हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

 घातक संक्रामक बीमारी 

घातक संक्रामक बीमारी टीबी की पहचान आज ही के दिन 1882 में हुई थी. इसका पता लगाने वाले वैज्ञानिक को बाद में नोबेल पुरस्कार दिया गया.

टीबी का इतिहास पुराना है और इसे अलग अलग समय में अलग नामों से जाना जाता रहा है. जर्मन वैज्ञानिक रॉबर्ट कॉख ने 1882 में 24 मार्च को टीबी के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरक्यूलॉसिस के बारे में बताया. उनकी इस खोज के लिए उन्हें 1905 में नोबेल पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया. इससे पहले 1720 में वैज्ञानिक बेंजामिन मार्टेन द्वारा बताए गए सिद्धांत के अनुसार इसके लिए उन सूक्ष्म जीवों को जिम्मेदार बताया गया था, जो हवा में मरीज तक पहुंचते हैं.

टीबी की रोकथाम के लिए बीसीजी टीके का इस्तेमाल होता है. इसका संक्रमण खांसी, छींक या अन्य तरह के संपर्क से वायु द्वारा फैलता है. क्षय रोग या तपेदिक के नाम से भी जानी जाने वाली इस बीमारी में आम तौर पर फेफड़ों में संक्रमण होता है. लेकिन टीबी कई तरह की होती है और यह शरीर के अन्य भागों को भी प्रभावित कर सकती हैं. अगर समय पर सही इलाज न किया जाए तो यह रोग जानलेवा हो सकता है.

दुनिया भर में टीबी के ऐसे नमूने सामने आ रहे हैं जिन पर दवाइयों का असर खत्म होता जा रहा है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अधिकारियों के अनुसार दवाइयों के प्रति प्रतिरोधी क्षमता वाले टीबी के मामले बढ़ रहे हैं. ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि टीबी का इलाज लंबा होता है. टीबी के मरीजों को छह महीने तक भारी दवाइयां लेते रहना होता है. कई बार लोग इतने लंबे समय तक इलाज जारी नहीं रख पाते.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक 2012 में दुनिया भर में 86 लाख लाख लोग तपेदिक के शिकार हुए और 13 लाख की मौत हो गई. टीबी के कुल मरीजों में 26 फीसदी भारत में हैं.

 

आज के इतिहास की अन्य प्रमुख घटनाएं

  • कनाडा में 1837 से अश्वेत नागरिकों को वोट डालने का अधिकार दिया गया।
  • कोलकाता से आगरा के बीच 1855 में पहली बार टेलीग्राफ से लंबी दूरी का संदेश प्रेषित किया गया।
  • ब्रिटिश कैबिनेट मिशन 1855 में भारत पहुंचा।
  • घातक संक्रामक बीमारी टीबी की पहचान 1882 में आज ही के दिन हुई थी। इसका पता लगाने वाले वैज्ञानिक को बाद मेंनोबेल पुरस्कार दिया गया।
  • शिकागो और न्यूयार्क के बीच 1883 में पहली बार फोन से बातचीत हुई।
  • अमेरिकामें 1932 में पहली बार चलती ट्रेन से रेडियो प्रसारण किया गया।
  • इराक ने 1959 में बगदाद समझौते से खुद को अलग कर लिया।
  • मोरारजी देसाई1977 में भारत के चौथे प्रधानमंत्री बने और उन्होंने केन्द्र में पहली बार गैर-कांग्रेसी सरकार बनायी।
  • भारतीय सेना ने 1990 मेंश्रीलंका छोड़कर स्वदेश वापसी की।
  • एज़र वीज़मैन 1993 में इजरायल के राष्ट्रपति चुने गये।
  • पी.एन. भगवती (भारत) 1999 में लगातार दूसरे कार्यकाल के लिए संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार समिति के उपाध्यक्ष चयनित।
  • तपेदिक ( क्षयरोग ) की रोकथाम के लिए लोगों में जागरूकता बढ़ाने और इसके नियंत्रण के प्रयासों को जारी रखने के लिए 2003 से दुनिया भर में आज के दिन को “विश्व क्षय रोग दिवस” मनाया गया।
  • ऑस्ट्रेलियाके मैथ्यू हेडन ने 2007 में विश्वकप का सबसे तेज शतक बनाया।
  • भूटान 2008 में लोकतांत्रिक देश बना।

24 मार्च को जन्मे व्यक्ति 

  • संगीतकार और कवि मुथुस्वामी दीक्षित का 1775 में जन्म हुआ।
  • प्रसिद्ध भारतीय राजनेता और अधिवक्ता सत्येन्द्र प्रसन्न सिन्हा का 1863 में जन्म हुआ।
  • भारतके प्रसिद्ध साहित्यकार तथा राष्ट्रसेवी हरिभाऊ उपाध्याय का 1892 में जन्म हुआ।
  • अमेरिकी फुटबॉल प्लेयर पेयटन मैनिंग का 1976 में जन्म हुआ।
  • बॉलीवुड स्‍टारइमरान हाशमी का 1979 में जन्म हुआ।
  • भारतीय हॉकी खिलाड़ी एड्रियन डिसूजा का 1984 में जन्म हुआ।

24 मार्च को हुए निधन 

  • अब्बासी खलीफा हारुन अल रशीद का 809 में निधन हुआ।
  • सन 1953 में ब्रिटेन की महारानी की दादी महारानी मैरी का सोते हुए निधन हो गया।
  • इंग्लैण्ड की महारानी महारानी एलिज़ाबेथ प्रथम 1603 में निधन हुआ।

24 मार्च के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव

  • ग्रामीण डाक जीवन बीमा दिवस
  • विश्व तपेदिक दिवस
  • विश्व टी. बी. दिवस

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu
%d bloggers like this: