हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

मोशन पिक्चर का दीदार

सन 1895 में आज ही के दिन लुमियर ब्रदर्स ने फिल्म प्रोजेक्टर के जरिए पेरिस में पहली मोशन पिक्चर का जनता के सामने प्रदर्शन किया था.

22 मार्च के दिन पेरिस में आयोजित एक औद्योगिक सम्मेलन में पहली बार सार्वजनिक रूप से एक फिल्म दिखाई गई. लुमियर ब्रदर्स में से एक, लुई लुमियर अपने आसपास की चीजों के वीडियो उतारते थे. यह वीडियो आसपास के जीवन को सच्चे रूप में पेश करता था. इसी तरह उन्होंने लुमियर फैक्ट्री से बाहर निकलते कामगरों का भी एक वीडियो रिकार्ड किया, जिसे पहली स्क्रीनिंग में दिखाया गया था. फिल्म दिखाने की इस तकनीक को लुमियर भाइयों ने तुरंत अपने नाम पर पेटेंट करा लिया. अपने देश फ्रांस के बाहर लुमियर ब्रदर्स ने सिनेमेटोग्राफी की इस तकनीक के पेटेंट के लिए 18 अप्रैल 1895 में अर्जी दी. साथ ही साथ वे निजी तौर पर अपनी इस खोज का जगह जगह प्रदर्शन भी करते रहे. इसी कड़ी में 10 जून को लियों में फोटोग्राफरों के सामने भी अपनी मोशन पिक्चर दिखाई. इस तरह के प्रदर्शनों के कारण दुनिया भर में उनकी तकनीक के बारे में बातें होने लगीं. विश्व भर में लोग इसे देखने के लिए काफी उत्सुक थे.

इसके बाद अपने भाई एंटोनी लुमियर के साथ मिलकर उन्होंने अपनी फिल्में दिखाने के लिए खुले थिएटर बनाना शुरु किया. आगे चलकर यही सिनेमा के नाम से जाने गए. 1896 के पहले चार महीनों में उन्होंने लंदन, ब्रसेल्स, बेल्जियम और न्यू यॉर्क में सिनेमेटोग्राफी थिएटर खोले. 1897 में उनके फिल्मों के कैटेलॉग में करीब 358 चीजें थीं जो 1898 तक आते आते 1000 तक पहुंच गईं. अगले पांच सालों में लुमियर ब्रदर्स का फिल्मों का कैटेलॉग दोगुना हो गया. इनके 2000 से ज्यादा फिल्मों के कैटेलॉग में से ज्यादातर प्रोमियो और डॉबलियर जैसे दूसरे ऑपरेटरों की बनाई हुई थीं. सन 1900 में जाकर लुमियर ब्रदर्स ने एक फिल्म को पेरिस एक्सपोजिशन में 99 x 79 फुट के एक बड़े पर्दे पर प्रोजेक्ट किया. इसके बाद उन्होंने प्रदर्शनियों में फिल्में दिखाना बंद कर दिया और अपनी ईजाद की हुई तकनीक की मशीनें बनाने और उन्हें बेचने लगे

 

 

आज के इतिहास की अन्य प्रमुख घटनाएं

  • स्टीफेन द्वितीय सन 752 में 23वें कैथोलिक पोप चुने गये।
  • आक्रमणकारी नादिर शाह ने 1739 में अपनी सेना कोदिल्ली मे जनसंहार की इजाजत दी।
  • पुएरटो रिको में 1873 में दास प्रथा को खत्म किया गया।
  • सन 1882 में घातक संक्रामक बीमारी ‘टीबी’ की पहचान हुई।
  • सन 1888 में इंग्लिश फुटबॉल लीग की स्थापना।
  • रामचंद्र चटर्जी 1890 में पैराशूट से उतरने वाले पहले व्यक्ति बने।
  • रूस की नई सरकार को मान्यता देने वालाअमेरिका 1917 में पहला देश बना।
  • सन 1923 में पहली बार आइस हाकी मैच का रेडियो से प्रसारण।
  • सर स्टैफोर्ड क्रिप्स के नेतृत्व में क्रिप्स मिशन 1942 में भारत आया।
  • ब्रिटेन ने जॉर्डन को आजाद करने के लिए संधि पर 1946 में हस्ताक्षर किये।
  • आखिरी वायसराय लार्ड लुईस माउंटबेटन 1947 में भारत आये।
  • अमेरिकामें मिशीगन के साउथफील्ड में 1954 में पहला शॉपिंग मॉल खोला गया।
  • अमरीका में रंगभेद विरोधी नेतामार्टिन लूथर किंग को एक नस्लवादी कानून का विरोध करने के कारण 1956 में आज ही के दिन जेल हुई थी।
  • शक पर आधारित राष्ट्रीय कैलेण्डर को 1957 से स्वीकारा गया।
  • सोवियत संघ ने 1958 में नोवाया जेमलया में परमाणु परीक्षण किया।
  • कोलकाता में सन 1964 में पुरानी कारों की पहली रैली ‘विंटेज कार रैली’ आयोजित।
    इंडियन पेट्रोकैमिकल्स कॉर्पोरेशन लिमिटेड का 1969 में उद्घाटन।
  • श्रीमतीइंदिरा गांधी ने 1977 में प्रधानमंत्री के पद से इस्तीफा दिया।
  • फ्रांसने 1978 में परमाणु परीक्षण किया।
  • इजरायल की संसद ने 1979 में मिस्र के साथ शांति संधि को मान्यता दी।
  • नासा ने अपने अंतरिक्ष यान कोलंबिया को 1982 में तीसरे मिशन पर लिए रवाना किया।
  • रूसी अंतरिक्ष यात्री वालेरी पेलियाकोव साढ़े चौदह माह के रिकार्ड अंतरिक्ष प्रवास के पश्चात् 1995 में पृथ्वी के लिए रवाना।
  • जार्डन के शाह अब्दुल्ला ने 1999 में अपनी पत्नी राजकुमारी रानिया को आधिकारिक रूप से महारानी नामित किया।
  • ब्रिटेन में गले के नीच पूरे शरीर में लकवे से ग्रस्त एक 43 साल की महिला को 2002 में इच्छा मृत्यु का अधिकार दिया गया।
  • पाकिस्तानने 2007 में हत्फ़-7 मिसाइल का परीक्षण किया।

22 मार्च को जन्मे व्यक्ति 

  • 1882 में उर्दू के प्रसिद्ध पत्रकार और समाज सुधारक मुंशी दयानारायण निगम का जन्म।
  • 1894 में भारत की स्वतंत्रता के लिए चटगांव विद्रोह का सफल नेतृत्व करने वाले प्रसिद्ध क्रांतिकारी सूर्य सेन का जन्म।
  • 1961 में 16वीं लोकसभा सांसद एवं वर्तमान जनजातीय मामलों के केंद्रीय मंत्री जुएल उरांव का जन्म।

22 मार्च को हुए निधन 

  • 1971 मेंस्वतंत्रता सेनानी हनुमान प्रसाद पोद्दार का निधन।
  • 1977 में केरल के प्रसिद्ध कम्युनिस्ट नेता और भारत के स्वतंत्रता सेनानी ए. के. गोपालन का निधन।
  • 2007 में भारतीय दार्शनिक उप्पलुरी गोपाल कृष्णमूर्ति का निधन।

22 मार्च के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव

  • विश्व जल दिवस

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: