हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

* पिछले अंक से आगे…

लक्ष्य निर्धारण का आपकी सफलता में सर्वाधिक महत्व होता है। यदि आपके जीवन का कोई लक्ष्य आपने निर्धारित नहीं किया है तो आपकेे जीवन यात्रा का कोई अर्थ ही नहीं निकलता। फिर इस यात्रा को एक सफल यात्रा का रूप देना और भी मुश्किल हो सकता है। एक बहुत ही आम उदाहरण है- यदि आपको किसी यात्रा पर किसी दूसरे शहर या देश  जाना है तब आप अपने घर से निकलते हैं और उसी शहर या देश का टिकट ख़रीदते हैं जो आपने निर्धारित किया है। निकलते समय ज़रूरत का वो सभी सामान आप रख लेते हैं जो आपके लिए यात्रा के दौरान और वहां पहुँचकर काम आना होता है। अपनी यात्रा की योजना क्योंकि आपने ठीक ढंग से बनाई है, इसलिए आप अपने परिवार, मित्रों और संबंधियों को भी ये बताने में समर्थ होते  हैं कि इस यात्रा पर आप क्या-क्या करने की सोच रहे हैं, या फिर आप कब तक अपने लक्ष्य तक पहुंचेंगे, या फिर कब तक वहां से वापस घर आएंगे, इत्यादि।

लेकिन अगर घर से निकलने से पहले आपको यही नहीं पता होगा कि आप कहाँ जाना चाहते हैं ? तो फिर ऐसे में आप टिकट कहाँ का ख़रीदेंगे? और कैसे आप अपने परिवार, मित्रों और संबंधियों को ये बताने में समर्थ होंगे हैं कि इस यात्रा पर आप क्या-क्या करने की सोच रहे हैं, या फिर आप कब तक अपने लक्ष्य तक पहुंचेंगे, या फिर कब तक वहां से वापस घर आएंगे? सबकुछ, बिखरा हुआ ही होगा। इसलिए लक्ष्य निर्धारण एक सफल जीवन यात्रा की ओर आपका सबसे पहला कदम होता है।

हर प्रकार से लक्ष्य निर्धारण सफलता प्राप्त करने में सहायक होता है। यदि एक बार आपने कोई लक्ष्य निर्धारित कर लिया तो फिर, आप भटकाव की स्थिति में नहीं पड़ते। चूँकि आपको पता है कि आपको कहाँ जाना है, क्या करना है और जीवन से आप क्या चाहते हैं, इसलिए आप किसी भी तरह, या किसी के बहकाने से भी भटकते नहीं हैं।

लक्ष्य निर्धारण आपको एकाग्रता प्रदान करता है। आपका ध्यान एक ही लक्ष्य की ओर होता है, जिससे आपकी एकाग्रता बढ़ती है जो सफलता के लिए बहुत ज़रूरी है।

लक्ष्य निर्धारण आपको प्रेरणा देता है। आपका लक्ष्य आपके लिए एक मोटिवेशनल अर्थात एक अभिप्रेरित करने का सबसे अच्छा माध्यम होता है। इसकी ओर आपके बढ़ते कदम आपको निरंतर चलते रहने का साहस देते हैं।

लक्ष्य निर्धारण आपको स्वयं की सफलता मापने के अवसर देता है। अपने लक्ष्य से अपनी दूरी को मापकर आप ये माप सकते हैं कि आप सफलता से कितने दूर हैं, क्या कमियाँ हैं और क्या कुछ करना बाकी रह गया है, एक सफ़ल व्यक्ति बनने के लिए।

लक्ष्य निर्धारण आपको एक ज़िम्मेदार व्यक्ति भी बनाता है – एक ऐसा व्यक्ति जिसका हर कार्य एक योजना के अंतर्गत होता है, जिसका समय ठीक तरह से बंटा होता है, और इन सब खूबियों के चलते वह अपने परिवार और समाज को निश्चित ही कुछ अच्छा देने की क़ाबलियत रखता है।

                                                                                                                                                                 *लेख जारी रहेगी अगले अंक में

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: