हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

07 मई : कला की विभूति रविंद्रनाथ टैगोर

आधुनिक भारत के निर्माण में अपने साहित्य द्वारा प्रमुख भूमिका निभाने वाले बांग्ला कवि, नाटककार, दार्शनिक, साहित्यकार और चित्रकार रबींद्रनाथ टैगोर का जन्म आज ही के दिन हुआ था.

रबींद्रनाथ टैगोर का जन्म कलकत्ता में एक संपन्न बांग्ला परिवार में 7 मई 1861 को हुआ. वह एशिया से पहले व्यक्ति थे जिन्हें नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया. यह सम्मान उन्हें उनकी काव्य रचना गीतांजलि के लिए 1913 में मिला.

उनके लिखे हुए गीत बेहद मशहूर हुए, जिन्हें अब रबींद्र संगीत के नाम से जाना जाता है. टैगोर ने दो हजार से ज्यादा गीतों की रचना की. हालांकि उन्हें कला के क्षेत्र में कोई औपचारिक शिक्षा नहीं मिली थी लेकिन कला में उनकी असीम रुचि ने उन्हें इस क्षेत्र में आगे बढ़ने का मौका दिया.

बांग्ला साहित्य के माध्यम से उन्होंने भारतीयों में भी आधुनिकीकरण का संचार किया. हालांकि वह कानून की पढ़ाई पढ़ने इंग्लैंड गए लेकिन 1880 में बिना डिग्री लिए ही वापस आ गए. बचपन से ही उनका रुझान कला की ओर था. उन्होंने पहली कविता मात्र आठ साल की उम्र में लिखी.

भारत के राष्ट्रगान जन गण मन को लिखने वाले रबींद्रनाथ टैगोर ही हैं. इसके अलावा बांग्लादेश का राष्ट्रगान भी उन्हीं की रचना है. उन्होंने कई किताबों का अंग्रेजी में अनुवाद भी किया जिससे उन्हें अंतरराष्ट्रीय ख्याति भी मिली.

 

7 मई की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ –

  • काॅर्नलीस एस गोयर ने 1638 में मॉरिशस पर कब्जा किया।
  • लंदन में ‘रॉयल’ नाम का पहला थियेटर 1663 में खुला।
  • फ्रांसके सम्राट लुई चौदहवें ने 1664 में ‘वर्साय पैलेस’ का उद्घाटन किया।
  • रूस की महारानी कैथरीन प्रथम ने 1727 में यूक्रेन से यहूदियों को बाहर करने का आदेश दिया।
  • तुर्की राज्य बुकोविना 1775 में आस्ट्रिया से अलग हुआ।
  • अमेरिकामें इंडियाना प्रांत का 1800 में गठन किया गया।
  • यूनान 1832 को स्वतंत्र गणराज्य बना।
  • सिसली द्वीप के पास 1875 में जर्मनी का जहाज डूबा, जिसमें 312 लोग मारे गए।
  • रूस के पितेरबुर्ग (सेण्ट पीटर्सबर्ग) नगर में एक इलैक्ट्रिक इंजीनियर अलेक्सान्दर पपोफ़ ने रेडियो की तरह के एक उपकरण का प्रदर्शन 1895 में किया था।
  • बम्बई में पहली इलेक्ट्रिक ट्राम कार का संचालन 1907 में हुआ।
  • फिलीपींस में 1934 में विश्व में सबसे बड़े आकार का मोती प्राप्त हुआ।
  • विस्टन चर्चिल 1940 में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बने।
  • इंटीग्रेटेड सर्किट का कॉन्सेप्ट पहली बार जेफ्री डमर ने 1952 में प्रकाशित किया।
  • अरुणाचल प्रदेशकी नई राजधानी की आधारशिला 1973 को ईटानगर में रखी गई।
  • अमेरिकाने वियतनाम युद्ध के समाप्ती की 1975 में घोषणा की।
  • एलेक्ज़ेंडर ग्राहम बेल को 1976 में अपने आविष्कार का पेटेंट मिला जिसे उन्होंने “टेलीफ़ोन” (दूरभाष) का नाम दिया।
  • भारतीय मूल के लेखक सलमान रश्दी के ख़िलाफ़ ईरानी फ़तवे के बाद 1989 में ब्रिटेन और ईरान के बीच राजनयिक सम्पर्क टूट गया।
  • स्काटलैंड संसदीय चुनावों में लेबर पार्टी को 1999 में सफलता मिली।
  • ब्लादिमीर पुतिन ने 2000 को रूस के 10वें राष्ट्रपति के रूप में कार्यभार सम्भाला।
  • पूर्वोत्तर ईरान में 2001 में बाढ़ आयी।
  • गुजरातकी हिंसा पर अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता आयोग ने 2002 में गम्भीर चिंता जताई।
  • नेपालके प्रधानमंत्री सूर्य बहादुर थापा ने 2004 में इस्तीफ़ा दिया।
  • पाकिस्तानने परमाणु क्षमता से लैस मिसाइल हत्फ़-8 का परीक्षण 2008 में किया।

7 मई को जन्मे व्यक्ति –

  • नोबेल पुरस्कारप्राप्त बांग्ला कवि, कहानीकार, गीतकार, संगीतकार, नाटककार, निबंधकार रबीन्द्रनाथ टैगोर ( ठाकुर )का जन्म 1861 में हुआ।
  • महान् भारतीय संस्कृतज्ञ और विद्वान् पंडित पांडुरंग वामन काणे का जन्म 1880 में हुआ।
  • प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी तथा ‘हिन्दुस्तानी सेवादल’ के संस्थापक एन. एस. हार्डिकर का जन्म 1889 में हुआ।
  • गुजराती भाषा के जानेमाने साहित्यकार पन्नालाल पटेल का जन्म 1912 में हुआ वो थे।
  • भारतीय जनता पार्टी के राजनीतिज्ञों में से एक केशव प्रसाद मौर्य का जन्म 1968 में हुआ।

7 मई को हुए निधन –

  • प्रसिद्ध दक्षिण भारतीयस्वतंत्रता सेनानी अल्लूरी सीताराम राजू का निधन 1924 में हुआ।
  • हिंदी सिनेमा जगत् के मशहूर गीतकार प्रेम धवन का निधन 2001 में हुआ।

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: