हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

संघ कार्य जीवन संगीत

दक्षिण भारत में संघ कार्य का विस्तार करने वाले श्री यादव कृष्ण जोशी का जन्म अनंत चतुर्दशी (3 सितम्बर, 1914) को नागपुर के एक वेदपाठी परिवार में हुआ था। वे अपने माता-पिता के एकमात्र पुत्र थे। उनके पिता श्री कृष्ण गोविन्द जोशी एक साधारण पुजारी थे। अतः यादवराव को बालपन से ही संघर्ष एवं अभावों भरा जीवन बिताने की आदत हो गयी।

यादवराव का डा. हेडगेवार से बहुत निकट सम्बन्ध थे। वे डा. जी के घर पर ही रहते थे। एक बार डा. जी बहुत उदास मन से मोहिते के बाड़े की शाखा पर आये। उन्होंने सबको एकत्र कर कहा कि ब्रिटिश शासन ने वीर सावरकर की नजरबन्दी दो वर्ष के लिए बढ़ा दी है। अतः सब लोग तुरन्त प्रार्थना कर शांत रहते हुए घर जाएंगे। इस घटना का यादवराव के मन पर बहुत प्रभाव पड़ा। वे पूरी तरह डा. जी के भक्त बन गये।

यादवराव एक श्रेष्ठ शास्त्रीय गायक थे। उन्हें संगीत का ‘बाल भास्कर’ कहा जाता था। उनके संगीत गुरू श्री शंकरराव प्रवर्तक उन्हें प्यार से बुटली भट्ट (छोटू पंडित) कहते थे। डा. हेडगेवार की उनसे पहली भेंट 20 जनवरी, 1927 को एक संगीत कार्यक्रम में ही हुई थी।
वहां आये संगीत सम्राट सवाई गंधर्व ने उनके गायन की बहुत प्रशंसा की थी; पर फिर यादवराव ने संघ कार्य को ही जीवन का संगीत बना लिया। 1940 से संघ में संस्कृत प्रार्थना का चलन हुआ। इसका पहला गायन संघ शिक्षा वर्ग में यादवराव ने ही किया था। संघ के अनेक गीतों के स्वर भी उन्होंने बनाये थे।

एम.ए. तथा कानून की परीक्षा उत्तीर्ण कर यादवराव को प्रचारक के नाते झांसी भेजा गया। वहां वे तीन-चार मास ही रहे कि डा. जी का स्वास्थ्य बहुत बिगड़ गया। अतः उन्हें डा. जी की देखभाल के लिए नागपुर बुला लिया गया।1941 में उन्हें कर्नाटक प्रांत प्रचारक बनाया गया।

इसके बाद वे दक्षिण क्षेत्र प्रचारक, अ.भा.बौद्धिक प्रमुख, प्रचार प्रमुख, सेवा प्रमुख तथा 1977 से 84 तक सह सरकार्यवाह रहे। दक्षिण में पुस्तक प्रकाशन, सेवा, संस्कृत प्रचार आदि के पीछे उनकी ही प्रेरणा थी। ‘राष्ट्रोत्थान साहित्य परिषद’ द्वारा ‘भारत भारती’ पुस्तक माला के अन्तर्गत बच्चों के लिए लगभग 500 छोटी पुस्तकों का प्रकाशन हो चुका है। यह बहुत लोकप्रिय प्रकल्प है।

छोटे कद वाले यादवराव का जीवन बहुत सादगीपूर्ण था। वे प्रातःकालीन अल्पाहार नहीं करते थे। भोजन में भी एक दाल या सब्जी ही लेते थे। कमीज और धोती उनका प्रिय वेष था; पर उनके भाषण मन-मस्तिष्क को झकझोर देते थे। एक राजनेता ने उनकी तुलना सेना के जनरल से की थी।

उनके नेतृत्व में कर्नाटक में कई बड़े कार्यक्रम हुए। 1948 तथा 62 में बंगलौर में क्रमशः आठ तथा दस हजार गणवेशधारी तरुणों का शिविर, 1972 में विशाल घोष शिविर, 1982 में बंगलौर में 23,000 संख्या का हिन्दू सम्मेलन, 1969 में उडुपी में वि.हि.परिषद का प्रथम प्रांतीय सम्मेलन, 1983 में धर्मस्थान में वि.हि.परिषद का द्वितीय प्रांतीय सम्मेलन, जिसमें 70,000 प्रतिनिधि तथा एक लाख पर्यवेक्षक शामिल हुए। विवेकानंद केन्द्र की स्थापना तथा मीनाक्षीपुरम् कांड के बाद हुए जनजागरण में उनका योगदान उल्लेखनीय है।

1987-88 वे विदेश प्रवास पर गये। केन्या के एक समारोह में वहां के मेयर ने जब उन्हें आदरणीय अतिथि कहा, तो यादवराव बोले, मैं अतिथि नहीं आपका भाई हूं। उनका मत था कि भारतवासी जहां भी रहें, वहां की उन्नति में योगदान देना चाहिए। क्योंकि हिन्दू पूरे विश्व को एक परिवार मानते हैं।

जीवन के संध्याकाल में वे अस्थि कैंसर से पीड़ित हो गये। 20 अगस्त, 1992 को बंगलौर संघ कार्यालय में ही उन्होंने अपनी जीवन यात्रा पूर्ण की।

इंग्लैंड तथा स्कॉटलैंड के बीच 1650 में डनबर की लड़ाई।

  • फ्रांस की नेशनल एसेंबली ने 1791 में फ्रांसीसी संविधान को पारित किया।
  • अमेरिकाऔर ब्रिटेन के बीच पेरिस की संधि के साथ 1783 को क्रांतिकारी युद्ध समाप्त हो गया।
  • अमेरिकामें 1833 को पहली सफल समाचार पत्र ‘न्यूयार्क सन’ बेंजामिन एच डे के द्वारा शुरू किया गया था।
  • रूसी सेना ने 1900 में रूस तथा मंचूरियाई सीमा के दोनों तरफ आमूर नदी पर नियंत्रण स्थापित किया।
  • कार्डिनल गियाकोमा डेल्ला चिएसा पोप बेनेडिक्ट 1914 में 15वां बना।
  • प्राचीन इस्लामी नगर दमिश्क़ पर 1918 में ब्रिटेन की सेना का अधिकार हो गया।
  • बेल्जियम में कम्युनिस्ट पार्टी की स्थापना 1921 में हुई।
  • चीन में गृह युद्ध की शुरुआत 1924 में हुई।
  • जर्मनीके पोलैंड पर चढ़ाई करने के दो दिन बाद ब्रिटेन-फ्रांस ने 1939 को उसके खिलाफ जंग का ऐलान किया।
  • ब्रिटिश प्रधानमंत्री नेविले चेम्बरलिन द्वारा एक रेडियो प्रसारण पर 1939 में ब्रिटेन औरफ्रांस का जर्मनी के खिलाफ युद्ध की घोषणा करने के साथ ही द्वितीय विश्व युद्ध शुरु हुआ।
  • दूसरे विश्व युद्ध के दौरान मित्र राष्ट्रों ने 1943 में इटली पर हमला किया।
  • द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जर्मनी के घटक देश इटली ने 1943 में हथियार डालने के समझौते पर हस्ताक्षर किये।
  • एमीलियो नीनो फरिना 1950 में पहले F1 वर्ल्‍ड चैपिंयन बने।
  • अमेरिकी अटॉर्नी जनरल रॉबर्ट केनेडी ने 1964 में इस्तीफा दिया।
  • कतर 1971 को स्वतंत्र राष्ट्र बना।
  • दक्षिण अफ्रीका ने 1984 में संविधान को अंगीकार किया।
  • दक्षिण फिलिपीन्स में 1984 को आये एक भयानक तूफान की वजह से करीब 1300 मारे गए और सैकड़ों घायल हुए।
  • स्विस एयर का न्यूयॉर्क से जेनेवा जा रहा हवाई जहाज़, नोवा स्कोटिया के पास समुद्र में गिर गया। इस जहाज़ ने 1998 में हादसे के महज़ एक घंटे पहले ही उड़ान भरी थी।
  • नेल्सन मंडेलाद्वारा गुट निरपेक्ष आंदोलन शिखर सम्मेलन में 1998 में कश्मीर का मुद्दा उठाये जाने पर प्रधानमंत्री वाजपेयी ने कड़ी आपत्ति व्यक्त की।
  • पाकिस्तानसरकार द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो पर 2003 में देशद्रोह का मुकदमा चलाने का निर्णय।
  • रुसी सैनिकों ने 2004 में अपहरणकर्ताओं के कब्‍जे से स्कूल मुक्त कराया।
  • यूरोप का पहला त्रिवर्षीय चंद्र मिशन 2006 में समाप्त। भारतीय मूल के भरत जगदेव ने गुयाना के राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली।
  • चीन के झिंगजियांग प्रान्त में 2007 को चीनी व जर्मन विशेषज्ञों ने लगभग 16 करोड़ साल पुराने जीव के 17 दांत खोजने का दावा किया।
  • बांग्लादेशकी पूर्व प्रधानमंत्री ख़ालिदा जिया और उनके सबसे छोटे पुत्र अराफ़ात रहमान कोको को 2007 में भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ़्तार किया गया।
  • राजेन्द्र कुमार पचौरी को 2008 में संयुक्त राष्ट्र की संस्था जलवायु परिवर्तन के अन्तर सरकारी पैनल (आईपीसीसी) का पुनः प्रमुख चुना गया।
  • आंध्र प्रदेशके मुख्यमंत्री वाई. एस. रेड्डी की 2009 में हेलीकाप्टर दुर्घटना में मौत हो गयी।
  • भारतऔर पाकिस्तान में 2014 को अचानक अायी बाढ़ के कारण दो सौ से ज्यादा लोगों की मौत।

3 सितंबर को जन्मे व्यक्ति

  • मुमताज़ महल (नूरजहाँ) की पुत्री रोशन आरा बेगम का जन्म 1617 को हुआ था।
  • भारतीय राजनीतिज्ञ, लेखक, पत्रकार औरस्वतंत्रता सेनानी कमलापति त्रिपाठी का जन्म 1905 को हुआ था।
  • कनाडाई मेज़ो सोप्रानो सैली टेरी का जन्म 1922 में हुआ।
  • फिरोज़ी चित्रकार स्टेफन Danielsen का जन्म 1922 में हुआ।
  • सुप्रसिद्ध तबला वादक किशन महाराज का जन्म 1923 को हुआ था।
  • भारतीय सिनेमा में हिन्दी और बांग्ला फ़िल्मों के प्रसिद्ध अभिनेता उत्तम कुमार का जन्म 1926 को हुआ था।
  • हिंदी सिनेमा की प्रसिद्ध संगीतकार जोड़ी लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल में से एक, प्यारेलाल का जन्म 1940 को हुआ था।
  • विश्व प्रसिद्ध रहस्यवादी और भारतीय मूल के योगीजग्गी वासुदेव का जन्म 1957 को हुआ था।
  • भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी राहुल साघवी का जन्म 1974 को हुआ था।
  • भारतीय फिल्म अभिनेता विवेक ओबेराय का जन्म 1976 को हुआ था।
  • भारत की प्रसिद्ध महिला पहलवानसाक्षी मलिक का जन्म 1992 को हुआ था।

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: