हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

दुनिया में सबसे लोकप्रिय परिधान

जीन्स पहनना किसे अच्छा नहीं लगता. इतिहास में आज का दिन है ब्लू जीन्स का दिन. दुनिया की पहली जीन्स बनाई लेवी स्ट्रॉस ने और उनका खास जर्मन कनेक्शन भी है.

सैन फ्रैंसिस्को के बिजनेसमैन लेवी स्ट्रॉस और दर्जी जेकब डेविस को इसी दिन जीन्स बनाने का पेटंट दिया गया. लेवी स्ट्रॉस जर्मनी के बवेरिया में पैदा हुए और 1847 में न्यू यॉर्क पहुंचे. 1850 में लोएब स्ट्रॉस ने अपना नाम लेवी स्ट्रॉस में बदल दिया और अमेरिका में सोने की तलाश में शामिल हो गए.
जेकब डेविस नेवादा के रेनो में एक दर्जी थे. वे लीवाई स्ट्रॉस की कंपनी से लगातार सामान खरीदते थे. एक दिन उन्होंने स्ट्रॉस को चिट्ठी लिखी और अपने नए पतलून के बारे में बताया जिसकी सिलाई में वह धातु के बटन लगाते थे ताकि वह जल्दी फटे नहीं. डेविस के पास बड़े पैमाने पर इन पतलूनों को बनाने के पैसे नहीं थे, और

वह स्ट्रॉस से मदद मांगना चाहते थे. स्ट्रॉस को तरकीब पसंद आई और दोनों ने मिलकर इनका पेटंट बनाया. 20 मई 1873 में दोनों को अमेरिकी सरकार ने यह पेटंट दिया और ब्लू जीन्स बाजार में आने लगी.
1920 की दशक तक मजदूर और आम लोग स्ट्रॉस की जीन्स खरीदने लगे. लीवाइ्स जीन्स की स्टाइल नंबर 501 तभी से मशहूर हो गई और आज भी यह इस ब्रैंड के मंहगे जीन्स में से है. अब महिलाओं से लेकर बच्चों और पुरुष, सब यह जीन्स पसंद करते हैं.

 

20 मई की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ 

  • भारतके समुद्र मार्ग की खोज के बाद पुर्तगाली एक्सप्लोरर, वास्को द गामा, कालीकट (अब कोझिकोड) तक 1498 में पहुंच गया।
  • सैन फ्रैंसिस्को के बिजनेसमैन लेवी स्ट्रॉस और दर्जी जेकब डेविस को 1873 में इसी दिन दुनिया की पहली जीन्स बनाने का पेटंट दिया गया।
  • ब्रिटेन की पुलिस को 1965 में हथियारबंद अपराधियों और खतरनाक व्यक्तियों के खिलाफ आंसू गैस की बंदूकें और गोले इस्तेमाल करने की अनुमति दी गई थी।
  • मिस्रमें 1965 को पाकिस्‍तानी बोइंग विमान “720 – B” के क्रैश हो जाने से लगभग 100 लोगों की जान गई।
  • दक्षिण अफ्रीका की राजधानी प्रीटोरिया में 1983 को हुए कार बम धमाके में कम से कम 16 लोग मारे गए थे जबकि 130 से ज़्यादा ज़ख्मी हो गए थे।
  • रूस द्वारा 1995 में मानव रहित अंतरिक्ष ‘स्पेक्त्र’ का सफल प्रक्षेपण।
  • कुर्द विद्रोही नेता सेमडिम साकिक को 1999 में मृत्युदंड की सज़ा दी।
  • फिजी में बंदूक़धारियों के नेता जार्ज स्पेट ने 2000 में देश के अंतरिम प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली।
  • अफगानिस्तानमें तालिबान ने हिन्दुओं की अलग पहचान के लिए 2001 में ड्रेस कोड बनाया।
  • पाकिस्तानने 2003 में उग्रवादी संगठन हिज्बुल मुजाहिद्दीन पर प्रतिबंध लगाया।
  • चीन ने 2006 में कहा ताइवान विश्व स्वास्थ्य संगठन की सदस्यता का पात्र नहीं।
  • प्रधानमंत्रीमनमोहन सिंह ने 2011 में मध्य प्रदेश के बीना में हज़ारों करोड़ की लागत से बनी ऑयल रिफ़ाइनरी देश को समर्पित की।
  • झारखंडकी पर्वतारोही प्रेमलता अग्रवाल ने 2011 को दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वत शिखर माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली सबसे उम्रदराज़ भारतीय महिला होने का गौरव हासिल करते हुए पर्वतारोहण के क्षेत्र में एक नया इतिहास रचा।
  • इटली में 2012 को आए भूकंप में 27 लोगों की मौत हो गई।

20 मई को जन्मे व्यक्ति 

आईये आगे जानते हैं की आज के दिन इतिहास में कौनसे व्यक्ति का जन्म हुआ।

  • भारतीय आध्यात्मिक गुरु चंद्रशेखरेंद्र सरस्वती का जन्म 1894 में हुआ।
  • प्रसिद्ध हिन्दी कवि सुमित्रानंदन पंत का जन्म 1900 में हुआ।
  • पद्म भूषण से सम्मानित प्रसिद्ध मूर्तिकार रामकिंकर बैज का जन्म 1910 में हुआ।
  • भारतीय सेना के वीर अमर शहीदों में एक पीरू सिंह का जन्म 1918 में हुआ।
  • सिंगापुर के दूसरे प्रधानमंत्री गोह चोक टोंग का जन्म 1941 में हुआ।
  • भारतीय अभिनेता और गायकएनटी राम राव जूनियर का जन्म 1983 में हुआ।

20 मई को हुए निधन 

20 मई के दिन कौनसे व्यक्ति ने इस दुनिया को अलविदा कहा जिसका नाम आज के इतिहास में दर्ज हैं उनके बारेमें जानते हैं।

  • इंदौर के होल्कर वंश के प्रवर्तक मल्हारराव होल्कर का निधन 1766 में हुआ।
  • भारत में ‘क्रान्तिकारी विचारों के जनक’ विपिन चन्द्र पाल का निधन 1932 में हुआ।
  • प्रसिद्धस्वतंत्रता सेनानी और आंध्रा राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री टी.प्रकाशम का निधन 1957 में हुआ
  • ब्रजभाषा के प्रसिद्ध कवि गयाप्रसाद शुक्ल सनेही का निधन 1972 में हुआ।
  • एक प्रसिद्ध मानव विज्ञानी और नारीवादी विद्वान लीला दुबे का निधन 2012 में हुआ।
  • स्वतंत्रता सेनानी एवं चंपारण सत्याग्रह के प्रमुख लोगों में से एक राजकुमार शुक्ल का निधन 1929 में हुआ।

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: