हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

: भारत में औद्योगिक क्रांति के जनक

19 मई 1904 को भारत के पहले उद्योगपतियों में से एक, जमशेदजी नुसरवानजी टाटा की मौत हो गई. 3 मार्च 1839 में पैदा हुए जमशेदजी ने भारत में बड़े कारोबार की नींव रखी.

आज टाटा भारत की सबसे बड़ी संगठित यानी कोनग्लोमरेट कंपनियों में से है जो साबुन से लेकर ट्रकें और सॉफ्टवेयर बनाता है.
टाटा के बिना भारत- सोचने में भी अजीब लगता है. उन्होंने सूत के मिलों से अपने उद्योग की शुरुआत की. उस वक्त पूंजी के तौर पर उनके पास 21,000 रुपये थे. जमशेदजी की जिंदगी के चार मकसद थे, इस्पात की फैक्ट्री खोलना, एक विश्व स्तर का शिक्षा संस्थान स्थापित करना, एक होटल और एक हाइड्रो बिजली प्लांट बनाना.
इस्पात और लोहे में जमशेदजी की दिलचस्पी तब जागी जब वह मैंचेस्टर में अपनी मिल के लिए नई मशीनें लेने गए. यात्रा में उन्होंने थोमास कार्लाईल का एक भाषण सुना. कार्लाईल उस वक्त एक मशहूर लेखक और इतिहासकार थे. इसके बाद जमशेदजी भारत में एक विश्व स्तर का इस्पात प्लांट बनाने का सपना देखने लगे. भारत में उस वक्त राजनीतिक हालात बहुत अच्छे नहीं थे और 1857 की क्रांति के बाद ब्रिटिश सरकार भारतीयों पर निगरानी और कड़ी कर रही थी.
वहीं औद्योगिक क्रांति पूरे यूरोप को उबार रही थी लेकिन भारत प्राचीन काल में ही फंसा रहा. जमशेदजी उन लोगों में से थे जो भारत के विकास के सपने देख रहे थे. उद्योगपति होने के साथ साथ जमशेदजी को यह भी अहसास था कि देश में नई प्रतिभाओं को ढूंढने की जरूरत है और बचपन से उनके हुनर को पहचानकर उसे बेहतर करने के लिए उन्होंने शिक्षा संस्थानों की भी स्थापना की.
जमशेदजी का होटल बनाने का भी सपना था. कहा जाता है कि वे एक बार मुंबई के होटल में जाना चाहते थे लेकिन उन्हें भारतीय होने की वजह से वहां जाने से रोक दिया गया. उसी वक्त उन्होंने फैसला किया कि वे ऐसे शानदार होटल बनाएंगे, जिनमें हर तरह का ऐशो आराम होगा और जहां कोई भी भारतीय आ सकेगा. ताज महल होटल जमशेदजी का ही सपना था जो पूरा हुआ.

 

19 मई की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ 

  • मिग्यूल लोपेज डी जगाज्पी ने 1571 में फिलीपींस की राजधानी मनीला की स्थापना की।
  • रूसी सेना 1792 को पोलैंड में दाखिल हुई।
  • दुनिया का पहला डिपार्टमेंटल स्टोर 1848 में खुला।
  • बहुचर्चित नाटककार और कवि ऑस्कर वाइल्ड जेल से 1892 में रिहा किए गए।
  • दुनिया की उस समय की सबसे बड़ी रेल सुरंग 1900 में सिंपलन यात्रियों के लिए खुली।
  • बेनितो मुसोलिनी ने 1926 में इटली को फांसीवादी राष्ट्र घोषित किया।
  • श्वेत महिलाओं को 1930 में दक्षिण अफ्रीका में वोट देने का अधिकार प्राप्त हुआ।
  • रूस और ब्रिटेन ने 1939 को नाजी विरोधी समझौते पर हस्ताक्षर किए।
  • रूस ने 1971 में मार्स-2 कार्यक्रम की शुरूआत की।
  • ऑस्ट्रेलियाने 1976 में सोने के स्वामित्व को कानूनी मान्यता दी।
  • भारतीय मूल के महेन्द्र चौधरी 1999 में फिजी के प्रधानमंत्री नियुक्त हुई।
  • मैक्सिको में 1999 में ‘बाल्कान डिफ़्यूजो’ नामक ज्वालामुखी सक्रिय।
  • फिजी में 2000 को भारतीय मूल के प्रधानमंत्री महेन्द्र चौधरी की सरकार को सात नाकाबपोश सशस्त्र व्यक्तियों द्वारा तख्तापलट।
  • अमेरिकी सीनेट में 2007 में समग्र आव्रजन सुधार विधेयक पर सहमति।

19 मई को जन्मे व्यक्ति 

दोस्तों दुनिया में ऐसे बहुत से महान व्यक्ति हैं जिन्होंने अपने जीवन में बहुत से महत्वपूर्ण काम किये उसी वजह से महान बने। आईये आगे जानते हैं किन महान व्यक्तियों ने आज के दिन यानि 19 मई के दिन इस धरती पर अपना पहला कदम रखा।

  • आधुनिक तुर्की के निर्माता कमाल अतातुर्क का जन्म 1881 में हुआ।
  • राष्ट्रपितामहात्मा गांधी की हत्या कर भारतीय इतिहास के पन्नों में एक काला अध्याय जोड़ने वाले नाथूराम गोडसे का जन्‍म 1910 में आज ही के दिन हुआ था।
  • भारत के राष्ट्रपति नीलम संजीव रेड्डी का जन्म 1913 में हुआ।
  • रस्किन बॉण्ड का जन्म 1934 में हुआ वो अंग्रेज़ी भाषा के प्रसिद्ध भारतीय लेखकों में से एक हैं।
  • कवि, रंगमंच कर्मी, कहानी लेखक, नाटककार, फ़िल्म निर्देशक और फ़िल्म अभिनेता गिरीश कर्नाड का जन्म 1938 में हुआ।

19 मई को हुए निधन

आईये आगे जानते हैं की आज के दिन यानि 19 मई के दिन किन लोगों ने इस दुनिया की अलविदा कहा।

  • टाटा समूह के संस्थापकजमशेद जी टाटा का निधन 1904 में हुआ।
  • हिन्दी के शीर्ष साहित्यकार हज़ारी प्रसाद द्विवेदी का निधन 1979 में हुआ।
  • प्रसिद्ध तमिल अभिनेत्री तथा तमिलनाडु की भूतपूर्व मुख्यमंत्री जानकी रामचन्द्रन का निधन 1996 में हुआ।
  • फ़िल्म और रंगमंच अभिनेता, निर्देशक और नाटककारसोंभु मित्रा का निधन 1997 में हुआ।
  • भारतीय नाटककार और रंगमंचकर्मी विजय तेंदुलकर का निधन 2008 को हुआ।

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu
%d bloggers like this: