हिंदी विवेक : we work for better world...
खुशी राजेशकुमार पटेल, कक्षा 5, चदरदा प्राइमरी स्कूल, सबर कंथा, गुजरात
किसी लोहे में छेद करते समय लोहे से निकलने वाला मलबा आंखों में जाकर उसे नुकसान पहुंचा सकता है। खुशी ने यह सलाह दी कि यदि ड्रिल मशीन के पीछे उन मलबों के लिए एक चुम्बकीय डिवाइस लगा दिया जाए तो वह मलबा उड़कर लोगों के आंखों में न पड़ने पाए।

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu