हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

वर्तमान समय में संवेदनहीन हो चुकी पुलिस को संवेदनशील बनाने के लिए जल्द से जल्द पुलिस सुधार करना अति आवश्यक है. भ्रष्ट,बिकाऊ,बदतमीज,हिटलर,गुंडा,षड्यंत्रकारी,माफिया,अन्यायी,शोषणकारी,रक्षक ही भक्षक आदि अनेकानेक तथाकथित उपनामों से कुख्यात पुलिस को अधिक जिम्मेदार और कर्तव्यपरायण बनाने के लिए तत्काल पुलिस प्रशासन की कार्यप्रणाली में आमूलचूल बदलाव की दरकार है. आम लोगों के साथ दुर्व्यवहार और विशिष्ट लोगों के साथ शिष्टाचार की भूमिका निभानेवाली पुलिस को निष्पक्षता,भेदभाव रहित और कानून के अनुसार समान रूप से कार्यवाही करने का पाठ पढ़ाना भी जरुरी है. पुलिस के बारे में कहा जाता है कि यदि पुलिस चाहे तो मन्दिर के बाहर कोई चप्पल तक चोरी नहीं कर सकता. बावजूद इसके अपराध में बढ़ोत्तरी होना पुलिस की संदिग्ध भूमिका की ओर इशारा करता है. इसके अलावा देश भर में पुलिस के ५.२८ लाख पद खाली पड़े हुए है,जिसकी भरपाई करना बेहद जरूरी है. गृह मंत्रालय केआंकड़ों के अनुसार सभी राज्यों के पुलिस बलों में कुल २३,७९,७२८ पद है,जिनमें से १८,५१,३३२ पदों को एक जनवरी २०१८ तक भर लिया गया हैं. इन खाली पदों में लगभग १.२९ लाख पद उत्तर प्रदेश में, बिहार में ५०,००० पद,पश्चिम बंगाल में ४९,००० पद, महाराष्ट्र में २६,१९५ इसी तरह अन्य राज्यों की भी स्थिति है. क्या मोदी सरकार देश हित में तत्काल पुलिस सुधार और रिक्त पदों पर भर्ती करेगी ? अपनी बेबाक राय दे 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: