हिंदी विवेक : we work for better world...

 

 

परिवार के लिए, जिसमें छोटे बच्चें हों, गर्मियों की छुट्टियां कभी
कभी मुसीबत बन जाती हैं. इस दौरान दो से तीन महीने तक बच्चे पूरे दिन घर पर ही रहकर
धमाचौकड़ी मचाते रहते हैं. ऐसे में आवश्यक हो जाता है कि उनसे कुछ मनपसंद रचनात्मक कार्य
करवाया जाये ताकि उनका ज्ञान बढे, बौद्धिक विकास हो तथा समय का सदुपयोग भी किया जा
सके.

गर्मी की छुट्टियां शुरू होने वाली हैं। बच्चो की परीक्षाएं खत्म हो गई हैं। अब अभिभावकों की परीक्षा शुरू हो जाएंगी। क्योंकि बच्चे दिन भर घर में रहते हैं और धमाचौकड़ी मचाते है, ऐसे में उन्हें सम्भालना किसी परीक्षा से कम नहीं है। यदि अभिभावक छुट्टियां आने से पहले ही कोई योजना बना लें जिसमें बच्चे बोर भी ना हों, और उनके व्यक्तित्व का विकास भी हो सके.

टैलेंट पहचानें

हर बच्चे में कोई ना कोई हुनर होता है। किसी में गाने का, डांस का, तबला का, गिटार का या अन्य कोई वाद्य बजाने का, शिल्पकारी, पेंटिग, और ना जाने क्या क्या। साल भर पढ़ाई के चलते उन्हें कुछ करने का मौका नहीं मिलता। यह सब उन्हें छुट्टियों में करने दें। बेहद खुश रहेंगे।

बच्चों से जुड़ें

छुट्टियों में बच्चा अधिक से अधिक समय घर में रहता है। इस समय माता पिता बच्चों से अपनी बांंडिंग और मजूबत कर सकते हैं। इसके लिए बच्चों के साथ खेलेें, उन्हें कुछ सुनाएं, कुछ उनकी सुनें, उन्हें शहर के प्रेक्षणीय स्थल दिखाएं। बातों बातों में उनका महत्व समझाएं, उन्हें 1 दिन के लिए सही पर शहर से बाहर आवश्य ले जाएं। यकीन मानिए बच्चे बेहद आनंदित होंगे तथा आपका आपसी प्यार बढ़ेगा।

 
 

अच्छी एक्टिविटीज सिखाएं

गर्मी की छुट्टियों का सदुपयोग करें। बच्चों को रचनात्मक और कलात्मक गतिविधियां सिखाएं। आजकल लगभग हर शहर में समर कैम्प होते हैं। बच्चों को वहां भेजें। मुंबई के चर्नीरोड स्थित जवाहर बाल भवन में गर्मी की छुट्टियों में इस तरह की गतिविधियां एकदम निम्न शुल्क में चलाई जाती हैं। इनका लाभ अवश्य लें

 बच्चों को प्रोत्साहन दें

 छुट्टियों में बच्चें बेहद शरारती हो जाते हैं और अभिभावक उन्हें डांटते रहे हैं। ऐसा बिलकुल भी ना करें। इससे बच्चे विद्रोही हो सकते हैं। उन्हें उनकी पसंद के काम करने दें। कार्टून देखना, पजल बनाना, खेलना, ड्राइंग करना वगैरह, इसके साथ ही घर के छोटे मोटे कामों में उनका सहयोेग लें जैसे गमलों में पानी देना, डाइनिंग टेबल पर प्लेट्स लगाना, खुद के खिलौने और चीजें वापस अपनी जगह पर रखना। शुरू शुरू में बच्चें आनाकानी करेगें उन्हें डाटे नही, प्यार से समझाएं, प्रोत्साहन दें उनकी तारीफ करें। इससे बच्चे खुशी-खुशी सब कुछ करेंगे। इस तरह बच्चे व्यस्त रहेंगेे। ना ही बोर होंगे, ना ही शरारत करेंगे। इस तरह गर्मी की छुट्टियां कब बीत जाएंगी आपको पता भी नहीीं चलेगा।

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu