हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

पाकिस्तान और बांग्लादेश से आया ५५,००० मीट्रिक टन प्लास्टिक कचरा ?

क्या भारत कूड़ेदान है ? यह सवाल हम इसलिए पूछ रहें है क्योंकि ड्रग्स की खेप, जाली नोट का कारोबार, आतंकवादी भेजने वाला पाकिस्तान तथा अवैध रूप से नागरिकों को भारत में घुसपैठ कराने वाला बांग्लादेश अब बड़ी ही चालाकी से हजारों मीट्रिक टन प्लास्टिक कचरा भी भारत में भेज रहा हैं. कहीं ये कचरा जिहाद तो नहीं ? भारत में लव जिहाद, लैंड जिहाद, आतंकवादी जिहाद के बाद भारत को बर्बाद एवं प्रदूषित करने के लिए कचरा जिहाद तो शुरू नहीं किया गया हैं ? ‘पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति मंच’ नामक एक एनजीओ ने अपने अध्ययन में इस बात का खुलासा किया हैं कि केवल पाकिस्तान और बांग्लादेश से ५५,००० मीट्रिक टन कचरा भारत आ रहा है. इसके अलावा विदेशों से कुल १,२१,००० मीट्रिक टन प्लास्टिक कचरा भारत में आया हुआ हैं. भारत में विदेशी कंपनियों और पुनचक्रण कार्य से जुड़ी इकाइयों द्वारा यह कचरा भेजा जा रहा हैं जिससे भारत सरकार के प्लास्टिक प्रदुषण को कम करने के प्रयासों को गहरा धक्का लग रहा है. पश्चिम एशिया, यूरोप और अमेरिका सहित २५ से अधिक देशों से प्लास्टिक कचरे का आयात हो रहा है. वर्तमान में समुद्र, वायु और सड़क मार्ग से कचरों का आयात किया जा रहा है. इतनी बड़ी मात्रा में प्लास्टिक कचरों का निस्तारण नहीं होने से यह सागरों तथा लैंडफिल में डंप किया जा रहा है. यह अध्ययन अप्रैल २०१८ से फरवरी २०१९ के दरमियान किया गया है. क्या मोदी सरकार इस ओर ध्यान देगी और भारत को कूड़ेदान होने से बचाएगी ? अपनी बेबाक राय दें.

This Post Has One Comment

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: