हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

 हमले से दहला अमेरिका

विश्व के सबसे ताकतवर देश अमेरिका में घर में ही पैदा हुए कुछ सिरफिरों ने अपनी बंदूक से ना जाने कितने मासूमों का खून बहाया होगा. ऐसी ही एक घटना 20 अप्रैल 1999 की है. जब 2 लड़कों ने 13 लोगों की हत्या कर दी.

आज ही के दिन अमेरिका के राज्य कोलाराडो के कोलंबाइन हाई स्कूल में दो छात्रों ने अंधाधुंध फायरिंग कर 13 छात्रों को मौत के घाट उतार दिया था. एरिक हैरिस और डिलेन क्लेबोल्ड ने 20 अप्रैल 1999 के दिन सुबह 11.20 बजे अपने स्कूल के बाहर खड़े छात्रों पर फायरिंग शुरू कर दी. उसके बाद दोनों छात्र स्कूल के भीतर दाखिल हो गए और स्कूल परिसर में मौजूद छात्रों पर कहर बरपाने लगे. दोपहर करीब तीन बजे जब पुलिस की स्वाट टीम के अधिकारी स्कूल परिसर पहुंचे, तब तक हैरिस और क्लेबोल्ड 12 छात्रों और एक शिक्षक की हत्या कर चुके थे. दोनों की गोलीबारी में 23 और लोग जख्मी हुए थे. साथी छात्रों को मौत के घाट उतारने के बाद दोनों ने खुद को भी गोली मार ली. हैरिस और क्लेबोल्ड ने कैफेटेरिया में दो धमाके करने की योजना बनाई थी जिसके बाद छात्र बाहर की तरफ भागते और उनकी गोलियों के शिकार हो जाते. लेकिन घर में बनाया गया बम फटा नहीं और दोनों को स्कूल के भीतर जाकर इस खूनी साजिश को अंजाम देना पड़ा.

बाद में आलोचकों ने यह भी सवाल उठाए कि ‘द ट्रेंचकोट माफिया’ और ‘गोथ्स’ जैसे संगठन और गिरोह पर कड़ी निगरानी क्यों नहीं रखी जाती. हालांकि आगे की पड़ताल से यह मालूम हुआ कि हैरिस और क्लेबोल्ड दोनों में से कोई भी इन संगठनों का सदस्य नहीं था.

1999 में ही कोलंबाइन हाई स्कूल दोबारा खुल गया लेकिन उस घटना के जख्म भरे नहीं थे. हैरिस को बंदूक बेचने वाले और 100 राउंड गोली सप्लाई करने वाले मार्क मनेस को 6 साल की सजा हुई. गोलीबारी की घटना में मारे गए छात्रों के अभिभावकों के लिए अगले कुछ साल बहुत कष्ट भरे गुजरे. गोलीबारी में घायल होने के बाद लकवे के शिकार एक छात्र की मां ने बंदूक की दुकान में खुदकुशी कर ली. हालांकि इस घटना के सालों बाद अमेरिका के स्कूल और कॉलेज सुरक्षित नहीं हो पाए हैं. कई बार सनकी हमलावर आसानी से मिलने वाले हथियार की बदौलत मासूमों को अपना शिकार बनाते आए हैं. साल 2007 में एक बार फिर एक ऐसी ही घटना वर्जीनिया में घटी. वर्जीनिया के स्कूल में एक छात्र ने अंधाधुंध फायरिंग कर 32 लोगों की जान ले ली थी. हालांकि पिछले कुछ समय से अमेरिका में बंदूक संस्कृति पर लगाम लगाने की कोशिश की जा रही है. लेकिन अब तक इस पर पूरी तरह से सफलता नहीं मिल पाई है.

 

20 अप्रैल की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

  • जहांदर शाह 1712 में दिल्ली की गद्दी पर बैठा।
  • न्यूयॉर्क ने 1777 में एक स्वतंत्र राज्य के रूप में नया संविधान अपनाया।
  • उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में 1888 में ओले गिरने से 246 लोगों की मौत।
  • अलबामा और मिसीसीपी में 1920 में आये तूफान से 220 लोगों की मौत।
  • जर्मनी में तानाशाह एडोल्फ हिटलर के 50वें जन्मदिन को 1939 में राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाया गया।
  • सन 1940 में आरसीए द्वारा पहला इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप दिखाया गया था।
  • कोरिया और संयुक्त राष्‍ट्र सेना के बीच 1953 में बीमार युद्ध बंदियों का आदान प्रदान हुआ था।
  • एयर इंडिया के बेड़े में 1960 में पहला जेट विमान बोइंग 707 शामिल हुआ।
  • भारत ने 1971 में अपना पहला टेस्ट क्रिकेट मैच जीता।
  • अपोलो-16 अभियान 1972 में छह घंटों तक संकट से जूझने के बाद चंद्रमा पर उतर गया। जॉन यंग और चार्ल्स ड्यूक की टीम चंद्रमा पर उतरने वाली इतिहास की पांचवीं टीम बनी।
  • कनाडा का “एएमआईके ए-2” 1973 में पहला व्यावसायिक उपग्रह बना।
  • सोवियत वायुसेना ने 1978 में दक्षिण कोरियाई यात्री विमान संख्या 902 पर गोलीबारी करके उसे गिराया।
  • दुनिया का सबसे बड़ा मेला 1992 में एक्सपो ’92, सेविले, स्पेन में खोला गया।
  • श्री इन्द्र कुमार गुजराल 1997 में भारत के 12वें प्रधानमंत्री बने।
  • जर्मनी के पूर्व चांसलर हेल्मुट कोल को 1999 में अमेरिकी सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘द प्रेसिडेंशियल मेडल आॅफ फ्रीडम’ से सम्मानित।
  • 1999 में अमरीकी नगर डेनवर के कोलंबाइन स्कूल में हाई स्कूल के दो छात्रों ने अंधाधुँध गोलीबारी में 25 लोगों को मार दिया था।
  • भारत ने 2006 में अपना पहला विदेशी सैन्य अड्डा ताजिकिस्तान में स्थापित करने की घोषणा की।
  • महाराष्ट्र भाजपा के नेता व राष्ट्रीय महासचिव गोपीनाथ मुण्डे ने 2008 में अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया था।
  • अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर नौ दिन बिताने के बाद 2008 में पहले दक्षिण कोरियाई अंतरिक्ष यात्री यीसोयओन पृथ्वी पर सकुशल लौटे।
  • भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के उपग्रह प्रक्षेपण यान ‘पीएसएलवी’ ने 2011 में तीन उपग्रहों को सफलतापूर्वक अंतरिक्ष में स्थापित किया।
  • अमेरिकी मीडिया ने 2012 में भारत के अग्नि-5 मिसाइल के सफल परीक्षण पर कहा है कि इससे भारत को उसके पड़ोसी देश चीन के बराबर में खड़ा कर दिया है।

20 अप्रैल को जन्मे व्यक्ति

  • अंग्रेजी के प्रसिद्ध कवि जॉन इलियट का जन्म 1592 में हुआ।
  • उर्दू के जनक मौलवी अब्दुल हक का 1878 में जन्म।
  • जर्मन तानाशाह एडोल्फ हिटलर का 1889 में जन्म हुआ।
  • उड़िया भाषा के प्रसिद्ध साहित्यकार गोपीनाथ मोहंती का जन्म 1914 में हुआ।
  • प्रसिद्ध भजन गायिका जुथिका रॉय का जन्म 1920 में हुआ।
  • एक लेखक होने के साथ-साथ उत्कृष्ठ कोटि के अनुवादक चन्द्रबली सिंह का जन्म 1924 में हुआ।
  • प्रसिद्ध राजनेता एवं आंध्र प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू का जन्म 1950 में हुआ।
  • मेघालय के मुख्यमंत्री मुकुल संगमा का जन्म 1965 में हुआ।
  • भारतीय अभिनेत्री ममता कुलकर्णी का जन्म 1972 में हुआ।

20 अप्रैल को हुए निधन

  • प्रसिद्ध बांसुरी वादक पन्नालाल घोष का 1911 में निधन।
  • 1912 में आयरिश उपन्यासकार ब्रैम स्टोकर का निधन।
  • 1947 में भारत के प्रसिद्ध इतिहासकार गौरीशंकर हीराचंद ओझा का निधन।
  • 1960 में भारत के प्रसिद्ध बाँसुरी वादक पन्नालाल घोष का निधन।
  • 1970 में भारतीय गीतकार और शायर शकील बदायूँनी का निधन।
  • 2004 में राजस्थान के ऐसे व्यक्ति, जो राजस्थानी लोक गीतों व कथाओं आदि के संकलन एवं शोध हेतु समर्पित कोमल कोठारी का निधन।
  • 1970 में भारतीय गीतकार और शायर शकील बदायूँनी का निधन हुआ।

20 अप्रैल के महत्वपूर्ण दिवस

डॉ. हैनीमेन जन्‍म दिवस (होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति के जन्मदाता)

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu
%d bloggers like this: