हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में विपक्षी पार्टी कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए आपातकाल की याद दिलाई और कहा कि सिर्फ सत्ता कायम रखने के लिए 25 जून की रात को देश की आत्मा को कुचल दिया गया था। उन्होंने आगे कहा कि हिंदुस्थान में लोकतंत्र संविधान के पन्नों से पैदा नहीं हुआ था, हिंदुस्थान में लोकतंत्र सदियों से हमारी आत्मा रहा है। उस आत्मा को कुचल कर, मीडिया को दबोच कर देश के महापुरुषों को सलाखों के पीछे बंद कर दिया गया था। देश को जेलखाना बना दिया गया था। न्यायपालिका का कैसे अनादर होता है उसका जीता जागता उदाहरण है आपातकाल। उस समय के जो भी इस पाप के भागीदार थे,ये दाग कभी मिटनेवाला नहीं है। इसका स्मरण करना भी जरूरी है ताकि फिर कोई पैदा न हो जिसे इस रास्ते पर जाने की इच्छा हो जाए। पीएम मोदी ने आईना दिखाकर लोकसभा में कांग्रेस को उसकी  करतूतों से रूबरू कराया। क्या सदैव सत्ता में कायम रहने के उद्देश्य से कांग्रेस ने भारत में आपातकाल लगाया था ? अपनी बेबाक राय दें.

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: