हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

आतंकी देश के रूप में कुख्यात हो चुका पाकिस्तान अब पूरी दुनिया से अलग – थलग हो गया है. इसलिए कश्मीर मुद्दे को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उठाने की पाक की रणनीति का कोई असर दिखाई नहीं दें रहा है. मोदी सरकार की विदेश यात्रा और विदेश नीति, कूटनीति, रणनीति का प्रभावी असर अब खुल कर दिखाई देने लगा है. जम्मू – कश्मीर से धारा ३७० हटाने और उसे केन्द्रशासित प्रदेश बनाने के बाद पाकिस्तान इसका विरोध करने के लिए यूएन, यूएस, चीन एवं इस्लामिक देशों के पास गया तो लेकिन उसे निराशा ही हाथ लगी. सभी वैश्विक शक्तियों ने उसे एक सुर में कहा कि यह भारत का आंतरिक मामला है. वह संयम से काम ले और शिमला समझौतों का पालन करें. अमेरिका, ईरान, चीन सहित अंतर्राष्ट्रीय जगत ने शांति की अपील करते हुए बातचीत से भारत – पाकिस्तान को समाधान निकालने की सलाह दी है. पहली बार सत्ता में आते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विदेशों का तूफानी दौरा किया और इस दौरान वह दुनिया भर के देशों को समझाने में कामयाब हुए कि पाकिस्तान और आतंकवाद का चोली दामन का साथ है. उसी का सुखद परिणाम है कि कल तक जो पाकिस्तान के मित्र देश थे आज वह भी पाकिस्तान का कश्मीर मुद्दे पर समर्थन नहीं कर रहे है. क्या आतंकवादी देश के रूप में पाकिस्तान को चिन्हित करने और उसे दुनिया से अलग – थलग करने में पीएम मोदी सफल हुए है ? अपनी बेबाक राय दें 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: