हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...
अमेरिका – ईरान की दुश्मनी जगजाहिर है।गाहेबगाहे अमेरिका ईरान को युद्ध की धमकी देकर डराने का प्रयास करता रहा है।लेकिन ईरान ने अमेरिका से डरकर अपने कदम पीछे नहीं खिंचे है और अमेरिकी युद्ध की धमकी के जवाब में कहा है कि हमारी सेना जंग के लिए तैयार है।बता दें कि ईरान के हवाई क्षेत्र में अमेरिकी ड्रोन के घुसते ही ईरान ने उसे हवा में मार गिराया।जिससे भड़ककर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने हमला करने की मंजूरी दे दी लेकिन हमले के ठीक पहले उन्होंने रोक लगा दी।इसी दौरान रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने अमेरिका को चेतावनी दी है कि यदि अमेरिका ईरान पर हमला करता है तो इससे भारी तबाही मचेगी।इससे न केवल हिंसा बढ़ेगी बल्कि शरणार्थियों की संख्या में भी भारी इजाफा होगा।गौरतलब है कि अरब क्षेत्र में सबसे ताकतवर देश ईरान ही है।जिससे सऊदी अरब सहित सभी देश ख़ौफ़ खाते है।यदि अमेरिका और ईरान के बीच युद्ध होगा तो सभी आसपास के देश सहित इजरायल व रूस भी इस युद्ध में कूद पड़ेंगे।देखते ही देखते यह युद्ध तीसरे विश्वयुद्ध में परिणित हो जाएगा।भारत भी हालत पर नजर बनाए हुए है।भारत ने अपने तेल टैंकरों की सुरक्षा के लिए ओमान की खाड़ी में 2 युद्धपोतों को तैनात कर दिया है।क्या अमेरिका की दादागिरी से अरब क्षेत्र में महायुद्ध की आग भड़क सकती है ? अपनी बेबाक राय दें

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: