हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

संघ साहित्य के पुरोधा

आज राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का साहित्य प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है।  प्रायः हर राज्य में अपनी-अपनी भाषाओं में संघ के प्रकाशन संस्थान भी हैं, जहां न केवल संघ अपितु हिन्दू विचार को बढ़ाने वाला साहित्य प्रकाशित होता है। प्रायः सभी बड़े कार्यालयों पर संघ वस्तु भंडार भी हैं, जहां ऐसा साहित्य बिक्री हेतु उपलब्ध हो जाता है। प्रकाशन एवं विक्रय की समुचित व्यवस्था के कारण देश भर में कहीं न कहीं, किसी न किसी भाषा में प्रायः हर दिन संघ की कोई न कोई पुस्तक प्रकाशित हो रही है। प्रायः सभी प्रमुख भाषाओं में बड़े या छोटे समाचार पत्र और जागरण पत्रक भी प्रकाशित हो रहे हैं।

पर जब संघ का काम प्रारम्भ हुआ, तब ऐसा कुछ नहीं था। प्रसिद्धि से दूर रहने की नीति के कारण इस ओर किसी का ध्यान भी नहीं था; पर क्रमशः लेखन और सम्पादन में रुचि रखने वाले कुछ लोगों ने यह काम प्रारम्भ किया। श्री चंद्रशेखर परमानंद (बापूराव) भिषीकर ऐसे लोगों की मालिका के एक सुवर्ण मोती थे।

संघ के संस्थापक पूज्य डा. केशव बलीराम हेडगेवार की पहली जीवनी उन्होंने ही लिखी। इसमें उनकी जीवन-यात्रा के साथ ही संघ स्थापना की पृष्ठभूमि तथा उनके सामने हुआ संघ का क्रमिक विकास बहुत सुंदर ढंग से लिखा गया है। लम्बे समय तक इसे ही संघ की एकमात्र अधिकृत पुस्तक माना जाता था। आगे चलकर उन्होंने श्री गुरुजी, भैया जी दाणी, दादाराव परमार्थ, बाबासाहब आप्टे आदि संघ के अनेक पुरोधाओं के जीवन चरित्र लिखे। इस कारण बापूराव को संघ इतिहास का व्यास कहना नितांत उचित ही है।

बापूराव का जन्म नौ अगस्त, 1914 को हुआ था। वे संघ के प्रारम्भिक स्वयंसेवकों में से एक थे। अतः उन्हें डा. हेडगेवार, श्री गुरुजी तथा उनके साथियों को निकट से देखने एवं उनके अन्तर्मन को समझने का भरपूर अवसर मिला था। संघ की कार्यपद्धति का विकास तथा शाखाओं का नागपुर से महाराष्ट्र और फिर पूरे भारत में कैसे और कब विस्तार हुआ, इसके भी वे अधिकृत जानकार थे।

छात्र जीवन से ही उनकी रुचि पढ़ने और लिखने में थी। इसलिए आगे चलकर जब उन्होंने पत्रकारिता और लेखन को अपनी आजीविका बनाया, तो जीवनियों के माध्यम से संघ इतिहास के अनेक पहलू स्वयंसेवकों और संघ के बारे में जानने के इच्छुक शोधार्थियों को उपलब्ध कराये। कुल मिलाकर उन्होंने संघ के दस वरिष्ठ कार्यकर्ताओं के जीवन चरित्र लिखे।

एक निष्ठावान स्वयंसेवक होने के साथ ही वे मौलिक चिंतक भी थे। संघ के संस्कार उनके जीवन में हर कदम पर दिखाई देते थे। पुणे के ‘तरुण भारत’ में सम्पादक रहते हुए वे ‘अखिल भारतीय समाचार पत्र सम्पादक सम्मेलन’ (ए.आई.एन.ई.सी.) के सदस्य बने। सामान्यतः पत्रकारों और सम्पादकों के कार्यक्रमों में खाने और पीने की अच्छी व्यवस्था रहती है। आजकल तो इसमें नकद भेंट से लेकर कई अन्य तरह के भ्रष्ट आचार-व्यवहार भी जुड़ गये हैं; पर बापूराव ऐसे कार्यक्रमों में जाने के बाद भी पीने-पिलाने से सदा दूर ही रहे।

सक्रिय पत्रकारिता से अवकाश लेने के बाद भी बापूराव ने सक्रिय लेखन से अवकाश नहीं लिया। उनकी जानकारी, अनुभव तथा स्पष्ट विचारों के कारण विभिन्न पत्र-पत्रिकाएं उनसे लेख मांगकर प्रकाशित करती रहती थीं। वृद्धावस्था संबंधी अनेक कष्टों के बावजूद पुणे में अपने पुत्र के पास रहते हुए उन्होंने अपने मन को सदा सकारात्मक विचारों से ऊर्जस्वित रखा। बापूराव के बड़े भाई नाना भिषीकर बाबासाहब आप्टे के घनिष्ठ सहयोगी थे। डा. हेडगेवार की योजनानुसार 1931 में वे संघ कार्य के लिए सिन्ध प्रान्त के कराची नगर में गये थे।

संघ इतिहास के ऐसे शीर्षस्थ अध्येता का आठ दिसम्बर, 2008 को महाराष्ट्र के उस्मानाबाद जिले के हराली कस्बे में निधन हुआ।

 

9 अगस्त की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ-

  • दुनिया के सात अजूबों में से एक इटली के पीसा की झुकी हुई मीनार का निर्माण 1173 में शुरू हुआ।
  • पोप जॉन 22वें ने 1329 में भारत के क्यूलोन में पहले कैथोलिक धर्मप्रदेश की स्थापना की।
  • वेटिकन का सिस्टिन चैपल 1483 में प्रार्थना के लिए खुला।
  • अमेरिका में 1831 में पहली बार स्टीम इंजन ट्रेन चली।
  • वेबस्टर एशबर्टन संधि के तहतअमेरिका और कनाडा की सीमा 1842 में निर्धारित की गई।
  • थॉमस अल्वा एडिसन ने 1892 में टू-वे टेलिग्राफ का पेटेंट कराया।
  • अल्वा फिशर ने 1910 में बिजली से चलने वाली वाशिंग मशीन का पेटेंट हासिल किया।
  • प्रसिद्ध काकोरी काण्ड की घटना 1925 में घटित हुई थी।
  • मुंबई में 1942 को भारत छोड़ो आंदोलन के साथ ‘करो या मरो’ का नारा देने के बाद राष्ट्रपितामहात्मा गांधी 50 समर्थकों के साथ गिरफ्तार किए गए।
  • स्वतंत्रता सेनानी नेताजीसुभाष चंद्र बोस ने 1942 में मलाया (अब मलेशिया) में जापान की मदद से इंडियन नेशनल आर्मी की स्थापना की।
  • अमेरिकाने 1945 में जापान के नागासाकी पर दूसरा परमाणु बम गिराया।
  • रूस की राजधानी मास्को में परमाणु हथियारों की परीक्षण प्रतिबंध संधि पर 1963 में हस्ताक्षर करने वाला भारत पहला देश बना।
  • सिंगापुर 1965 में मलेशियाई संघ से अलग होकर स्वतंत्र राष्ट्र बना।
  • भारत और सोवियत संघ ने 1971 में 20 साल की अनाक्रमण संधि पर हस्ताक्षर किए।
  • भारत-पाकिस्तानमैत्री संधि पर 1971 में हस्ताक्षर।
  • सोवियत संघ ने 1973 में मार्स 07 का प्रक्षेपण किया।
  • वॉटरगेट कांड का खुलासा होने पर अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निस्कन ने 1974 को त्यागपत्र दिया, उप राष्ट्रपति जेरल्ड फोर्ड को राष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई गई।
  • मास्टर ब्लास्टरसचिन तेंदुलकर को 1996 में भारतीय क्रिकेट टीम का कप्तान चुना गया।
  • रूस के राष्ट्रपति बोरिस येल्तसिन ने 1999 में प्रधानमंत्री सर्जेई स्तेपशिन को बर्खास्त कर खुफिया सेवा के प्रमुख ब्लादिमीर पुतिन को कार्यवाहक प्रधानमंत्री नियुक्त किया।
  • संसद ने 2000 में मध्य प्रदेश पुनर्गठन विधेयक 2000 को मंजूरी दी जिससे एक अलग छत्तीसगढ़ राज्य के निर्माण का रास्ता साफ हुआ।
  • जिम्बाव्वे में 2000 को व्यापक विरोध के बावजूद भूमि सुधार की प्रक्रिया शुरू।
  • नासा का मानवयुक्त अंतरिक्षयान डिस्कवरी 14 दिन की अपनी साहसिक और जोखिम भरी यात्रा के बाद कैलिफ़ोर्निया स्थित एयरबेस पर 2005 में सकुशल उतरा।
  • नेपालसरकार और माओवादियों के बीच 2006 में संयुक्त राष्ट्र निगरानी मुद्दे पर सहमति बनी।
  • अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर मरम्मत के महत्त्वपूर्ण कार्य को आगे बढ़ाने के लिए 2007 में वैज्ञानिकों की टीम लेकर अंतरिक्ष यान एण्डेवर अपने अभियान पर निकला।
  • भारतीय प्रतिनिधिमण्डल के समर्थन से मलेशिया के सांस्कृतिक मंत्री व सांसद मोहम्मद शफी अरदाल को 2008 में राष्ट्रकुल संसदीय संघ (सीपीए) का नया अध्यक्ष चुना गया है।
  • बंगाल ने 2010 में पंजाब को हराकर 11 साल बाद संतोष ट्रॉफी राष्ट्रीय फुटबॉल प्रतियोगिता जीत ली।
  • भारतीय सेना ने 2012 में परमाणु हमला करने में सक्षम अग्नि-2 बैलेस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया।

9 अगस्त को जन्मे व्यक्ति –

  • अंग्रेजी इतिहासकार और व्यापारी अर्नोल्ड फिज़ थेड्मर का जन्म 1201 को हुआ था।
  • इतालवी गणितज्ञ और खगोलशास्त्री फ्रांसिस्को बारोज्ज़ी का जन्म 1537 को हुआ था।
  • अंग्रेजी कवि, नाटककार और आलोचक जॉन ड्राइडन का जन्म 1631 को हुआ था।
  • बंगाल के ब्रिटिश गवर्नर (1922-27 ई.) और मंचूरिया लॉर्ड लिटन द्वितीय का जन्म 1876 में हुआ।
  • संयुक्त प्रांत के राज्यपाल फ्रान्सिस वर्नर वाईली का जन्म 1891 को हुआ था।
  • उपन्यासकार शिवपूजन सहाय का जन्म 1893 को हुआ था।
  • विख्यात पुस्तकालाध्यक्ष और शिक्षाशास्त्री एस. आर.रंगनाथन का जन्म 1892 को हुआ था।
  • ज्ञानपीठ पुरस्कार’ से सम्मानित कन्नड़ भाषा के प्रमुख साहित्यकार विनायक कृष्ण गोकाक का जन्म 1909 को हुआ था।
  • आधुनिक हिन्दी साहित्य के प्रसिद्ध गद्यकार, उपन्यासकार, व्यंग्यकार, पत्रकार मनोहर श्याम जोशी का जन्म 1933 को हुआ था।
  • हिंदी के साहित्यकार अभिमन्यु अनत का जन्म 1937 को हुआ था।
  • भारतीय अभिनेता महेश बाबू का जन्म 1975 को हुआ था।
  • भारतीय फिल्म अभिनेत्री हंसिका मोटवानी का जन्म 1991 को हुआ था।

9 अगस्त को हुए निधन –

  • जर्मनीके शायर और लेखक नोबेल पुरुस्कार हरमैन हीसे का निधन 1962 में हुआ।
  • जीवन में 30 वर्ष जेल में बिताने वालेस्वतंत्रता सेनानी त्रिलोकनाथ चक्रवर्ती का निधन 1970 में हुआ।
  • प्रसिद्ध कथावाचक एवं हिन्दी साहित्यकार रामकिंकर उपाध्याय का निधन 2002 को हुआ था।
  • अरुणाचल प्रदेशके भूतपूर्व मुख्यमंत्री कलिखो पुल का निधन 2016 को हुआ था।

9 अगस्त के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव –

  • भारतीय क्रान्ति दिवस अथवा ‘अगस्त क्रांति दिवस’
  • नागासाकी दिवस
  • भारत छोड़ो आन्दोलन स्मृति दिवस
  • विश्व आदिवासी दिवस

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: