हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में आयोजित हाउडी मोदी इवेंट में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में सभी को मन्त्रमुग्ध कर दिया. उन्होंने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मौजूदगी में उनकी खुले दिल से प्रशंसा की और व्हाइट हॉउस को भारत का सच्चा दोस्त बताया. इसके बाद चुनावी नारा देते हुए उम्मीद जताई कि ‘अब की बार ट्रंप सरकार’. राष्ट्रपति ट्रंप ने भी मोदी के नेतृत्व में विकास कार्यों, सुधारों, उपलब्धियों और भारत की बढ़ती ताकत का उल्लेख किया. इस दौरान ५०,००० से अधिक भारतीय अमेरिकी नागरिक एनआरजी स्टेडियम में उपस्थित थे. भारत की विविधता में एकता का जिक्र करते हुए मोदी ने नए भारत का संकल्प जताया और अपने ५ वर्षो के कार्यकाल की उपलब्धियां भी बताई. जैसे ही मोदी ने आर्टिकल ३७० पर बोलना शुरू किया वैसे ही मौजूद लोगों में उत्साह व जोश की लहर दौड़ गई और स्टेडियम तालियों की गडगडाहट से गूंज उठा. इसके साथ ही पाकिस्तान का नाम लिए बिना ही मोदी ने कहा कि ९/११ हो या २६/११ का आतंकवादी हमला हो उसके षड्यंत्रकर्ता किस देश में मिलते है. आतंकवादियों को किस देश में पाला – पोशा जाता है. यह पूरी दुनिया भलीभांति जानती है. बता दें कि कार्यक्रम स्थल के बाहर बड़ी संख्या में बलूची, सिन्धी और खैबर-पख्तुन्वा के लोगों ने पाकिस्तान के जुल्मों सितम से मुक्त होने के लिए आजादी की मांग बुलंद की. इसके पूर्व प्रधानमंत्री मोदी कश्मीरी पंडित, बोहरा समुदाय और सिख प्रतिनिधियों सहित अन्य भारतीयों से मुलाकात की. गौरतलब है कि दुनिया ने पहली बार प्रवासी भारतीयों की विराट शक्ति का दर्शन किया है. अमेरिका को मजबूत बनाने में प्रवासी भारतीयों का अहम योगदान है. बताया जाता है कि प्रवासी भारतीयों के बूते ही भारत के प्रति अमेरिकी नीति में सकारात्मक बदलाव आया है. क्या साझा सपनों से होगा भारत–अमेरिका का उज्जवल भविष्य ? अपनी बेबाक राय दें .

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: