हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

 लोकतंत्र की तानाशाही

सन 1989 में इसी दिन रूस में पहली बार स्वतंत्र चुनाव हुए थे. सोवियत काल में हुए इस चुनाव के शुरुआती नतीजों से ही अंदाजा लगने लगा था कि लाखों मतदाताओं ने कम्युनिस्ट उम्मीदवारों को नकार दिया था.

चुनाव के अंतिम नतीजे भी अपेक्षा के अनुरूप ही रहे. कम्युनिस्ट पार्टी के बहुत से वरिष्ठ नेताओं को चुनाव में हार का मुंह देखना पड़ा. सोवियत संघ में इन संसदीय चुनावों में पहली बार नागरिकों को यह विकल्प मिला था कि वे कम्युनिस्ट पार्टी के नेताओं के अलावा भी किसी को वोट दे सकें.

यह चुनाव इस मायने में भी ऐतिहासिक माने जाते हैं कि यह पहला मौका था जब सोवियत संघ का विरोध करने वालों को भी जनता के सामने आने का मौका मिला. रूसी अखबार ‘इजवेस्तिया’ के हवाले से यह कहा गया कि इन चुनावों में ज्यादातर क्षेत्रों में करीब 80 से 85 फीसदी लोगों ने अपने वोट का इस्तेमाल किया. अखबार ने तो इन नतीजों को एक नए युग की शुरूआत कह डाला और उस नए युग को “लोकतंत्र की तानाशाही” का नाम दे डाला.

कुल 1,500 सीटों के लिए हुए चुनाव में कम्युनिस्ट पार्टी के बाहर के बहुत सारे उम्मीदवार चुने गए. भारी मतों के साथ बोरिस येल्तसिन ने नई सरकार बनाई. सन 1991 तक सोवियत संघ अस्तित्व में रहा. संवैधानिक रूप से तो सोवियत संघ 15 स्वशासित गणतंत्रों का संघ था लेकिन असल में पूरे देश के प्रशासन और अर्थव्यवस्था पर केन्द्रीय सरकार का कड़ा नियंत्रण था. रूस इस संघ का सबसे बड़ा गणतंत्र और राजनैतिक, संस्कृतिक और आर्थिक केंद्र था. 1989 का साल यूरोप में भी भारी उथल पुथल का साल था.

जर्मनी के पूर्वी पड़ोसी देश पोलैंड में भी जून 1989 में पहली बार स्वतंत्र चुनाव हुए. यहां जनता ने भारी बहुमत से लोकतंत्र और मुक्त बाजार वाली आर्थिक व्यवस्था को अपनाने के पक्ष में मतदान किया.

आज के इतिहास की अन्य प्रमुख घटनाएं

  • इंग्लैंड के शासक चार्ल्स द्वितीय ने बांबे को 1668 में ईस्ट इंडिया कंपनी को सौंपा था।
  • स्पेन औरफ्रांस ने 1721 में मैड्रिड समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे।
  • अमेरिकी कांग्रेस ने देश में नौसेना की स्थापना को 1794 में स्वीकृति दी।
  • पहले स्टीम फायर इंजन का सफल परीक्षण सन 1841 में न्यूयार्क में किया गया।
  • अब्राहम गेस्नर ने 1855 में केरोसिन(मिट्टी के तेल) का पेटेंट कराया।
  • पहला अंतरराष्ट्रीय रग्बी मैच स्कॉटलैंड और इंग्लैंड के बीच 1871 में खेला गया।
  • बोस्टन से न्यूयार्क के बीच 1884 में पहली बार फोन पर लंबी दूरी की बातचीत हुयी।
  • इतालवी आविष्कारक जी मारकोनी द्वारा 1899 में फ्रांस और इंग्लैंड के बीच पहला अंतरराष्ट्रीय रेडियो प्रसारण किया गया।
  • अमेरिकाने 1901 में फिलीपीन्स के विद्रोही नेता एमिलियो एग्विनाल्डो को अपने कब्जे में लिया।
  • जापानने 1933 में लीग अाॅफ नेशंस से खुद को अलग कर लिया।
  • यूरोपीय देश लिथुआनिया में 1944 में लगभग दो हजार यहूदियों की हत्या कर दी गयी।
  • अमेरिकी सरकार ने 1956 में कम्युनिस्ट अखबार डेली वर्कर को जब्त कर लिया।
  • सन 1961 में आज के दिन से पहला विश्व रंगमंच दिवस मनाने की शुरुआत हुई।
  • टेनेरीफ़ में 1977 में दुनिया की सबसे भयानक विमान दुर्घटना हुई थी, जिसमें तक़रीबन 600 लोग मारे गए थे।
  • यूरोपियन फ़ाइटर एअरक्राफ़्ट यूरोफाइटर ने 1977 में पहली उड़ान भरी।
  • ए.एफ़.एम.ए.चौधरी 1982 मेंबांग्लादेश के राष्ट्रपति नियुक्त किए गए थे।
  • अंतरिक्ष में 1989 मेंअमेरिका के मिसाइल “रोधी उपग्रह” का परीक्षण विफल हुआ।
  • पहला मैक्रो वायरस “मेलिसा” की 1999 में सूचना दी गई।
  • रूस ने 2003 में घातक टोपोल आर एस-12 एम बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया।
  • यासीन मलिक ने 2006 में कश्मीर में जनमत संग्रह कराए जाने की मांग की।
  • अंतरिक्ष यान एंडेवर 2008 में पृथ्वी पर सफलतापूर्वक सुरक्षित लौटा।

27 मार्च को जन्मे व्यक्ति

  • जर्मनीके एक भौतिकशास्त्री एवं गणितज्ञ वेलहेलम रोंटगन का 1845 में जन्म हुआ।
  • फ्रांसीसी लेखक स्टेफन वल का जन्म 1922 में हुआ।
  • एक प्रसिद्ध मानव विज्ञानी और नारीवादी विद्वान लीला दुबे का जन्म 1923 में हुआ।
  • भारतीय राजनीतिज्ञ बनवारी लाल जोशी का जन्म 1936 में हुआ।
  • फ्रांसीसी कवियों के अनुवादक और पत्रकारिता के प्रोफ़ेसर हेमन्त जोशी का जन्म 1954 में हुआ।

27 मार्च को हुए निधन 

  • भारतमें मुहम्मदन एंग्लो-ओरिएण्टल कॉलेज की और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की स्थापना करने वाले सर सैयद अहमद खान की 1898 में पुण्यतिथि।
  • ग़दर पार्टी के प्रमुख नेता पंडित कांशीराम का 1915 का निधन।
  • भूतपूर्व सोवियत संघ के विमान चालक और अंतरिक्षयात्री यूरी गागरीन का 1968 में का निधन।
  • भारतीय हिंदी सिनेमा की अभिनेत्री प्रिया राजवंश का 2000 में का निधन।
  • अमेरिकी गायक जॉनी मेस्त्रो का 2010 में का निधन।

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: