हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...
सीजेआई रंजन गोगोई पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोप के बाद से पूरी कानूनी प्रक्रिया ही कटघरे में आ गई हैं। लोग सवाल उठा रहे हैं कि जब कानून सबके लिए समान होता हैं तब सुप्रीम कोर्ट के जज के लिए विशेष सुविधा क्यों दी जा रहीं हैं ? यौन शोषण का आरोप लगते ही सर्वप्रथम मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार किया जाता हैं फिर जांच प्रक्रिया आगे बढ़ाई जाती हैं ना कि शिकायतकर्ता के आरोपों की जांच की जाती हैं। एक कहावत मशहूर हैं कि “कानून से बड़ा कोई नही होता” लेकिन इस मामले से स्पष्ट होता हैं कि कानून से बड़ा भी होता हैं। कानून सभी के लिए समान नही हैं, कानून के साथ भेदभाव भी होता हैं और आम आदमी के लिए बहुत ही सख्त तथा विशिष्ट लोगों के लिए कानून लचीला होता हैं। आखिर क्या कारण है कि सुप्रीम कोर्ट के जज इस मामले में काफी हो-हल्ला मचा रहे हैं और आग बबूला हो रहे हैं।कहीं चोर के दाढ़ी में तिनका तो नहीं ? यदि आरोप लगे हैं तो निष्पक्ष व स्वतंत्र जांच होने दीजिए, इससे दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा।बता दें कि सुप्रीम कोर्ट की पूर्व कर्मचारी एक महिला ने सीजेआई पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया हैं।गौरतलब हैं कि बेंच फिक्सिंग, भ्रष्टाचार आदि आरोप न्यायालयों पर लगते रहें हैं।क्या सीजेआई रंजन गोगोई पर लगें आरोपों की स्वतंत्र व निष्पक्ष जांच की जानी चाहिए ? अपनी बेबाक राय दे 

This Post Has One Comment

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: