हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

महाराष्ट्र का लोकप्रिय समाचार पत्र ‘तरुण भारत’

पत्रकारिता स्वयं में एक बहुत ही सम्मानजनक काम है; पर अन्य सब क्षेत्रों की तरह उसमें भी भारी गिरावट आई है। किसी समय ध्येयवादी लोग ही इस काम को अपनाते थे; पर अब भौतिकता की होड़ के कारण यह क्षेत्र भी सनसनी, दलाली और भ्रष्टाचार का खुला मैदान बन गया है।

बेलगांव (कर्नाटक) से प्रकाशित दैनिक समाचार पत्र ‘तरुण भारत’ के संस्थापक सम्पादक बाबूराव धोंडोपंत ठाकुर एक ऐसे सत्यान्वेषी व विद्वान पत्रकार थे, जिन्होंने हर तरह के कष्ट सहे; पर अपना ध्येय नहीं छोड़ा। उनका जन्म 26 दिसम्बर, 1899 को बेलगांव के एक सामान्य परिवार में हुआ था। प्राथमिक शिक्षा वहां से ही पाकर वे आगे पढ़ने के लिए सांगली आ गये।

यहां आकर वे लोकमान्य तिलक, गांधी जी तथा वीर सावरकर के विचारों से प्रभावित हुए। गांधी जी के आह्नान पर महाविद्यालय की पढ़ाई अधूरी छोड़कर वे आंदोलन में कूद गये। अतः उन्हें दो महीने जेल में रहना पड़ा। उन्होंने एक निःशुल्क वाचनालय और स्वदेशी वस्तुओं की दुकान भी चलाई।

बाबूराव के मन में बचपन से ही समाज-सेवा की भावना विद्यमान थी। 19 वर्ष की युवावस्था में उन्होंने कुछ मित्रों के साथ ‘भारत वैभव समाज’ नामक संस्था की स्थापना की। शिक्षा का प्रसार इस संस्था का उद्देश्य था। इसके द्वारा उन्होंने बेलगांव के आसपास कई गांवो में साक्षरता की ज्योति जलाई। प्रौढ़ों के लिए रात्रिकालीन पाठशालाएं चलाने के साथ ही निर्धन, निर्बल व वंचित वर्ग के उत्थान के लिए भी उन्होंने अनेक कार्यक्रम हाथ में लिये। इससे वे युवकों के साथ-साथ प्रबुद्ध वर्ग में भी लोकप्रिय हो गये।

वर्ष 1924 में बेलगांव में गांधी जी की अध्यक्षता में कांग्रेस का ‘राष्ट्रीय महाधिवेशन’ हुआ। इसमें बाबूराव ने ‘कांग्रेस सेवा दल’ के अध्यक्ष डा. हर्डीकर के नेतृत्व में एक स्वयंसेवक के नाते उत्कृष्ट कार्य किया। बाबूराव के मन में पत्रकारिता के बीज भी विद्यमान थे। अतः 1919 में उन्होंने बेलगांव से ‘तरुण भारत’ नामक मासिक पत्र प्रारम्भ किया। इसका उद्देश्य भी साक्षरता का प्रचार-प्रसार तथा इस हेतु गठित संस्था ‘भारत वैभव समाज’ की गतिविधियों की जानकारी समाज तक पहुंचाना था। इसके सम्पादक के नाते बाबूराव ने शासन द्वारा किये जा रहे अन्याय और अत्याचारों को जन-जन तक पहुंचाया। अतः थोड़े समय में ही यह पत्र लोकप्रिय हो गया।

स्वाधीनता प्राप्ति के बाद देश में भाषायी आधार पर राज्यों का पुनर्गठन हुआ। इसके अन्तर्गत बेलगांव, निपाणी, कारवार आदि मराठीभाषी क्षेत्र कर्नाटक में जोड़ दिये गये। बाबूराव भाषा के आधार पर लोगों का बांटने के विरोधी थे। अतः ‘महाराष्ट्र एकीकरण समिति’ में सक्रिय होकर उन्होंने एक लम्बी लड़ाई लड़ी। उनका तन, मन, वाणी और लेखनी सदा इसके लिए चलती रही।

बाबूराव ठाकुर मानते थे कि पत्रकारिता सुख, सुविधा और वैभव पाने का धन्धा नहीं है। इसलिए वे देश, धर्म और समाज पर दुष्प्रभाव डालने वाले हर मुद्दे पर सक्रिय रहते थे। गोवा मुक्ति के लिए हुए ‘गोमांतक आंदोलन’ में भी उनकी यही भूमिका रही। एक बड़ी छलांग लगाते हुए पांच जुलाई, 1966 से ‘तरुण भारत’ एक दैनिक पत्र बन गया। आज यह महाराष्ट्र का एक लोकप्रिय पत्र है तथा इसके कई संस्करण प्रकाशित हो रहे हैं।

बाबूराव ठाकुर समाचार पत्र को केवल आजीविका का साधन न मानकर संघर्ष का सबल माध्यम तथा समाज की आशा-आकांक्षा का सच्चा दर्पण मानते थे। 23 अपै्रल, 1979 को कर्क रोग के कारण ऐसे जुझारू सामाजिक कार्यकर्ता, समाजसेवी तथा स्वाधीनता सेनानी पत्रकार का निधन हुआ।

26 दिसंबर

  • शेक्सपियरने 1606 में अपने लोकप्रिय नाटक किंग लियर को पहली बार इंग्लैंड के राजा जेम्स प्रथम के दरबार में पेश किया था।
  • फ्रांसऔर ऑस्ट्रिया के बीच दक्षिणी हाॅलैंड को लेकर समझौते पर 1748 में हस्ताक्षर किये गये।
  • दिल्ली से मुंबई के बीच देश की पहली क्राॅस कंट्री मोटरकार रैली का 1904 में उद्घाटन।
  • तुर्की में 1925 में ग्रेगोरियन कैंलेडर अपनाया गया।
  • भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की 1925 में स्थापना।
  • सोवियत संघ ने 1977 में पूर्वी कजाख क्षेत्र में परमाणु परीक्षण किया।
  • भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधीको 1978 में जेल से रिहा किया गया।
  • उड़ीसा की प्रमुख पार्टी, बीजू जनता दल (बीजद) की 1997 में स्थापना वरिष्ठ राजनेता बीजू
    पटनायक के पुत्र नवीन पटनायक ने की।
  • संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिक्षद ने 2002 में डेमोक्रेटिक रिपब्लिक आफ़ कांगो में पुन: संघर्ष शुरू होने की सूचना दी।
  • शेन वार्न ने 2006 में अंतर्राष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट में 700 विकेट लेकर इतिहास रचा।
  • तुर्क विमानों ने 2007 में इराकी कुर्द ठिकानों पर हमले किये।
  • चीन की राजधानी बीजिंग से ग्वांग्झू शहर तक बनाए गए दुनिया के सबसे लंबे हाई स्पीड रेलमार्ग को 2012 में खोला गया।

26 दिसंबर को जन्मे व्यक्ति

सिखों के दसवें गुरु गाेविन्द सिंह का जन्म 1666 में हुआ।

  • 18 वीं शताब्दी के प्रसिद्ध अंग्रेज़ी कवियों में से एक थॉमस ग्रे का जन्म 1716 में हुआ।
  • स्वतंत्रता सेनानी अमर शहीद उधम सिंहका जन्म 1899 में हुआ।
  • गुजराती साहित्यकार तारक मेहता का जन्म 1929 में हुआ।
  • भारतीय समाज सेवी महिला माबेला अरोल का जन्म 1935 में हुआ।
  • प्रसिद्ध संत-महात्माओं में से एक विद्यानंद जी महाराज का जन्म 1935 में हुआ।
  • प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता तथा चिकित्सक प्रकाश आम्टे का जन्म 1948 में हुआ।
  • वैदिक परम्परा के प्रमुख बुद्धिजीवी राम स्‍वरूप का जन्म 1998 में हुआ।

26 दिसंबर को हुए निधन –

मुग़ल सम्राट बाबर का निधन 1530 में हुआ।

  • कवि का कलकत्ता(अब कोलकाता) हेनरी लुईस विवियन डेरोजियो का निधन 1831 में हुआ।
  • भारत के स्वतंत्रता संग्राम के प्रसिद्ध क्रांतिकारी, लेखक तथा समाजशास्त्री भूपेंद्रनाथ दत्त का निधन 1961 में हुआ।
  • ‘गाँधी स्मारक निधि’ के प्रथम अध्यक्ष, गाँधीवादी नेता, स्वतंत्रता सेनानी और पंजाब के प्रथम मुख्यमंत्री गोपी चन्द भार्गव का निधन 1966 में हुआ।
  • हिन्दी के यशस्वी कथाकार और निबन्ध लेखक यशपाल का निधन 1976 में हुआ।
  • भारत की महिला क्रांतिकारियों में से एक बीना दास का निधन 1986 में हुआ।
  • भारत के नवें राष्ट्रपति शंकरदयाल शर्माका निधन 1999 में हुआ।
  • समकालीन हिन्दी कविता के महत्त्वपूर्ण कवि पंकज सिंह का निधन 2015 में हुआ।

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: