हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

: नाजियों का नर्कमयी यातना शिविर

आज के दिन एक ऐसी घटना हुई जिसे इतिहास में काले अक्षरों में लिखा गया.

27 अप्रैल 1940 में नाजियों ने पोलैंड के ओस्वीसिम में यातना शिविर का निर्माण शुरू किया. इसे आउश्वित्स के नाम से जाना जाने लगा और इसे बनाने के आदेश वरिष्ठ नाजी अफसर हाइनरिष हिमलर ने दिए. आउश्वित्स के दरवाजे पर “आरबाइट माख्ट फ्राई” लिखा गया था, जिसका अर्थ है “मेहनत आजाद करती है.”

आउश्वित्स में तीन बड़े कैंप थे जिनमें पांच शवदाह केंद्र थे. इस यातना शिविर में करीब 11 लाख बंदियों को मारा गया लेकिन कुछ अनुमानों के मुताबिक मारे गए लोगों की संख्या 20 लाख तक हो सकती है. इनमें से ज्यादातर बंदी यहूदी थे. ज्यादातर कैदियों को सिक्लोन बी नाम की जहरीली गैस से खास कमरों में मारा गया लेकिन कई कैदी भूख और कड़ी मजदूरी की वजह से अपनी जान खो बैठे. इस शिविर में नाजियों ने कई बर्बर प्रयोग भी किए.

पहले तो आउश्वित्स में जर्मनी का विरोध कर रहे पोलैंड के निवासियों को कैद करने की बात थी. लेकिन 1941 में हिमलर ने तय किया कि यह यातना शिविर यूरोप में रह रहे सारे यहूदियों को खत्म करने का काम करेगा. इस सिद्धांत को “अंतिम निपटारा” का नाम दिया गया और इसके तहत यूरोप भर से यहूदियों को जमा कर उन्हें मारने की योजना बनाई गई और इसे अमल में भी लाया गया.

पश्चिमी मित्र देशों के जर्मनी पर हमले के बाद आउश्वित्स को यहूदियों को दी गई यातना की याद में स्मारक घोषित किया गया.

 

27 अप्रैल की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

  • मुगल साम्राज्य का शासक बाबर ने 1526 में दिल्ली के सुल्तान को पराजित कर नया बादशाह बना।
  • नीदरलैंड और फ्रांस ने 1662 में सैन्य संधि पर हस्ताक्षर किये।
  • मुगल शासक मुहम्मद शाह का 1748 में दिल्ली में निधन हुआ।
  • अमेरिकी नौसैनिकों ने 1805 में त्रिपोली के तटीय क्षेत्रों में हमला किया।
  • कलकत्ता विश्वविद्यालय ने महिलाओं को विश्वविद्यालय शिक्षा के क्षेत्र में पात्रता के लिये 1878 में पहली मंजूरी दी।
  • सन 1908 में लंदन में चौथे ओलंपिक खेल शुरू हुए।
  • नाजियों ने 1940 में पोलैंड के ओस्वीसिम में यातना शिविर का निर्माण शुरू किया।
  • द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जर्मनी की सेना ने 1941 में एथेंस में प्रवेश किया।
  • अमेरिका के आेकलाहोमा प्रांत में 1942 में आये तूफान के कारण 100 लोग मारे गये।
  • नेशनल डिफेंस कॉलेज की 1960 में नयी दिल्ली में स्थापना।
  • अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने गामा किरणों के अध्ययन के लिये 1961 में पृथ्वी की कक्षा में ‘एक्सप्लोरर 11’ लांच किया।
  • सिएरा लियोन ने 1961 में ब्रिटेन से स्वाधीनता की घोषणा की।
  • क्यूबा के तत्कालीन प्रधानमंत्री फिदेल कास्त्रो 1963 में रूस की अपनी यात्रा के दौरान राजधानी मॉस्को पहुंचे।
  • अमेरिका ने 1967 में नेवादा परीक्षण स्थल पर परमाणु परीक्षण किया।
  • अंतरिक्ष यान ‘अपोलो 16’ 1972 में पृथ्वी पर वापस लौटा।
  • सन 1989 में बांग्लादेश में आये तूफान से 500 लोगों की मौत।
  • अफगानिस्तानी विमान ‘एएनएस 32’ 1993 में दुर्घटनाग्रस्त होने से 76 लोगों की मौत।
  • 1994 को दक्षिण अफ्रीका का स्वतंत्रता दिवस।
  • टुलुज (फ़्रांस) में एयरबस निर्मित दुनिया के सबसे बड़े विमान ए-380 ने 2005 में पहली परीक्षण उड़ान भरी।
  • पाकिस्तान ने 2008 में अपने विदेश सचिव रियाज मुहम्मद ख़ान को बर्ख़ास्त कर उनके स्थान पर चीन में पाकिस्तान के राजदूत सलमान बशीर को विदेश सचिव नियुक्त किया।
  • यूनीक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (यूआईडीएआई) ने 2010 में भारत के नागरिकों की पहचान का एक बड़ा सबूत बनने जा रहे यूनीक आइडेंटिफिकेशन नंबर को अब नया ब्रांड नाम ‘आधार’ तथा नया लोगो पेश किया।
  • अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने जन्म को लेकर हुए विवाद के बाद 2011 में सार्वजनिक तौर पर जन्म प्रमाण पत्र की एक प्रति जारी की।

27 अप्रैल जन्मे व्यक्ति

प्रसिद्ध शिक्षाविद, दार्शनिक तथा समाजशास्त्री हरबर्ट स्पेन्सर का 1820 में जन्म हुआ।

  • महान अभिनेत्री जोहरा सहगल का 1912 में जन्म हुआ।
  • प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी मनीभाई देसाई का 1920 में जन्म हुआ।
  • अमेरिकी अभिनेता (द ऑड कपल ऐंड क्विंज़ी, मी) जैक क्लगमैन का 1922 में जन्म हुआ।
  • भारत के सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश पी. सतशिवम का 1949 में जन्म हुआ।
  • उत्तराखंड के सातवें मुख्यमंत्री हरीश रावत का 1947 में जन्म हुआ।

27 अप्रैल हुए निधन

  • 1930 में केरल के प्रसिद्ध समाज सुधारक टी. के. माधवन का निधन।
  • 1960 में बंगाली लेखक राजशेखर बसु का निधन।
  • 1998 में वियतनाम की कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव गुयेन वैन लिंह का निधन।
  • 2009 में हिंदी फिल्म अभिनेता, निर्देशक और निर्माता फिरोज खान का निधन।
  • 2010 में उड़िया फिल्म अभिनेता हेमंत दास का निधन।
  • लम्बे समय से कैंसर से पीड़ित हिन्दी फ़िल्म अभिनेता विनोद खन्ना का 70 वर्ष की आयु में 2017 में निधन।

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: