हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...
यूपी के ढाई साल की मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म तथा उसकी निर्मम हत्या के बाद पूरा देश उबल रहा है और एक स्वर में आरोपी असलम व जाहिद को तत्काल फांसी की सजा देने की मांग कर रहा है।जिस हैवानियत व दरिंदगी का परिचय देते हुए दुधमुंही बच्ची का दुष्कर्म और बोटी-बोटी काटकर हत्या की गई है,उसे देखकर सभी की आत्मा भी कांप जाएगी।इस घटना के बाद देश आक्रोशित है और सड़क से लेकर सोशल मीडिया पर विरोध प्रदर्शन हो रहा है।लोगों ने सोशल मीडिया पर भड़ास निकालते हुए प्रतिक्रिया दी है कि मुसलमानों द्वारा हिन्दू बच्चियों और महिलाओं से किया जाने वाला दुष्कर्म या हत्या केवल अपराध नहीं है बल्कि आतंकवाद का एक सबसे भयानक व क्रूरतम हैवानियत भरा चेहरा है।जिसे समझना बेहद जरूरी है,देश जब तक इस बारे में जागृत नहीं होगा तब तक इन अपराधों को नहीं रोका जा सकता।लोग सवाल उठा रहे है कि क्या फर्क रह गया है पाक और भारत में,बस इतना कि जो वहां अल्पसंख्यंक है,वो यहां बहुसंख्यक है पर बेटियां हिंदुओं की ही नोची जा रहीं है।बताया जा रहा है कि इस्लामिक आतंकवादी मोदी राज में खुलकर हमला नहीं कर पा रहे है इसलिए उन्होंने भारत में दहशत फैलाने के लिए दुष्कर्म व हत्या जिहाद का रास्ता अपनाया है।इसे आतंकवादी हमला नहीं कहा जा सकता क्योंकि यह आपराधिक दायरे में आता है और धन-बल के दम पर कानून से बचने के बहुत से मार्ग खुले होते है।देश भर में हुए और लगातार हो रहे दुष्कर्म-हत्या जिहाद की गहराई से यदि जांच की जाएगी तो इस जिहादी सिंडिकेट के षड्यंत्र का पर्दाफाश हो सकता है।सोशल मीडिया पर कुछ लोगों के दावे के अनुसार 2016-2018 में भारत में दुष्कर्म के जितने मामले दर्ज हुए है,उनमें से 95 फीसदी मामलों में आरोपी मुस्लिम समुदाय से है और पीड़ित बेटियां व महिलाएं हिन्दू समाज से है।कुछ समय पूर्व पोस्टकार्ड नामक वेबसाइट के सह संस्थापक महेश विक्रम हेगड़े ने ट्वीट के जरिये दावा किया था कि 2016 से 2018 में 84,734 दुष्कर्म के मामले दर्ज हुए और इनमें 81,000 मामलों में आरोपी मुस्लिम समुदाय से थे।इसके साथ ही कहा गया है कि इन मामलों में पीड़ित महिलाओं में 96 फीसदी गैर मुस्लिम थी।क्या भारत में होने वाले दुष्कर्म के अधिकतर अपराधों के लिए मुस्लिम ही जिम्मेदार है ? इसके अलावा क्या इस्लामिक जिहादी आतंकवाद का सबसे भयंकर व घृणित-क्रूरतम चेहरा है दुष्कर्मऔर हत्या जिहाद ? अपनी बेबाक राय दे 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu
%d bloggers like this: