हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

साहस  व वीरता के साक्षात मूर्ति 

छत्रपति शिवाजी महाराज ने अपने भुजबल से एक विशाल भूभाग मुगलों से मुक्त करा लिया था। उनके बाद इस ‘स्वराज्य’ को सँभाले रखने में जिस वीर का सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण योगदान रहा, उनका नाम था बाजीराव पेशवा।

बाजीराव का जन्म 18 अगस्त, 1700 को अपने ननिहाल ग्राम डुबेर में हुआ था। उनके दादा श्री विश्वनाथ भट्ट ने शिवाजी महाराज के साथ युद्धों में भाग लिया था। उनके पिता बालाजी विश्वनाथ छत्रपति शाहू जी महाराज के महामात्य (पेशवा) थे। उनकी वीरता के बल पर ही शाहू जी ने मुगलों तथा अन्य विरोधियों को मात देकर स्वराज्य का प्रभाव बढ़ाया था।

बाजीराव को बाल्यकाल से ही युद्ध एवं राजनीति प्रिय थी। जब वे छह वर्ष के थे, तब उनका उपनयन संस्कार हुआ। उस समय उन्हें अनेक उपहार मिले। जब उन्हें अपनी पसन्द का उपहार चुनने को कहा गया, तो उन्होंने तलवार को चुना। छत्रपति शाहू जी ने एक बार प्रसन्न होकर उन्हें मोतियों का कीमती हार दिया, तो उन्होंने इसके बदले अच्छे घोड़े की माँग की। घुड़साल में ले जाने पर उन्होंने सबसे तेज और अड़ियल घोड़ा चुना। यही नहीं, उस पर तुरन्त ही सवारी गाँठ कर उन्होंने अपने भावी जीवन के संकेत भी दे दिये।

चौदह वर्ष की अवस्था में बाजीराव प्रत्यक्ष युद्धों में जाने लगे। 5,000 फुट की खतरनाक ऊँचाई पर स्थित पाण्डवगढ़ किले पर पीछे से चढ़कर उन्होंने कब्जा किया। कुछ समय बाद पुर्तगालियों के विरुद्ध एक नौसैनिक अभियान में भी उनके कौशल का सबको परिचय मिला। इस पर शाहू जी ने इन्हें ‘सरदार’ की उपाधि दी। दो अप्रैल, 1720 को बाजीराव के पिता विश्वनाथ पेशवा के देहान्त के बाद शाहू जी ने 17 अपै्रल, 1720 को 20 वर्षीय तरुण बाजीराव को पेशवा बना दिया। बाजीराव ने पेशवा बनते ही सर्वप्रथम हैदराबाद के निजाम पर हमलाकर उसे धूल चटाई।

इसके बाद मालवा के दाऊदखान, उज्जैन के मुगल सरदार दयाबहादुर, गुजरात के मुश्ताक अली, चित्रदुर्ग के मुस्लिम अधिपति तथा श्रीरंगपट्टनम के सादुल्ला खाँ को पराजित कर बाजीराव ने सब ओर भगवा झण्डा फहरा दिया। इससे स्वराज्य की सीमा हैदराबाद से राजपूताने तक हो गयी। बाजीराव ने राणो जी शिन्दे, मल्हारराव होल्कर, उदा जी पँवार, चन्द्रो जी आंग्रे जैसे नवयुवकों को आगे बढ़ाकर कुशल सेनानायक बनाया।

पालखिण्ड के भीषण युद्ध में बाजीराव ने दिल्ली के बादशाह के वजीर निजामुल्मुल्क को धूल चटाई थी। द्वितीय विश्वयुद्ध में प्रसिद्ध जर्मन सेनापति रोमेल को पराजित करने वाले अंग्रेज जनरल माण्टगोमरी ने इसकी गणना विश्व के सात श्रेष्ठतम युद्धों में की है। इसमें निजाम को सन्धि करने पर मजबूर होना पड़ा। इस युद्ध से बाजीराव की धाक पूरे भारत में फैल गयी। उन्होंने वयोवृद्ध छत्रसाल की मोहम्मद खाँ बंगश के विरुद्ध युद्ध में सहायता कर उन्हें बंगश की कैद से मुक्त कराया। तुर्क आक्रमणकारी नादिरशाह को दिल्ली लूटने के बाद जब बाजीराव के आने का समाचार मिला, तो वह वापस लौट गया।

सदा अपराजेय रहे बाजीराव अपनी घरेलू समस्याओं और महल की आन्तरिक राजनीति से बहुत परेशान रहते थे। जब वे नादिरशाह से दो-दो हाथ करने की अभिलाषा से दिल्ली जा रहे थे, तो मार्ग में नर्मदा के तट पर रावेरखेड़ी नामक स्थान पर गर्मी और उमस भरे मौसम में लू लगने से मात्र 40 वर्ष की अल्पायु में 28 अपै्रल, 1740 को उनका देहान्त हो गया। उनकी युद्धनीति का एक ही सूत्र था कि जड़ पर प्रहार करो, शाखाएं स्वयं ढह जाएंगी। पूना के शनिवार बाड़े में स्थित महल आज भी उनके शौर्य की याद दिलाता है।

त्त्वपूर्ण घटनाएँ 

  • लातविया में रिगा शहर की स्थापना 18 अगस्त 1201 में हुई।
  • लार्ड वेलेजली के द्वारा कलकत्ता में फोर्ट विलियम काॅलेज की स्थापना 1800 में हुई।
  • फ्रांसके खगोलविद पियरे जेनसीन ने 1868 को हिलियम की खोज की।
  • कैरेबियाई द्वीप मार्टिनीक्यु में 1891 को चक्रवाती तूफान से 700 की मौत।
  • फ्रांसने 1924 में जर्मनी से अपनी सेनाएँ वापस बुलानी शुरु की।
  • पहली बार मौसम मानचित्र का टेलीविजन पर 1940 में प्रसारण हुआ।
  • सुकर्णो ने 1945 में इंडोनेशिया के प्रथम राष्ट्रपति के तौर कामकाज शुरू की।
  • महान स्वतंत्रता सेनानी नेताजीसुभाष चंद बोसताईवान के ताईहोकु में 1945 को विमान दुर्घटना में बुरी तरह घायल हुए, बाद में एक सैन्य अस्पताल में उनकी मृत्यु हो गई थी।
  • हंगरी में संविधान 1949 में लागू हुआ।
  • पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान की स्थापना 1951 में हुई।
  • अमेरिकामें 1963 को जेम्स मेरीडिथ मिसिसीपी विश्वविद्यालय से स्नातक करने वाला पहला अश्वेत व्यक्ति।
  • अमेरिकाके बोस्टन में 1973 को पहले एफ एम रेडियों स्टेशन के निर्माण को मंजूरी
  • सोवियत संघ द्वारा 1982 में एक महिला अंतरिक्ष यात्री अंतरिक्ष स्टेशन सेल्युत-7 के लिए भेजी गई।
  • तुर्की में 1999 को भूकम्प से लगभग 45000 लोगों की मौत।
  • इंग्लैंड ने 2000 में वेस्टइंडीज को हराकर दो दिन में टेस्ट जीतने का इतिहास रचा।
  • बांग्लादेशके पूर्व राष्ट्रपति एच.एम. इरशाद को विशेष अदालत ने 2006 में भ्रष्टाचार के मामले में बरी किया।
  • विवादास्पद ब्रिटिश गायिका लिली एलेन के अमेरिका में घुसने पर 2007 को प्रतिबन्ध लगा।
  • उत्तर प्रदेशमें मायावती सरकार ने छठे वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू करने की घोषणा 2008 में की।
  • पाकिस्तानके राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने 2008 में महाभियोग की आशंका के बीच इस्तीफा दिया।
  • टीवीएस इलेक्ट्रॉनिक्स ने 2010 को ‘टीवीएस गोल्ड भारत’ नामक अपने नए कुंजी पटल में टैब के ठीक ऊपर रुपए के चिन्ह को शामिल किया।
  • नाटो के हवाई हमले में 2012 कोअफ़ग़ानिस्तानके कम से कम 13 आतंकवादियों की मौत।
  • पश्चिम बंगालमें 2013 को एक बस में बम विस्फोट में छह लोग मारे गए।

18 अगस्त को जन्मे व्यक्ति 

  • मराठा साम्राज्यका महान् सेनानायकबाजीराव प्रथम का जन्म 1700 को हुआ था।
  • पेशवा बाजीराव प्रथम के द्वितीय पुत्र और एक कुशल सेना नायक राघोबा का जन्म 1734 को हुआ था।
  • महाराष्ट्रके शास्त्रीय गायक, नेत्रहिन संगीतज्ञ पंडित विष्णु दिगंबर का जन्म 1872 को हुआ था।
  • भारत के पहले प्रधानमंत्रीजवाहरलाल नेहरूकी बहन तथा महिला स्वतंत्रता सेनानी विजयलक्ष्मी पण्डित का जन्म 1900 को हुआ था।
  • परमवीर चक्र से सम्मानित भारतीय सैनिक ए. बी. तारापोरे का जन्म 1923 को हुआ था।
  • प्रसिद्ध गीतकार, कवि और फ़िल्म निर्देशकगुलज़ारका जन्म 1936 को हुआ था।
  • भारतीय अभिनेत्री प्रीति झंगियानी का जन्म 1980 में हुआ।

18 अगस्त को हुए निधन 

  • मंगोल साम्राज्य का शासकचंगेज़ ख़ानका निधन 1227 में हुआ।
  • स्वतंत्रता सेनानीसुभाष चंद्र बोस का निधन 1945 को हुआ था।
  • हिन्दी के साहित्यकार तथा सरस्वती पत्रिका के संपादक श्री नारायण चतुर्वेदी का निधन 1990 को हुआ था।

18 अगस्त के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव 

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu
%d bloggers like this: