हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

सिंध में मुसलमानों का आतंक

सिन्ध की भूमि ने अनेक वीर, भक्त एवं विद्वान् भारत को दिये हैं। उनमें से ही एक थे सन्त कँवरराम जी। 13 अप्रैल, 1885 को बैसाखी के पावन पर्व पर ग्राम जरवार, तहसील मीरपुर माथेलो, जिला सक्खर में उनका जन्म हुआ। इनके पिता श्री ताराचन्द्र एवं माता श्रीमती तीर्थबाई थीं।

श्री ताराचन्द्र एक छोटी दुकान चलाते थे। सिन्ध के परम विरक्त सन्त श्री खोतराम साहिब के आशीर्वाद से उनको पुत्र प्राप्ति हुई थी। सन्त जी ने बताया कि कमल के फूल की तरह यह बालक संसार में रहकर भी संसार से अलिप्त रहेगा।

बाल्यावस्था से ही कँवरराम का मन प्रभुभक्ति में बहुत लगता था। घर में बहुत निर्धनता थी, अतः माता उन्हें कुछ चने उबालकर बेचने को दे देती थी। उनकी आवाज बहुत मधुर थी। एक बार गाँव में सन्त खोतराम साहिब के पुत्र सन्त रामदास जी का कार्यक्रम हो रहा था। उन्होंने कँवरराम को बुलाकर कुछ भजन सुने और सारे चने प्रसादस्वरूप भक्तों में बँटवा दिये। जब उन्होंने उन चनों का मूल्य पूछा, तो कँवरराम ने पैसे लेने से मना कर दिया। इससे सन्त जी ने मन ही मन उसे अपना उत्तराधिकारी मान लिया।

बालक को हर समय भक्ति में डूबा देख पिताजी उसे फिर सन्त रामदास साहिब के पास ले गये कि वे इसे समझाकर घर के कार्यों की ओर उन्मुख करें; पर कँवरराम इनसे ऊपर उठकर गरीबों और प्रभुभक्तों की सेवा का व्रत ले चुके थे। धीरे-धीरे उनकी ख्याति चारों ओर फैल गयी।

एक बार वे शिकारपुर के शाही बाग में प्रवचन कर रहे थे। एक महिला ने अपने मृत बच्चे को इनकी गोदी में डाल दिया। सन्त जी बच्चे को लोरी सुनाने लगे। इस पर वह रोने लगा। जब उस महिला ने संगत को यह बताया, तो सब सन्त जी की जय-जयकार करने लगे। ऐसे ही चमत्कारों के अनेक प्रसंग कँवरराम जी के साथ जुड़े हैं।

उन दिनों सिन्ध में मुसलमानों का बहुत आतंक था। पाकिस्तान की माँग जोर पकड़ रही थी; पर सन्त कँवरराम जी सतत प्रवास करते हुए अपने सत्संग में सदा मानवता, शान्ति, प्रेम और सद्भाव की बातें करते थे। इससे कट्टरपन्थी मुसलमान उनसे रुष्ट हो रहे थे।

1 नवम्बर, 1940 को सन्त जी जिला दादू में माँणदन की दरबार में अपने एक भक्त भाई गोविन्दराम जी की बरसी में गये थे। वहाँ से वे दानू नगर में एक बालक के नामकरण उत्सव में शामिल हुए। वहीं भोजन करते हुए उनके हाथ से अचानक कौर छूट गया। सन्त जी ने इसे प्रभु की माया समझकर थाली एक ओर खिसका दी।

रात में ‘रूक’ नामक स्टेशन से दस बजे सन्त जी को गाड़ी पकड़नी थी। घोर अंधेरी रात थी। तभी दो बन्दूकधारी मुसलमान उनके पास आये और उनसे अपनी कार्यपूर्ति के लिए आशीर्वाद माँगा। सरल हृदय सन्त कँवरराम जी ने उन्हें प्रसादस्वरूप अंगूर देकर कहा कि अपने खुदा में विश्वास रखो, कार्य अवश्य पूरा होगा। यह कह कर वे रेल में बैठ गये। जैसे ही गाड़ी चली, उन मुसलमानों ने सन्त जी को निशाना बनाकर गोलियाँ दाग दीं। सन्त जी के मुँह से ‘हरे राम’ निकला और उन्होंने वही देहत्याग दी।

थोड़े ही समय में सम्पूर्ण सिन्ध में यह समाचार फैल गया। कुछ दिन बाद ही दीवाली थी; पर लोगों ने सन्त जी की हत्या के विरोध में शोकवश दीपक नहीं जलाये। विभाजन के बाद सन्त कँवरराम जी के भक्त जहाँ भी आकर बसे, वहाँ वे उनकी स्मृति में अनेक विद्यालय, चिकित्सालय, अनाथाश्रम, पौशाला, विधवाश्रम आदि चलाकर समाजसेवा में लगे हैं।

1 नवंबर

पुर्तग़ाल की राजधानी लिस्बन में 1755 को आये भूकंप से 50 हजार से अधिक लोगों की मौत।

  • ब्रिटेन के उपनिवेशों में 1765 को स्टैम्प एक्ट लागू किया गया।
  • जॉन एडम्स 1800 को व्हाइट हाउस में रहने वाले अमेरिका के पहले राष्ट्रपति बने।
  • कलकत्ता में 1881 को ट्राम सेवा स्यालदाह तथा अर्मेनिया घाट के बीच शुरू हुई।
  • पनामा की जनता का संघर्ष 1903 में सफल हुआ और यह देश पूर्ण रुप से स्वतंत्र हो गया।
  • स्वतंत्रता सेनानीतारकनाथ दास ने कैलिफोर्निया के सैन फ्रांसिस्को शहर में गदर आंदोलन की शुरुआत 1913 में की।
  • फिनिश ध्वज वाहक फिनेयर वायुसेवा एयरो ओय में 1923 में शुरू हो गया।
  • 1944 में द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान ब्रिटेन की सेना नीदरलैंड के वालचेरेन पहुंची।
  • पश्चिमजर्मनी के राज्य निदरसचसेन का 1946 में गठन किया गया।
  • भारत में 1950 में पहला भाप इंजन चितरंजन रेल कारखाने में बनाया गया।
  • जय नारायण ने 1952 में राजस्थान के मुख्यमंत्री पद को ग्रहण किया।
  • 1956 मेंकर्नाटक राज्य की स्थापना।
  • भाषा के आधार पर 1956 मेंमध्य प्रदेश राज्य का गठन किया गया।
  • राजधानीदिल्ली  को 1956 में केन्द्र शासित राज्य बना।
  • बेज़वाड़ा गोपाल रेड्डी को 1956 में आंध्र राज्य के मुख्यमंत्री से पदमुक्ति।
  • नीलम संजीव रेड्डीने 1956 में आंध्र राज्य के मुख्यमंत्री पद को ग्रहण किया।
  • 1956 मेंकेरल राज्य की स्थापना।
  • 1956 मेंआंध्र प्रदेश राज्य की स्थापना।
  • 1956 में हैदराबाद राज्य प्रशासनिक रूप से समाप्त हो गया।
  • एस. निजलिंगप्पा ने 1956 में कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद को ग्रहण किया।
  • पंडित रविशंकर शुक्ल ने 1956 में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पद को ग्रहण किया।
  • 1966 मेंहरियाणा राज्य की स्थापना।
  • 1966 में चण्‍डीगढ़ राज्य की स्थापना।
  • 1972 में कांगड़ा ज़िले के तीन ज़िले कांगड़ा, ऊना तथा हमीरपुर बनाए गए।
  • 1973 में मैसूर का नाम बदलकर कर्नाटक किया गया।
  • संयुक्त राष्ट्र ने 1974 में पूर्वी भूमध्यसागरीय देश सायप्रस की स्वतंत्रता को मान्यता दी।
  • बोलिविया में 1979 में सत्ता पर सेना का कब्ज़ा।
  • भारत की तत्काली प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद 1984 में देश में सिख विरोध दंगे भड़क गया.
  • अमेरिकी प्रतिनिधि सभा द्वारा 1995 में पाकिस्तान को 80 करोड़ डॉलर के हथियार देने संबंधी बहुचर्चित ‘ब्राउन संशोधन’ पारित।
  • ढाका में 1998 में दक्षिण अफ़्रीका ने वेस्टवंडीज को हराकर क्रिकेट का विल्स मिनी विश्व कप जीता।
  • 2000 मेंछत्तीसगढ़ राज्य का गठन हुआ।
  • बेनेट किंग 2004 में वेस्ट इंडीज क्रिकेट बोर्ड के पहले विदेशी कोच बने।
  • संयुक्त राष्ट्र में 2005 में द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान नाजी हमले में मारे गये 60 लोगों की याद में 27 जनवरी को विश्व नरसंहार दिवस के रूप में मनाने का प्रस्ताव पेश किया गया।
  • श्रीलंकाकी संसद ने 2007 में देश की जातीय समस्या को सुलझाने के लिए आपातकाल की अवधि बढ़ायी।
  • रिजर्व बैंक ने 2008 में बड़ोदरा से संचालित वित्त कम्पनी मैसर्स एसडीएफसी फाइनेंस लिमिटेड का पंजीकरण रद्द किया।
  • चीन ने 2010 में दस साल में पहली बार जनगणना करने की घोषणा की।

1 नवंबर को जन्मे व्यक्ति –

  • प्रसिद्ध कथावाचक एवं हिन्दी साहित्यकार रामकिंकर उपाध्याय का जन्म 1924 में हुआ।
  • उर्दू भाषा के प्रसिद्ध लेखक व शायर अब्दुल क़ावी देसनावी का जन्म 1930 में हुआ।
  • हिन्दी भाषा की लब्ध प्रतिष्ठित उपन्यासकार, कवयित्री तथा नारीवादी चिंतक तथा समाज सेविका प्रभा खेतान का जन्म 1942 में हुआ।
  • प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ एवं संसदीय कार्य राज्यमंत्री संतोष गंगवार का जन्म 1948 में हुआ।
  • भारत के सबसे अमीर व्यक्तिमुकेश अंबानी की पत्नी नीता अंबानी  का जन्म 1964 को था।
  • भारतीय अभिनेत्री एवं पूर्व मिस वर्ल्डऐश्वर्या राय का जन्म 1973 में हुआ।
  • भारतीय अभिनेत्री रूबी भाटिया का जन्म 1973 में हुआ।
  • 1987 को भारतीय अभिनेत्री “इलियाना डिक्रूज” का जन्म हुआ था।

1 नवंबर को हुए निधन –

  • भारत के प्रमुख स्वतन्त्रता सेनानियों में से एक दामोदर मेनन का 1980 में निधन।

1 नवंबर के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव – 

  • पांडिचेरी विलय दिवस (भारत)
  • आंध्र प्रदेश स्थापना दिवस
  • कर्नाटक स्थापना दिवस
  • अंतर्राष्ट्रीय रेड क्रास दिवस (सप्ताह)
  • हरियाणा का स्थापना दिवस
  • केरल का स्थापना दिवस
  • मध्य प्रदेश का स्थापना दिवस
  • छत्तीसगढ़ का स्थापना दिवस

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: