हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...
इस्लामिक आतंकवादी हमला होने के बाद से ही श्रीलंका सरकार ने मुसलमानों के प्रति कठोर रुख अपना लिया है। सबसे पहले सुरक्षा की दृष्टि से बुर्के पर बैन लगाया गया और उसके बाद 200 मौलवियों सहित कुल 600 विदेशी नागरिकों को देश से निष्कासित कर दिया। बताया जा रहा है कि इनमें से 100 मौलवी भारतीय है। संभावना जताई जा रहीं है कि भारतीय मौलाना अपने साथ ही अन्य विदेशियों को भी भारत में घुसाने के प्रयास में है। कट्टर जिहादी मानसिकता से लबरेज मुस्लिम मौलवी सुरक्षा व शांति के लिए खतरा हो सकते है। जानकारों ने बताया है कि अधिकतर विदेशी नाव के सहारे मछुवारों के रूप में केरल,कन्याकुमारी में घुसपैठ कर रहें है और उन्हें भारतीय मुसलमान अपने यहां पनाह भी दे रहे है। ऐसी स्थिति में भारत सरकार सुरक्षा की दृष्टि से क्या कदम उठाएगी ? इस पर उसे अपना रुख स्प्ष्ट करना चाहिए। रक्षा विशेषज्ञों की राय है कि भारत सरकार तत्काल ठोस रणनीति बनाकर इन्हें घुसपैठ करने से रोके वर्ना जिहादी लोग भारत में भी समाज के भीतर जहर फैलाने का कार्य करेंगे। क्या भारत सरकार श्रीलंका से निकाले गए मुल्ला – मौलवियों को भारत आने से रोक पाएगी और भारत की सुरक्षा व शांति सुनिश्चित कर पाएगी ? अपनी बेबाक राय दे 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu