हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

मार्टिन लूथर किंग की हत्या क्यों हुई ?

अमेरिका में नागरिक अधिकारों के लिए लड़ने वाले आंदोलनकारी मार्टिन लूथर किंग जूनियर की आज ही के दिन 1968 में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

मार्टिन लूथर किंग को कई लोग अमेरिका का गांधी भी कहते हैं. उन्होंने अफ्रीकी अमेरिकी नागरिकों के अधिकारों के लिए अहम भूमिका निभाई. 1964 में उन्हें उनके प्रयासों के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

1955 में अलबामा में श्वेत यात्रियों के लिए अपनी सीट ना छोड़ने के लिए रोजा पार्क्स ने गिरफ्तारी दी. इसके साथ ही किंग उनके समर्थन में उतर आए और प्रसिद्ध बस आंदोलन चलाया. यह आंदोलन 383 दिनों तक चला और आखिरकार संघर्ष रंग लाया और 1956 में अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि एफ्रो-अमेरिकी अश्वेत नागरिक नगर निगम के किसी भी बस में कहीं भी बैठ सकते हैं.

किंग महात्मा गांधी और उनके सिद्धांतों से बेहत प्रेरित थे. 1959 में किंग ने भारत यात्रा की जिसे उन्होंने तीर्थयात्रा जैसा बताया था. उन्होंने कई बार कहा कि महात्मा गांधी के अहिंसा के सिद्धांत को वह आंखें खोल देने वाला मानते हैं.

4 अप्रैल 1968 को जब किंग अमेरिका के मेम्फिस शहर में सफाई कर्मचारियों की खराब परिस्थितियों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे थे, तभी उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई. उन पर गोली चलाने वाले जेम्स अर्ल रे को 99 साल की सजा सुनाई गई और 1998 में जेल में ही रे की मौत हो गई.

 

4 अप्रैल की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

  • स्विट्जरर्लैंड में बेसल यूनिवर्सिटी की 1460 में स्थापना।
  • उत्तरी जर्मनी के विस्मार पर रुस और प्रशिया की सेनाओं ने 1716 में कब्जा किया।
  • जेकब रोजरविन ने 1722 में पूर्वी आयरलैंड की खोज की।
  • अमेरिकी कांग्रेस ने 1818 में राष्ट्रध्वज में ’13 लाल और सफ़ेद स्ट्रिप्स तथा 20 सितारे’ शामिल करने को मंजूरी दी।
  • ह्ययूज रोज के नेतृत्व में ब्रिटिश सेना के साथ युद्ध करने के बाद 1858 में झांसी की रानी लक्ष्मीबाई झांसी से निकलकर काल्पी पहुंची और बाद में ग्वालियर की ओर चली गई।
  • कांगरा घाटी में 1905 में आये जबरदस्त भूकंप से लगभग 20000 लोगों की जान गई।
  • दार्शनिक श्री अरविन्दो पांडिचेरी (अब पुड्डुचेरी) पहुंचे जहां उन्होंने 1910 में योग और आध्यात्मिक केन्द्र खोला।
  • अमेरिकन सीनेट ने 1916 में प्रथम विश्व युद्ध में हिस्सा लेने को मंजूरी दी।
  • लीबिया के बेनगाजी शहर पर जर्मनी की सेना ने 1941 में कब्जा किया।
  • ब्रिटिश सेना ने 1944 में इथोपिया के आदिश अबाबा पर कब्जा किया।
  • उत्तरी अटलांटिक सैन्य संगठन (NATO) की 1949 में स्थापना हुई जो शीतयुद्ध के शुरुआती दौर का नतीजा थी।
  • अफ्रीकी देश सेनेगल ने 1960 में फ्रांस से स्वतंत्रता हासिल करने की घोषणा की।
  • बिल गेट्स और पॉल एलन के बीच 1975 में हुए समझौते के फलस्वरूप माइक्रोसॉफ्ट की स्थापना हुई।
  • पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री ज़ुल्फिकार अली भुट्टो को 1979 में फांसी की सजा दे दी गई।
  • अमेरिका के मानवाधिकार कार्यकर्ता मार्टिन लूथर किंग की 1968 में आज ही के दिन हत्या कर दी गई।
  • तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा द्वारा 1994 में तिब्बती बालक उग्येन थिनली दोरजी को नये कर्मापा के रूप में घोषणा।
  • क्रयशक्ति की क्षमता की दृष्टि से विश्व बैंक ने 1997 में भारत को विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश घोषित किया।
  • इराक के अपदस्थ राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन पर 2006 में नए आरोप लगे।
  • दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री मदन लाल खुराना ने 2008 में भाजपा सदस्यता स्वीकार किया।
  • पाकिस्तान की नई सरकार ने 2008 में सेना के ख़ुफिया प्रमुख के पद से मेजर जनरल नदीम को हटाया।
  • महाराष्ट्र के ठाणे में 2013 में अवैध रूप से निर्मित इमारत गिरने से तक़रीबन 80 लोग मारे गए।
  • छत्तीसगढ़ में 2013 में एक कुल्हाड़ी-हत्या कांड में नौ लोग मारे गए।

4 अप्रैल को जन्मे व्यक्ति

मशहूर हिन्दी कवि, लेखक, नाटककार और पत्रकार माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 1889 को मध्य प्रदेश में हुआ।

  • अमेरिकी संगीतकार एलमर बर्नस्टाइन का जन्म 1922 में हुआ।
  • भारत की मशहूर बॉलीवुड अभिनेत्री परवीन बॉबी का जन्म 1949 में गुजरात के जुनागढ़ में हुआ।
  • भारतीय अभिनेत्री एवं फैशन मॉडल लीसा रे का जन्म 1972 में हुआ।
  • अंग्रेजी फिल्मों के एक अभिनेता हीथ लैजर का जन्म 1979 में हुआ।

4 अप्रैल को हुए निधन

हिन्दी के सुप्रसिद्ध साहित्यकार सच्चिदानंद हीरानन्द वात्स्यायन “अज्ञेय” का 1987 में निधन।

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: