हिंदी विवेक : we work for better world...
आई दीवाली मंगलदाई,
आनंद छाया घर-घर में,
नगर पधारे प्रभु श्रीराम,
झूम उठा है सब संसार
पहला दिन धनतेरस का,
धन की पूजा करने का,
सजी रंगोली आंगन में,
दीप जले हैं हर घर में
नरकासुर था अति बलवान,
बंदी थी नारी कुलवान,
आये छुड़ाने कृष्ण भगवान,
नरकचतुर्दशी पर्व महान
दीपावली का दिन आया,
खुशियां सारी ये लाया
लक्ष्मीजी का वर पाया,
फूटे फटाके आंगन में
विष्णु ने बटुरूप लिया,
बलिराजा पाताल गया,
प्रभु की ये सारी माया,
प्रतिपदा का दिन आया
भैयादूज का दिन प्यारा,
भाई-बहन का स्नेह न्यारा,
घर आया भैया प्यारा,
जगमग-जगमग जग सारा
-सौ.उषा पाठक, पर्वरी

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu