हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बहुमतों से 2014 में भाजपा की सरकार बनी और विपक्षियों की करारी हार हुई,जिसे वे पचा नहीं पा रहे हैं। वंशवादी राजघराने की तरह राजनैतिक पार्टियां चलाने वाले सभी विपक्षी पार्टियों के नेताओं की दुकान मोदी लहर में डूब गई। इनमें से एक है राज साहेब ठाकरे। जो लोकसभा चुनाव के दौरान घूमघूम कर कांग्रेस-राकां के समर्थन में और भाजपा को हराने के लिए जनसभा कर रहे है। इस पर चुटकी लेते हुए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि राज ठाकरे की जनसभा कांग्रेस-राकां का स्पोंसोर्ड कार्यक्रम है। शरद पवार ने मनसे का इंजन किराए पर लिया है लेकिन उन्हें पता होना चाहिए कि मुंह की भांप से इंजन नहीं चलता। वहीं दूसरी ओर मनसे के कुछ पदाधिकारी-कार्यकर्ता राज की बातों से सहमत नहीं है और वे सभी कह रहे हैं कि जिनके खिलाफ हमें लड़ने के लिए खड़ा किया गया था अब उनके समर्थन में हम नहीं जा सकते। क्या सच में परदे के पीछे से मनसे का गठबंधन कांग्रेस-राकां से हो गया है? क्या राज ठाकरे की जनसभा कांग्रेस-राकां का स्पोंसर्ड कार्यक्रम है ? अपनी बेबाक राय दे 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu
%d bloggers like this: