हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

कमल हासन के एक बयान के बाद यह बहस छिड़ गई है कि आजाद भारत का पहला आतंकी कौन था ? इस पर अब विवाद गहराता जा रहा है और सोशल मीडिया पर प्रतिक्रियाओं की बाढ़ सी आई हुई है। दरअसल हासन ने कहा था कि आजाद भारत का पहला हिन्दू आतंकी नाथूराम गोडसे था। जिसके जवाब में लोगों ने कहा कि यदि क्राइम व आतंक में फर्क समझ में नहीं आता और इतिहास की जानकारी न हो तो टिप्पणी नहीं करना चाहिए। आजाद भारत का पहला आतंकी मुस्लिम मुहम्मद अली जिन्ना था। जिसने भारत के आजाद होते ही एक अलग इस्लामिक पाक देश बनाने हेतु व  देश के टुकड़े करने के लिए डायरेक्ट एक्शन का एलान किया और जिसके निर्देश पर करोड़ो मुसलमानों ने देश से गद्दारी कर दंगे-फसाद शुरू कर दिए। जिसमें लाखों की संख्या में भारतवासियों का कत्लेआम किया गया था। इसके अलावा भारत पर पहला इस्लामिक आक्रमण करने वाला मोहम्मद गौरी भी मुस्लिम आतंकी था। जगजाहिर है कि वर्तमान समय में भी इस्लामिक जिहादी हमला करनेवाले भी मुस्लिम आतंकी ही है। बता दें कि आतंक को धर्म से जोड़ने के कारण सोशल मीडिया पर लोगों ने वास्तविक इतिहास बताकर हासन को आइना दिखाया है। अब जनता ही बता रहीं है कि आजाद भारत और इसके पूर्व पहला आतंकी हमला करनेवाला कौन था ? क्या भारत देश के टुकड़े करने वाला और डायरेक्ट एक्शन में हिंदुओं को मौत के घाट उतारनेवाला मोहम्मद अली जिन्ना आजाद भारत का पहला आतंकी था या गांधी का वध करनेवाला नाथूराम गोडसे ? अपनी बेबाक राय दे 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: