हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

भारतीय सिनेमा के रुपहले पर्दे पर पीरियड फिल्में हमेशा ही हिट रही हैं। पीरियड ड्रामा का जादू बॉक्स ऑफिस के सर चढ़कर बोलता आया है। कई पीरियड फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर हिट होकर अपनी विशिष्टता सिद्ध की है। पीरियड फिल्मों की कहानी जो किसी विशेष घटना, समय या किरदार से प्रेरित हो, दर्शकों को ख़ूब भाती है।

इस वर्ष यानी दो हज़ार उन्नीस के प्रारंभ में आई फ़िल्म ‘मणिकार्णिका’, एक बड़ी हिट साबित हुई। पच्चीस जनवरी को रिलीज़ हुई इस फ़िल्म की नायिका कंगना रनाउत ने दर्शकों की खूब वाह वाही लूटी – एक नायिका के रूप में भी और एक निर्देशक के रूप में भी। निर्देशक के रूप में ये उनकी पहली फ़िल्म है। झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई की वीरगाथा पर आधारित लगभग एक सौ पच्चीस करोड़ की लागत की इस फ़िल्म को दर्शकों ने खूब सराहा। इस फिल्म में डैनी डैनजोगप्पा, सुरेश ओबेरॉय, अंकिता लोखंडे और अतुल कुलकर्णी अहम किरदार निभाते नजर आए। सभी के अभिनय को भी सराहना मिली। कंगना रनाउत स्टारर ये फ़िल्म दो हज़ार उन्नीस की पहली पीरियड फ़िल्म है।

इस फिल्म के बाद इक्कीस मार्च को रिलीज़ हुई ‘केसरी’ को भी दर्शकों का स्नेह प्राप्त हुआ। अक्षय कुमार इस फ़िल्म के मुख्य किरदार की भूमिका में थे। अफगान लड़ाकों और सिखों के बीच हुए युद्ध पर इसकी फ़िल्म के प्लाट को रचा गया है। इस फिल्म की कहानी अट्ठारह सौ सत्तानब्बे में हुए ‘सारागढ़ी के युद्ध’ पर आधारित है। परिणीति चोपड़ा भी इस फ़िल्म में अक्षय कुमार के साथ नज़र आईं। अनुराग सिंह के निर्देशन में बनी इस फिल्म को भी अपनी विशिष्ट पटकथा के लिए काफी सराहना मिली है।

फिर आई फ़िल्म ‘कलंक’ जिसमें एक अच्छी खासी स्टारकास्ट रही। कई वर्षों के बाद माधुरी दीक्षित और संजय दत्त की जोड़ी इस फ़िल्म में एक साथ नज़र आई। अभिषेक वर्मन के निर्देशन में बनी इस मल्टीस्टारर फ़िल्म में वरुण धवन, आलिया भट्ट, आदित्य रॉय और सोनाक्षी सिन्हा अहम भूमिकाओं में दिखे।

आगे भी इस वर्ष दर्शकों को और भी पीरियड ड्रामा फिल्में देखने को मिलेंगी, जैसे कि – ‘तानाजी: द अनसंग वॉरियर’ और  ‘पानीपत’।  ‘तानाजी: द अनसंग वॉरियर’ का प्लाट सत्रवी शताब्दी में हुए ‘सिंहगढ़ युद्ध’ पर आधारित है। मुगलों और मराठाओं के बीच हुए इस युद्ध पर आधारित इस  फिल्म में अजय देवगन मुख्य पात्र मराठा साम्राज्य के सेनापति तानाजी मालुसरे के किरदार में नज़र आएंगे।  साथ ही, सैफ अली खान, काजोल, सुनील शेट्टी और पंकज त्रिपाठी भी इस फ़िल्म में दिखेंगे। बाईस नवंबर दो हज़ार उन्नीस को रिलीज़ हो रही इस फिल्म का निर्देशन ओम राउत कर रहे हैं।

इसके बाद पीरियड ड्रामा फिल्मों के विशेषज्ञ माने जाने वाले निर्देशक आशुतोष गोवारिकर की ‘पानीपत’ के तीसरे युद्ध पर आधारित फिल्म भी दिसंबर में रिलीज़ हो सकती है। इससे पहले भी आशुतोष गोवारिकर ‘जोधा अकबर’ और ‘मोहनजोदारो’ जैसी पीरियड फिल्में बना चुके हैं। अफगान शासक अहमद शाह अब्दाली और मराठाओं के बीच हुए इस प्रसिद्ध ऐतिहासिक युद्ध पर इसकी कहानी आधारित है। पद्मिनी कोल्हापुरी, संजय दत्त, अर्जुन कपूर और कृति सैनन इस फ़िल्म के मुख्य किरदार निभाते नजर आएंगे। तो कुल मिलाकर ये वर्ष पीरियड फ़िल्मों को समर्पित है। अलग-अलग घटनाओं और विभुतियों पर आधारित ये फिल्में एक बार फिर वर्ष के अंत तक दर्शकों की पसंदीदा फिल्मों की श्रेणी में शामिल होंगी ऐसी उम्मीद की जा सकती है।

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: