हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...
गांव को कि या शहर, दिया जले हर एक घर
दिया जले नगर नगर दिया जले डगर डगर
जात हो न पात हो, दिल से दिल की बात हो
प्यार की सौगात हो जुल्म की न रात हो
न युद्ध न उन्माद हो, न द्वेष अंधकार हो
न घात न प्रतिघात हो, मोहब्बतों की बात हो
दिया जले नगर नगर दिया जले डगर डगर
न मज़हबी जुनून हो,
न नफ़रती फरमान हो
अमन चैन शांति हो, सुखी हरेक प्रांत हो
पनघटो का मान हो
श्रम का सम्मान हो
ज्ञान का विहान हो
शास्त्र मत विधान हो
स्नेह का दिया जले, नेह का दिया जले
दिया जले नगर नगर दिया जले डगर डगर
मनुष्यता का मूल्य हो, स्त्री मात्र तुल्य हो
समग्र सृष्टि शांति हो न मन में कोई भ्रांति हो
दीया जले विकास का यकीन का विश्वास का दिशा दिशा प्रकाश हो
न कोई न निराश हो
सत्य ज्योत हो प्रखर समृद्ध हो हर एक नर
दिया जले नगर नगर दिया जले डगर डगर
 
– अमर त्रिपाठी

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: