हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

 

जीने का जितना अधिकार मानव को है, उतना ही तमाम जीवों को है। हमें इस बात को ध्यान में रखकर जीवरक्षा करनी है। भारतमाता को बचाने के लिए हमें जीवमात्र की रक्षा करनी ही होगी। उक्त बातें केंद्रीय परिवहन, शिपिंग, केमिकल – फर्टिलाइजर मंत्री मनसुखभाई मांडविया ने समस्त महाजन द्वारा आयोजित त्रिदिवसीय जीवदया प्रेमी सम्मेलन के समापन समारोह में जीवदया के कार्य करने वाली अनेक संस्थाओं, पांजरापोल, तथा अन्य संस्थाओं के सम्मान एवं अनुदान दिए जाने के दौरान कही।
 

सनद रहे २२ दिसम्बर से २४ दिसम्बर तक चलने वाले कार्यक्रम के की शुरुआत मणिलक्ष्मी तीर्थ से हुई। वहां से सभी सदस्य जीवदया संस्था द्वारा किए गए मेहनत के कारण बंजर जमीन से हरित व श्यामला बन चुके धर्मज गांव पहुंचे जहां पर गांव के राजेशभाई पटेल ने पिछले चार दशकों में गांव की कायापलट के लम्बे सफर का ब्यौरा दिया। गौसेवा, जीवदया प्रकृति सेवा से धर्मज आर्थिक प्रगति, प्रदूषण और अपराधों से मुक्ति पा चुका है। उसी दिन उत्तारार्ध में धोलेरा के पीपली गांव स्थित गोकुलधाम की भी जानकारी ली गई।

 

कार्यक्रम के दूसरे दिन अहमदाबाद के ओगणज में आए जैन तीर्थ पर परिसंवाद हुआ। दोपहर के पश् ‍ चात सभी लोग अहमदाबाद की बंशी गोर गौशाला में गए जो कि केंद्र सरकार द्वारा सर्वोत्कृष्ट गौशाला के रूप में सम्मानित है। सम्मेलन के अंतिम दिन भाजपा के वरिष्ठ नेता भूपेंद्रसिंह चूड़ासमा बालवीर फेम देव जोशी भी उपस्थित थे। कार्यक्रम के अंत मे ंसंस्था के अध्यक्ष गिरीशभाई शहा ने आयोजन की सफलता और उपयोगिता के बारे में संतोष जताया।

 

कार्यक्रम में एनिमल वेलफेयर बोर्ड ऑफ इंडिया के चेयरमैन एस . पी . गुप्ता, उनकी धर्मपत्नी शशि गुप्ता, गुजरात गौसेवा और गौचर विकास बोर्ड के चेयरमैन वल्लभभाई कथीरिया, सेबी के सलाहकार सुनीलभाई शर्मा, उत्तर प्रदेश गौसेवा और गौचर आयोग के महासचिव प्रतीक सिंह सहित ४०० से अधिक संस्थाओं के ६६५ प्रतिनिधियों के अलावा तमाम जीवदया प्रेमी उपस्थित रहे।

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: