हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

 वंदेमातरम् पर बलिदान युवा क्रांतिकारी

मध्य प्रदेश का एक बड़ा भाग परम्परा से महाकौशल कहा जाता है। इसका सबसे बड़ा एवं सांस्कृतिक रूप से समृद्ध नगर जबलपुर है। नर्मदा के तट पर बसा यह नगर जाबालि ऋषि के तप की गाथा कहता है। इसका प्राचीन नाम जाबालिपुरम् था, जो कालान्तर में जबलपुर हो गया। भोपाल को मध्य प्रदेश की राजधानी तथा जबलपुर को संस्कारधानी कहलाने का गौरव प्राप्त है। आचार्य विनोबा भावे ने जबलपुर को यह नाम दिया था।

जबलपुर के निकट ही त्रिपुरी (वर्तमान तेवर) नामक नगर है। यहीं के क्रूर राक्षस त्रिपुर का वध करने से भगवान शिव त्रिपुरारी कहलाए। यहां पर ही 1939 में कांग्रेस का ऐतिहासिक त्रिपुरी अधिवेशन हुआ था। इसमें नेता जी सुभाष चंद्र बोस ने गांधी जी द्वारा मैदान में उतारे गये प्रत्याशी पट्टाभि सीतारमैया को कांग्रेस के अध्यक्ष पद के चुनाव में हरा कर हलचल मचा दी थी।

इसी जबलपुर नगर में 1928 में श्री लक्ष्मण सिंह के घर में एक तेजस्वी बालक का जन्म हुआ। माता-पिता ने उसके गुलाब के समान खिले मुख को देखकर उसका नाम गुलाब सिंह रख दिया। सब परिजनों को आशा थी कि यह बालक उनके परिवार की यश-सुगंध सब ओर फैलाएगा; पर उस बालक के भाग्य में विधाता ने देशप्रेम की सुगंध के विस्तार का कार्य लिख दिया था।

1939 के त्रिपुरी अधिवेशन के समय गुलाबसिंह की अवस्था केवल 11 वर्ष की थी; पर उन दिनों सब ओर सुभाष चंद्र बोस के व्यक्तित्व की चर्चा से उसके मन पर सुभाष बाबू की आदर्श छवि अंकित हो गयी। इससे प्रेरित होकर उसने अपने पिताजी से कहकर एक खाकी वेशभूषा सिलवाई। इसे पहनकर वह अपने समवयस्क मित्रों के साथ प्रायः नगर की गलियों में भारत माता की जय और वन्दे मातरम् के नारे लगाता रहता था।

1942 में जब पूरे देश में गांधी जी के आह्नान पर ‘अंग्रेजो भारत छोड़ो’ आंदोलन का नारा गूंजा, तो उसकी आग से महाकौशल एवं जबलपुर भी जल उठे। चार दिसम्बर, 1942 को जबलपुर में एक विशाल जुलूस निकला। यह जुलूस घंटाघर से प्रारम्भ होकर नगर की ओर बढ़ने लगा।

गुलाबसिंह उस समय केवल कक्षा सात का छात्र था। उसकी लम्बाई भी कम ही थी; पर उसके उत्साह में कोई कमी नहीं थी। उसने हर बार की तरह अपनी खाकी वेशभूषा पहनी और तिरंगा झंडा लेकर जुलूस में सबसे आगे पहुंच गया। इस वेश में वह एक वीर सैनिक जैसा ही लग रहा था। कुछ दूर आगे बढ़ने पर पुलिस ने जुलूस का रोककर सबको बिखर जाने को कहा। कुछ ढीले मन वाले पीछे हटने पर विचार करने लगे; पर गुलाबसिंह ने अपने हाथ के तिरंगे को ऊंचा उठाया और नारे लगाते हुए तेजी से आगे बढ़ चला। उसका यह साहस देखकर बाकी लोग भी जोश में आ गये।

पर इससे पुलिस बौखला गयी। पुलिस कप्तान के आदेश पर अचानक वहां गोली चलने लगी। पहली गोली सबसे आगे चल रहे गुलाबसिंह के सीने और पेट में लगी। वह वन्दे मातरम् कहता हुआ धरती पर गिर पड़ा। साथ चल रहे अन्य आंदोलनकारियों ने उसे तुरन्त अस्पताल पहुंचाया, जहां अगले दिन पांच नवम्बर, 1942 को उसने प्राण छोड़ दिये। इस प्रकार केवल 14 वर्ष की अल्पायु में ही वह मातृभूमि के ऋण से उऋण हो गया।

5 नवंबर 1556 में हुए पानीपत के दूसरे युद्ध में मुग़ल शासक अकबर ने हेमू को हराया।

  • स्पेन और इंग्लैंड के बीच 1630 में शांति समझौते पर हस्ताक्षर।
  • मैसाच्युसेट्स में 1639 में पहले डाकघर की स्थापना।
  • जर्मनीकी विशेष सेना ब्रैंडनबर्गर्स ने 1678 में स्वीडन में ग्रीफ्सवाल्ड शहर पर कब्जा जमाया।
  • स्पेन औरआस्ट्रिया ने 1725 में गुप्त समझौते पर हस्ताक्षर किये।
  • 1854 में हुए क्रीमिया के युद्ध में ब्रिटिश औरफ्रांस की संयुक्त सेना ने इकेरमान में रूसी सेना को पराजित किया।
  • उल्येसेस एस ग्रांट 1872 में अमेरिका के दूसरी बार राष्ट्रपति निर्वाचित।
  • आटो मोबाइल के लिए जॉर्ज बी सेल्डम को 1895 मेंअमेरिका का पहला पेटेंट मिला।
  • इंग्लैंड एवं फ्रांस द्वारा तुर्की के विरुद्ध युद्ध की घोषणा 1914 में  की गयी।
  • इंडियन रेडक्राॅस सोसाइटी की स्थापना 1920 में हुयी।
  • अमेरिकाके महान् साहित्यकार सिन्क्लेयर लेविस को 1930 में उनकी कृति ‘बाबित्त’ के लिये साहित्य का नोबल पुरस्कार मिला।
  • एडोल्फ हिटलरने 1937 में गुप्त बैठक बुला कर जर्मन जनता के लिए ज्यादा जगह लेने की अपनी योजना का खुलासा किया।
  • नावेदा परमाणु परीक्षण केंद्र में 1951 में अमेरिका ने परमाणु परीक्षण किया।
  • भारत के प्रथम प्रधानमंत्रीजवाहरलाल नेहरू ने 1961 में न्यूयार्क की यात्रा की।
  • सोवियत संघ ने 1976 में परमाणु परीक्षण किया।
  • इस्रायल के प्रधानमंत्री यित्जाक रॉबिन की 1995 में गोली मारकर नृशंस हत्या।
  • पाकिस्तानके राष्ट्रपति फारूख अहमद खान ने 1996 में बेनजीर भुट्टो की सरकार को हटा कर पाक नेशनल असेंबली भंग की।
  • वेस्टइंडीज के महानतम तेज गेंदबाज़ मैल्कम मार्शल का 1999 में निधन।
  • भारत तथा रूस ने 2001 में अफ़ग़ान सरकार में तालिबान की भागीदारी नामंजूर की।
  • ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला खुमैनी ने 2002 में जेल में बंद देश के शीर्ष असंतुष्ट नेता अब्दुल्ला नूरी को आम माफी दी।
  • इराक के पूर्व राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन को 2006 में दो साथियों सहित 1982 में 148 शियाओं की हत्या के आरोप में मौत की सजा सुनाई गई।
  • इराक के उच्चाधिकार न्यायाधिकरण ने 2006 में देश के अपदस्थ राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन को मानवता के ख़िलाफ़ अपराध का दोषी पाते हुए फाँसी की सज़ा सुनाई।
  • चीन का पहला अंतरिक्ष यान 2007 में चेंज-1 चंद्रमा की कक्षा में पहुंचा।
  • सीरिया में 2012 में हुए आत्मघाती बम विस्फाेट में 50 सैनिक मरे।

5 नवंबर को जन्मे व्यक्ति 

  • महान् स्वतंत्रता सेनानीचित्तरंजन दास का 1870 में जन्म हुआ।
  • हरियाणा के भूतपूर्व मुख्यमंत्री तथास्वतंत्रता सेनानी बनारसी दास गुप्ता का 1917 में जन्म हुआ।
  • हिन्दी के प्रसिद्ध साहित्यकार उदयराजसिंह का 1921 में जन्म हुआ।

5 नवंबर को हुए निधन 

  • भारतीय राजनेता तथा बंबई नगरपालिका के संविधान (चार्टर) के निर्माता फ़िरोजशाह मेहता का 1915 में निधन।
  • ध्रुपद तथा ख़याल गायन शैली के श्रेष्ठतम गायक फ़ैयाज़ ख़ाँ का 1950 में निधन।
  • प्रसिद्ध कवि एवं आलोचक विजयदेव नारायण साही का 1982 में निधन।
  • रगतिवादी विचारधारा के लेखक और कवि नागार्जुन का 1998 में निधन।
  • हिन्दी फ़िल्म निर्माता-निर्देशक बी. आर. चोपड़ा का 2008 में निधन।
  • भारत के ऐसे विलक्षण कलाकार भूपेन हज़ारिका का 2011 में निधन।

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: