हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...
सरेआम कानून का उल्लंघन कर बेतहाशा ध्वनि प्रदूषण फैलाने वाले मस्जिदों पर लगे लाउडस्पीकर (भोगों) के खिलाफ कार्रवाई करने का आदेश राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने दिल्ली पुलिस आयुक्त को दिया है।इसके साथ ही पुलिस आयुक्त को योजना का कार्यान्वयन करने वाले अधिकारियों की निगरानी करने और एक माह में रिपोर्ट देने को भी कहा है।बता दे कि इस दौरान एनजीटी ने कहा है कि मानदंडों से ज्यादा ध्वनि प्रदूषण एक गम्भीर एवं दण्डनीय अपराध है और उल्लंघनकर्ताओं के खिलाफ सख्त कार्रवाई के लिए एक निगरानी प्रणाली स्थापित की जाए।
ज्ञात हो कि बॉम्बे हाईकोर्ट ने भी ध्वनि प्रदूषण मामले में पुलिस को सभी मस्जिदों पर लगे अवैध लाउडस्पीकर (भोंगो) को निकालने का आदेश दिया है।बावजूद इसके कार्रवाई नही हुई है।क्या एनजीटी के आदेश के बाद मस्जिदों पर लगे अवैध लाउडस्पीकर पर कार्रवाई होगी ? अपनी बेबाक राय दे 

This Post Has 7 Comments

  1. लेख उत्तम है… तुरन्त ये भोपा उतारा जाए. कोई भी धर्मस्थल हो….अगर नही उतरते तो उसको आग के हवाले कर देना चाहिए….जो विरोध में आओ , सीधा गोली मारने का आदेश दे देना चाहिए

  2. अब तो हर हाथ में मोबाइल फोन है, अलार्म लगाकर अपना काम शुरू करो | समाज में अव्यवस्था, अराजकता व प्रदूषण रोकने के लिए मस्जिदों के लाउडस्पीकर पर रोक लगनी चाहिए

  3. मस्जिदों मे लगे लाउडस्पीकर ततकाल हटा दिये जाने चाहिए ।देखा जाये तो अब इसकी उपयोगिता भी लगभग समाप्त हो चुकी है ।इससे ध्वनि प्रदूषण का जबरदस्त खतरा पैदा हो गया है ।इसके प्रयोग में किसी तरह की छूट का लाभ भी नहीं दिया जाना चाहिए ।नहीं तो ध्वनि प्रदूषण समाप्त नहीं हो सकता है ।

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: