हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

कश्मीर के उपरांत अब बंगाल में भी हिंसा और हत्या का सिलसिला जारी है। विशेषकर ममता बनर्जी के राज में प्रमुख विपक्षी पार्टी भाजपा के नेताओं व कार्यकर्ताओं की राजनैतिक हत्या पूरे देश में चर्चा का विषय बनी हुई है। एक के बाद एक भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्याओं का क्रम रुकने का नाम नहीं ले रहा है। ममता के जंगलराज के खिलाफ भाजपा ने भी मोर्चा खोल दिया है और वह जमकर विरोध प्रदर्शन कर रही है। मालदा में फिर से एक भाजपा कार्यकर्ता असित सिंह की हत्या कर दी गई, जिसका शव कल मिला। वह दो दिनों से लापता थे। इसके पूर्व नॉर्थ 24 परगना में एक कार्यकर्ता की हत्या कर दी गई थी। राज्य में चुनाव खत्म होने के बाद से ही राजनीतिक हिंसा और हत्याआों का दौर लगातार जारी है। इसके खिलाफ कल बुधवार को भाजपा कार्यकर्ताओं ने लाल बाजार स्थित पुलिस मुख्यालय की ओर मोर्चा निकाला और जय श्रीराम का नारा लगाते हुए विरोध प्रदर्शन किया। इस आंदोलन को कुचलने के लिए पुलिस ने दल- बल का सहारा लिया और प्रदर्शनकारियों पर आंसु गैस के गोले छो़ड़े तथा वॉटर केनन का प्रयोग किया। राज्य में कानुन व्यवस्था की बिगड़ते हालात पर राज्यपाल ने सर्वदलिय बैठक बुलाई है। जिसका भाजपा ने स्वागत किया है। पुरे देश में यह मांग उठ रही है कि तत्काल प्रभाव से राष्ट्रपति शासन लगाना चाहिए ताकि बंगाल में लोगों के जान-माल की रक्षा हो सके और लोकतंत्र को बचाया जा सके। क्या लोकतंत्र की हत्या कर बंगाल को कश्मीर बनाना चाहती है ममता बनर्जी? अपनी बेबाक राय दें

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu
%d bloggers like this: