हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

भारतीय स्पेस एजेंसी इसरो ने चंद्रयान-२ की सफल लौन्चिंग कर इतिहास रच दिया.जिसे देख कर दुनिया दंग है. इस मिशन को पूरा करने में ६०३ करोड़ रूपये की लागत आई और ३७५ करोड़ प्रक्षेपण में खर्च हुए. चंद्र विजय करने के लिए १२० फर्मों ने हाथ मिलाया था और उन्होंने भारत की झोली में यह कीर्तिमान डाल दिया. बता दें किभारत विश्व का पहला देश होगा जो चाँद के दक्षिणी ध्रुव पर अपना लैंडर उतारेगा. इसके अलावा अमेरिका,रूस,चीन के बाद भारत चौथा देश होगा जो चाँद पर अपना लैंडर उतारेगा. चंद्रयान-२ की सफल लौन्चिंग के बाद अब इसरों को व्यवसायिक दृष्टी से बहुत लाभ होगा. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वैज्ञानिकों को बधाई देते हुए कहा कि यह देश के गौरवशाली इतिहास का सबसे खास पल है. यह विज्ञान के नए आयाम खोलेगा. ज्ञात हो कि भारत २०२२ तक गगनयान द्वारा ३ भारतीय यात्रियों को अंतरिक्ष में भेजने की योजना पर भी काम कर रहा है. इसके साथ ही अगले साल इसरो सूर्य मिशन की भी तैयारियां कर रहा है. उम्मीद है कि आने वाले कुछ सालों तक भारत के इसरो का दबदबा अन्तरिक्ष कार्यक्रमों में बना रहेगा. एक के बाद एक बड़ी सफलताओं के बाद क्या नासा को पछाड़कर इसरो बनेगा दुनिया की सबसे भरोसेमंद स्पेस एजेंसी? अपनी बेबाक राय दें

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu
%d bloggers like this: