हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में देश की जनता से जल संरक्षण करने की अपील की है। उन्होेंने जनता से आग्रह किया है कि स्वच्छ भारत अभियान की तर्ज पर जल संरक्षण के लिए एक जनांदोलन शुरु करें। पानी के संरक्षण के लिए कई पारंपरिक तौर तरीके अपनाए और जल संरक्षण में योगदान देने वालों का डेटाबेस बनाने में सहायता करें। देश में ब़़ढ़ते जल संकट की विकराल होती समस्या को देखते हुए उन्होंने यह बातें कहीं है। दरअसल देश की आधी आबादी जल संकट से जूझ रही है। नीति आयोग ने भी पिछले वर्ष इस संबंध में चेतावनी दी थी। एक समय भारत में हजारों नदियों की निर्मल धारा बहा करती थी। लेकिन आज अधिकतर नदियां विलुप्त हो चुकी है और कुछ नदियां नालों में बदल गईं हैं । तालाबों एवं कुओं को पाट दिया गया है और जो बचे हैं , उसकी मरम्मत व देखभाल भी नहीं हो रही है। परिणामत: जल संकट की समस्या बढ़ती ही जा रही है। क्या प्रधानमंत्री मोदी की अपील पर स्वच्छ भारत की तर्ज पर देश में जल संरक्षण एक जनांदोलन बन पाएगा ?

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: