोखी मिसाल है। भक्तों को बेहतर सुविधाओं के साथ-साथ शिर्डी के विकास की विभिन्न योजनाएं लागू की जा रही हैं। नए-नए उपक्रम स्थापित किए जा रहे हैं। सन २०१८ साईं बाबा का समाधि शताब्दि वर्ष है। इ..

अमृत की खोज में महाआयोजनप्रवीण गुगनानी

भोपाल में आयोजित त्रिदिवसीय आयोजन लोकमंथन को प्रज्ञा प्रवाह व मप्र संस्कृति विभाग ने इस आयोजन को बखूबी निभाया व एक दिव्य, भव्य व अद्भुत कार्यक्रम का परिणाम दिया|..

सवाल पाकिस्तान के वजूद काले.जनरल (डॉ) दत्तात्रय शेकटकर (नि.)

पाकिस्तान के लिए इस समय सब से बड़ी आवश्यकता यह है कि अपने-आप को, अपनी युवा पीढ़ी को आने वाली पीढ़ियों को अमेरिका तथा पश्चिमी देशों के प्रकोप से बचाए| अमेरिका का नया नेतृत्व पाकिस्तान को अवश्य दंडित करेगा| तब चीन भी पाकिस्तान की रक्षा नहीं कर पाएगा| पाकिस्तान का एक और विघटन होगा| फिर पाकिस्तान को अपना वजूद बनाए रखने के लिए भारत के पास ही आना होगा|..

दिल्ली का वायु-प्रलयगंगाधर ढोबले

राजधानी परिक्षेत्र में धुंध बेहद बढ़ गई, सामने सौ मीटर पर भी कुछ दिखाई न दें, सांस लेना दूभर हो गया, मास्क भी कोई काम नहीं दे रहे थे, कई बीमार हो गए| प्रकृति से खिलवाड़ की यह सजा है| परमाणु बम से भी अधिक यह ‘पर्यावरण बम’ विनाशक है| पहले जैसे जल-प्रलय हुआ करते थे, वैसे अब वायु-प्रलय होंगे| दिल्ली की स्थिति इसका आरंभिक संकेत है|..

देश की उन्नति में गांव का सहभागसोमेन्द्र यादव

भारत विश्व का ऐसा देश है, जहां विभिन्न भाषाभाषी, जाति संप्रदाय के लोग एक साथ निवास करते हैं। भारत ही विश्व की सभी प्राचीनतम सभ्यताओं में से एक जीवित सभ्यता है, जिसने इतने समय तक अपने आप को न केवल सुरक्षित एवं संरक्षित रख सका बल्कि अब विश्व सिरमौर बनने ज..

भारत की प्राचीन ग्राम्य परंपरावीरेन्द्र याज्ञिक

इक्कीसवीं सदी के दूसरे दशक के उत्तरार्ध का प्रारंभ हो गया है| जैसा कि अपेक्षित ही था कि विज्ञान और टेक्नालॉजी के विस्तार ने मानव सेवा की सभी सुख सुविधाओं का अंबार लगा रखा है| शहरी और महानगरीय सभ्यता और संस्कृति अपने चरम पर है| तथापि, साधनों से भरपूर, सु..

ग्राम विकास के मूल आधारनानाजी देशमुख

  भारत गांवों में बसता है। इसका अर्थ केवल इतना मात्र नहीं कि देश की ७२ प्रतिशत आबादी देहातों में रहती है। अपितु ग्रामों में भारतीय जीवन मूल्य आज भी विद्यमान हैं। ग्राम विकास का काम नया नहीं है। आज़ादी पाने के पूर्व भी कई वर्षों से यह कार्य होता रह..

सशक्त होती ग्रामीण युवा स्त्रीशक्तिप्रमोद जोशी

जब हम ग्रामीण युवा स्त्रियों की बात करते हैं तब हमें ध्यान रखना होगा कि उनके सशक्तिकरण की राह भी आगे पढ़ने, आगे बढ़ने और राष्ट्रीय विकास में योगदान की दिशा में शहरी लड़कियों से भी ज्यादा मुश्किल हैं। उसके लिए घर से निकलना ही मुश्किल है, भले ही उसके घर वाले..

भारतीय ग्रामराज्य में महिलासंगीता धारूरकर

  भारत में स्थानीय स्वराज्य संस्थाओं में महिलाओं के लिए आरक्षण दिया गया है।  इस में खुला वर्ग से ले कर अनुसूचित जातियों तथा जनजातियों की महिलाओं को स्थानीय स्वराज्य संस्था में कार्य करने का अवसर मिला है।  महिला सशक्तिकरण के मद्देनजर इस र..

काट और प्रति-काट की रणनीतिगंगाधर ढोबले

रक्षा मंत्रालय में अब कुछ बदला-बदला सा माहौल है। निर्णय पंगुता खत्म हो गई है। नकारात्मक बातें विदा ले रही हैं। सकारात्मक कदम प्रवेश कर रहे हैं। चूंकि रक्षा कोई चर्चा का विषय नहीं होता, इसलिए जनसाधारण में बहुत बहस नहीं होती, न इसका कोई औचित्य होता है। फि..

राष्ट्रसेविका समिति भविष्यकालीन परिदृश्यप्रमिला मेंढे

नए पुरानों में समन्वय निर्माण करते हुए, समिति कार्य में औपचारिकता या संस्थागत या उद्योग-गत भाव निर्माण होने से बचते हुए समिति कार्य विस्तार करने का हम सब का संकल्प है - सत्य संकल्प का दाता तो भगवान है - हमारा भगवान सब कुछ भारत माता ही है- वह आशीष देगी। ..

नथुराम गोडसे को जिंदा रखना कांग्रेस की मजबूरीअमोल पेडणेकर

राहुल गांधी आखिर पलट गए। उनकी यह बंदरकूद संघ पर उनके बचकाने आरोप को लेकर है। उनका आरोप था कि गांधीजी की हत्या संघ के लोगों ने की है। महाराष्ट्र के विधान सभा चुनावों के दौरान भिवंडी में हुई एक सार्वजनिक सभा में उन्होंने यह बयानबाजी की थी। उनका यह बयान चू..

विकास के पथ पर राजस्थानईश्वर बैरागी

पर्यटन मानचित्र पर राजस्थान अग्रणी स्थान रखता है| त्याग,तपस्या, बलिदान और वीरों की अनूठी गाथाओं को अपने आंचल में समेटे शौर्य और साहस की यह धरती विदेशी सैलानियों को बरबस ही अपनी ओर आकर्षित करती है| सैलानी यहां आकार सुखद अनुभव करते हैं| यहां के रीति-रिवाज..

मोदी सरकार से आस, मध्यप्रदेश का तेज विकासडॉ. अनिल सौमित्र

भारत में शासन कल्याणकारी राज्य की अवधारणा के अंतर्गत काम करता है, अर्थात एक ऐसा शासन जो नागरिकों के आर्थिक एवं सामाजिक उन्नति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हो| इसीलिए केन्द्र में किसी भी दल का शासन हो वह राज्यों के हितों का पोषण करता है| हालांकि विकास के..

गुजरात में सुशासनविकास पांडे

देश और राज्य के गरीब से गरीब से व्यक्ति तक यदि सरकार की योजनाओं का लाभ पहुंचे तो इसे सही मायने में समावेशित रूप से सुशासन कहा जा सकता है| वैसे सुशासन का तात्पर्य शासन की विधि, समानता, जनभागीदारी, अनुक्रियाशीलता, प्रभावशील दक्षता, पारदर्शिता और उत्तरदायि..

हरियाणा में संघ-कार्य का विस्तारसीताराम व्यास

हरियाणा में पहली संघ शाखा १९३७ में शाहबाद में प्रारंभ हुई| सन् १९४९ से १९७७ तक संघ-कार्य में निरंतरता रही; परंतु विकास की गति धीमी रही| सन् १९७७ के आपातकाल के पश्चात् संघ-कार्य तेजी से बढ़ा तथा संघ और समाज एकरूप होते दिखाई देते हैं| आज हरियाणा में संघ का कार्य सर्वव्यापी और सर्वस्पर्शी बन गया है|..

मुसलमानों में ‘विवेकानंद’ निर्माण होने की जरूरतअमोल पेडणेकर

वैश्विक व भारतीय राजनीति में फिलहाल एक ज्वलंत प्रश्न है मुस्लिम जगत में बढ़ती दाहकता को समझने का। विश्व में कहीं भी होने वाले आतंकवादी हमलों में एकमात्र समानता यह होती कि ये हमले करने वाले मुस्लिम होते हैं। फिर वह तुर्की का इस्तंबूल हो, फ्रांस का पेरिस हो, आस्ट्रिया का विएन्ना हो, अमेरिका का न्यूयार्क हो, थाईलैण्ड का बैंकाक हो या कि भारत का श्रीनगर। ..

बुनने लगे उत्तर प्रदेश चुनाव के तानेबानेकृष्ण्मोहन झा

उत्तर प्रदेश में अगले वर्ष होने वाले विधान सभा चुनावों के लिए राजनीतिक दलों ने अपनी-अपनी सात बिछानी शुरू कर दी है| केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार में इसके संकेत मिलते हैं, जबकि कांग्रेस ने शीला दीक्षित को कमान सौंप दी है|..

संघ समर्पित -डॉ.नरेंद्र देसाईअशोक कुकडे

मैं नरेन्द्र कृष्णाजी देसाई’ करारी आवाज में उन्होंने अपना परिचय दिया था| इस घटना को तीस साल हो गए| संघ बैठक में जिला कार्यकर्ता के तौर पर उन्होंने अपना परिचय दिया| मुंबई के पश्चिम उपनगर में निवास, तथा न..