हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

फिट इंडिया से बनेगा भारत शक्तिशाली राष्ट्र ?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर फिट इंडिया मूवमेंट की शुरुआत की. देश की बिगड़ती सेहत और स्वास्थ्य के प्रति उदासीनता को देखते हुए मोदी ने जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से इस मूवमेंट की आधारशिला रखी. उन्होंने ख़राब जीवनशैली को बीमारियों का जनक बताया और इसमें सुधार करने का आह्वान किया. मोदी ने कहा कि योग, व्यायाम और मजबूत इच्छाशक्ति के बल पर हम निरोगी रह सकते है. गौरतलब है कि २० से ४० फीसदी शहरी आबादी हाईपरटेंशन की बीमारी से पीड़ित है और ५.५ करोड़ लोगों को ह्रदय रोग एवं ४.२ को थाईरोइड के शिकार है. देश की ५४ फीसदी आबादी शाररिक गतिविधियों में निष्क्रिय है और १० फीसदी से कम लोग खेलकूद में सक्रीय है. मोदी ने बताया कि हमारा पड़ोसी देश चीन अपने हर नागरिक को स्वस्थ रखने के लिए ‘हेल्दी चाइना मिशन २०३०’ पर काम कर रहा है. यानि कि आगामी वर्ष २०३० तक चीन ने हर नागरिक को स्वस्थ रखने का लक्ष्य रखा है. उसी तरह अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन सहित दुनिया के अनेक देशों ने स्वास्थ्य को प्राथमिकता देते हुए लक्ष्य निर्धारित किए है. क्या नरेंद्र मोदी की फिट इंडिया मूवमेंट जनांदोलन बन पायेगा ? क्या भारत विश्व में सबसे स्वस्थ और सबसे शक्तिशाली राष्ट्र के रूप में जाना जायेगा ? अपनी बेबाक राय दें.

This Post Has One Comment

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: