हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

 निष्ठापूर्ण दायित्व निर्वहन

स्वाधीनता संग्राम के दौरान संघ के संस्थापक डा. हेडगेवार ने 1930-31 में जंगल सत्याग्रह में भाग लिया था। उन दिनों संघ अपनी शिशु अवस्था में था।  शाखाओं की संख्या बहुत कम थी। डा. जी नहीं चाहते थे कि उनके जेल जाने से संघ कार्य में कोई बाधा आये। अतः वे अपने मित्र तथा कर्मठ कार्यकर्ता डा. परांजपे को सरसंघचालक की जिम्मेदारी दे कर गये।

डा. परांजपे ने इस दायित्व को पूर्ण निष्ठा से निभाया। उन्होंने इस दौरान शाखाओं को दुगना करने का लक्ष्य कार्यकर्ताओं के सम्मुख रखा। डा. हेडगेवार जब लौटे, तो उन्होंने यह दायित्व फिर से डा. जी को सौंप दिया। डा. हेडगेवार के ध्यान में यह बात भी आयी कि इस दौरान उन्होंने अनेक नयी शाखाएं खोली हैं। वे डा. जी से मिलने कई बार अकोला जेल में भी गये।

डा. परांजपे का परिवार मूलतः कोंकण क्षेत्र के आड़ा गांव का निवासी था। उनका जन्म 20 नवम्बर, 1877 को नागपुर में हुआ था। उनका बालपन वर्धा में बीता। वहां से कक्षा चार तक की अंग्रेजी शिक्षा पाकर वे नागपुर आ गये। नागपुर के प्रसिद्ध नीलसिटी हाइस्कूल में पढ़ने के बाद उन्होंने मुंबई के ग्रांट मैडिकल कॉलिज से एल.एम.एंड एस. की उपाधि ली तथा 1904 ई. से नागपुर में चिकित्सा कार्य प्रारम्भ कर दिया।

डा. परांजपे बालपन से ही अपने मित्रों को साथ लेकर व्यायाम करने के लिए प्रतिदिन अखाड़े जाते थे। डा. मुंजे के साथ वे लोकमान्य तिलक के समर्थक थे। 1920 में नागपुर में हुए कांग्रेस अधिवेशन में व्यवस्था करने वाली स्वयंसेवकों की टोली के प्रमुख डा. हेडगेवार तथा डा. परांजपे ही थे। इस नाते उनकी डा. हेडगेवार से अच्छी मित्रता हो गयी, जो आजीवन बनी रही।

नागपुर में बाजे-गाजे के साथ धार्मिक जुलूस निकालने की प्रथा थी; पर 1923 से मुसलमान मस्जिद के सामने से इनके निकलने पर आपत्ति करने लगे। अतः स्थानीय हिन्दू पांच-पांच की टोली में ढोल-मंजीरे के साथ वारकरी पद्धति से ‘दिण्डी’ भजन गाते हुए वहां से निकलने लगे। यह एक प्रकार का सत्याग्रह ही था। 11 नवम्बर, 1923 को श्रीमंत राजे लक्ष्मणराव भोंसले के इसमें शामिल होने से हिन्दुओं का उत्साह बढ़ गया।

इस घटना से हिन्दुओं को लगा कि हमारा भी कोई संगठन होना चाहिए। अतः नागपुर में श्रीमंत राजे लक्ष्मणराव भोंसले के नेतृत्व में हिन्दू महासभा की स्थापना हुई।  डा. परांजपे के नेतृत्व में नागपुर कांग्रेस में लोकमान्य तिलक और हिन्दुत्व के समर्थक 16 युवकों का एक ‘राष्ट्रीय मंडल’ था। 1925 में जब संघ की स्थापना हुई, तो उसके बाद डा. परांजपे संघ के साथ एकाकार होकर डा. हेडगेवार के परम सहयोगी बन गये।

नागपुर में संघ के सभी कार्यक्रमों में वे गणवेश पहन कर शामिल होते थे। मोहिते संघस्थान पर लगे पहले संघ शिक्षा वर्ग की चिकित्सा व्यवस्था उन्होंने ही संभाली। आगे भी वे कई वर्ष तक इन वर्गों में चिकित्सा विभाग के प्रमुख रहे। जब भाग्यनगर (हैदराबाद) की स्वाधीनता के लिए सत्याग्रह हुआ, तो उसमें भी उन्होंने सक्रियता से भाग लिया।

संघ और सभी सामाजिक कामों में सक्रिय रहते हुए 22 फरवरी, 1958 को नागपुर में ही उनका देहांत हुआ।

20 नवंबर

यूरोप में शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए रूस, प्रशिया, ऑस्ट्रिया और इंग्लैंड ने 1815 में गठबंधन किया।

  • रूस के निकोलायेव और सेवेस्तोपोल क्षेत्र से 1829 में यहूदियों को निकाला गया।
  • अमेरिकाके वांशिगटन में 1866 में हावर्ड विश्वविद्यालय की स्थापना।
  • यूक्रेन 1917 में गणराज्य घोषित हुआ।
  • कलकत्ता (अब कोलकाता) में बोस अनुसंधान संस्थान की 1917 में स्थापना।
  • ब्रिटिश सेना ने 1942 में लीबिया की राजधानी बेनगाजी पर दोबारा कब्जा किया।
  • जर्मनीमें 1945 में बीस से अधिक नात्सी अफ़सरों पर युद्धापराधों को लेकर मुकदमा शुरु।
  • जापानका 1945 में अमेरिका के समक्ष पूर्ण आत्मसमर्पण एवं द्वितीय विश्व युद्ध की समाप्ति।
  • इजरायल में 1949 में यहूदियों की संख्या दस लाख हुई।
  • पॉली उमरीगर ने 1955 में न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट मैच में भारत की ओर से पहला दोहरा शतक लगाया।
  • अमेरिकाने 1968 में नेवादा में परमाणु परीक्षण किया।
  • 39 वर्षों तक स्पेन पर शासन करने वाले तानाशाह जनरल फ्रैंसिस्‍को फ्रैंको की 1975 में मौत हो गई थी.
  • अफ्रीकी देश बुरुंडी में 1981 में संविधान अंगीकार किया गया।
  • भास्कर उपग्रह को 1981 में छोड़ा गया था।
  • माइक्रोसाफ्ट विंडोज 0 1985 में जारी हुआ।
  • अंगोलासरकार और यूनिटा विद्रोहियों के मध्य 19 वर्ष से जारी संघर्ष की समाप्ति के लिए 1994 में लुसाका में शांति संधि सम्पन्न।
  • वेल्स की राजकुमारी डायना ने 1995 में वेल्स के राजकुमार से अलगाव और अपने विवाहेत्तर संबंधों के बारे में बीबीसी टेलीविज़न पर खुल कर बात की।
  • अमेरिकी अंतरिक्ष शटल यान ‘कोलम्बिया’ फ़्लोरिडा के 1997 में कैनेडी अंतरिक्ष केन्द्र से सफलतापूर्वक प्रक्षेपित।
  • अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन जारया का 1998 में पहला माड्यूल जारी।
  • पाकिस्तानके चुनाव आयोग ने 2007  में राष्ट्रीय व प्रान्तीय असेंबलियों के चुनाव का कार्यक्रम घोषित किया।
  • अफ्रीकी देश माली की राजधानी बमाको में 2015 में बंधक बनाकर कम से कम 19 लोगों की हत्या की गई।
  • पी वी सिंधुने 2016 में चाइना ओपन सुपर सीरीज के फाइनल में चीन की सुन यू को तीन गेम तक चले मुकाबले में हराकर पहला सुपर सीरीज ख़िताब अपने नाम किया।

20 नवंबर को जन्मे व्यक्ति 

  • एक भारतीय महिला फ्रीस्टाइल पहलवान बबीता फोगाट का जन्म 1989 में हुआ।

20 नवंबर को हुए निधन 

  • रूस के प्रसिद्ध लेखक लियोन टॉलेस्ट्वाय (leo Tolstoy) का निधन 1910 में हुआ।
  • स्पेन के तानाशाह जनरल फ़्रैंको का निधन 1971 में हुआ।
  • प्रसिद्ध शायर फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ का निधन 1984 में हुआ।
  • बहुमुखी प्रतिभाशाली, अनेक विषयों के विद्वान, विचारक और कवि श्याम बहादुर वर्मा का निधन 2009 में हुआ।
  • भारत की प्रसिद्ध कवियित्री निर्मला ठाकुर का निधन 2014  में हुआ।
  • कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तथा पूर्व ऑल इंडिया फ़ुटबॉल फ़ेडरेशन के अध्यक्ष प्रियरंजन दासमुंशी का निधन 2017 में हुआ।

 

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: