हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

 संघ प्रचारक से संपादक बनने की यात्रा 

संघ के वरिष्ठ प्रचारक श्री जगदीश चंद्र त्रिपाठी का जन्म तीन जनवरी, 1936 को अल्मोड़ा (उत्तराखंड) में श्री शिवदत्त त्रिपाठी के घर में हुआ था। 1946 में वे स्वयंसेवक बने। 1948 में गांधी जी की हत्या के बाद संघ पर प्रतिबंध लगा तथा सर्वत्र उसका विरोध होने लगा। यद्यपि बाद में प्रतिबंध हट गया; पर उनके घर में संघ का विरोध जारी रहा। फिर भी वे शाखा पर जाते रहे। उन्होंने स्नातक तक की शिक्षा अल्मोड़ा से ही प्राप्त की। 1956 में प्रथम वर्ष तथा 1955 में द्वितीय वर्ष का संघ प्रशिक्षण प्राप्त कर 1956 में वे प्रचारक बन गये।

उत्तर प्रदेश में वे पूरनपुर, शाहजीपुर, एटा, शामली, गाजियाबाद, श्रीनगर गढ़वाल तथा रामपुर में नगर, तहसील व जिला प्रचारक रहे। 1967 में उन्हें असम के तेजपुर में भेजा गया। कई वर्ष वे बंगाल में वर्धमान विभाग प्रचारक तथा कोलकाता में प्रांतीय कार्यालय प्रमुख भी रहे। 1984 से 1990 तक वे वरिष्ठ प्रचारक श्री भाऊराव देवरस के निजी सहायक रहे। फिर उन्होंने उत्तरांचल उत्थान परिषद (अल्मोड़ा), वनवासी कल्याण आश्रम (सोलन, हि.प्र.), लोकभारती (लखनऊ) तथा विश्व संवाद केन्द्र (अल्मोड़ा) का कार्यभार भी संभाला।

वर्ष 2000 में उनकी योजना ‘विश्व हिन्दू परिषद’ में हुई। प्रारम्भ में उनका केन्द्र हरिद्वार था। वहां कार्यालय की देखरेख तथा धर्माचार्यों से सम्पर्क का काम उनके जिम्मे था। फिर वृन्दावन रहकर वे धर्माचार्यों से सम्पर्क करते रहे। 2004 में वे परिषद के दिल्ली स्थित केन्द्रीय कार्यालय (संकटमोचन आश्रम) में आ गये तथा दो वर्ष तक वहां की व्यवस्था में रहे। परिषद की ओर से कई पत्रिकाएं प्रकाशित होती हैं। इनमें से ‘हिन्दू चेतना’ पाक्षिक पत्रिका मुख्यतः साधु-संतों के पास भेजी जाती है। इसके सम्पादक श्री भैया जी कस्तूरे के निधन के बाद 2006 में इसके सम्पादन की जिम्मेदारी जगदीश जी को दी गयी।

‘हिन्दू चेतना’ पत्रिका का कार्यालय संकटमोचन आश्रम से 20 कि.मी. दूर झंडेवाला मंदिर के पास है। जगदीश जी प्रतिदिन प्रातः लगभग नौ बजे यहां से निकलकर बस से पत्रिका के कार्यालय में समय से पहुंच जाते थे। कार्यालय का समय समाप्त होने के बाद वे इसी प्रकार वापस आते थे। दोपहर का भोजन वे झंडेवाला के संघ कार्यालय में करते थे। उनकी समयशीलता के कारण पत्रिका के कार्यालय में भी अनुशासन का वातावरण बन गया। उन्होंने पत्रिका के रंग, रूप और विषय वस्तु में अनेक सुधार किये, जिससे उसकी गुणवत्ता बढ़ी और उसकी प्रसार संख्या में भी वृद्धि हुई।

जगदीश जी बहुत सरल, सौम्य और अध्ययनशील व्यक्ति थे। बच्चों में वे बहुत शीघ्र घुलमिल जाते थे। अपने घर जाने पर वे संघ विचार की कुछ पुस्तकें वहां दे आते थे। वे किसी भी भाषा-बोली को बहुत जल्दी सीखकर बोलने लगते थे। हिन्दी और कुमाऊंनी के साथ ही वे बंगला, मराठी और पंजाबी भी बोल लेते थे। आपातकाल में वे दार्जिलिंग में गिरफ्तार हुए। कुछ समय बाद उनकी जमानत हो गयी; पर उन्हें हर महीने थाने में हाजिरी देनी पड़ती थी। वे महीने के अंतिम दिन तथा फिर अगले महीने के पहले या दूसरे दिन जाकर दो महीने की हाजिरी लगवा लेते थे। शेष समय वे जनजागरण में लगाते थे।

11 मार्च, 2015 को वे हर दिन की तरह पत्रिका के कार्यालय में गये; पर स्वास्थ्य ढीला होने के कारण 12 मार्च को वहां नहीं गये। रात में सात बजे उन्हें भीषण मस्तिष्काघात हुआ, जिससे तत्काल उनका प्राणांत हो गया। पास के कमरे वाले आवाज सुनकर दौड़े। जगदीश जी के मुंह और नाक से खून निकल रहा था। तुरंत उन्हें अस्पताल ले जाया गया; पर वहां डॉक्टरों ने भी उन्हें मृत घोषित कर दिया। उन्होंने न किसी को कष्ट दिया और न ही स्वयं कष्ट उठाया। अंतिम दिन तक काम करते हुए उन्होंने अपनी जीवन-यात्रा पूर्ण की।

3 जनवरी

महान वैज्ञानिक गैलिलियों ने 1621 में दूरबीन की खोज की।

  • ब्रिटेन ने दक्षिण अटलांटिक के फ़ॉकलैंड द्वीप पर 1833 में कब्जा किया।
  • रवीन्द्र नाथ टैगोरने शांति निकेतन में ‘पौष मेला’ का उद्घाटन 1894 में किया।
  • शांति निकेतन में ब्रह्मचर्य आश्रम 1901 में खुला।
  • अमेरिका में डाक बचत बैंक का 1911 में उद्घाटन हुआ।
  • अलीगढ़ का एंग्लो ओरिएंटल कॉलेज 1920 में अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय में रूपांतरित हुआ।
  • तुर्की और आर्मिनिया के बीच 1920 में शांति संधि।
  • महात्मा गांधीलॉर्ड इरविन से 1929 में मिले।
  • बेल्जियम में जहरीली गैस का रिसाव 1930में हुआ उसमे 60 लोग मरे।
  • टेलीविजन पर पहली बार गुमशुदा लोगों के बारे में सूचना का प्रसारण 1943 में किया गया।
  • 1948 चीन के शरणार्थी जहाज में विस्फोट, 1100 लोग मरे।
  • अफ्रीकी देश अल्जीरिया में 1954 में भूकंप से 1400 लोग मरे।
  • 1956 में फ्रांस के एफिल टॉवर के ऊपरी हिस्से में आग लगने से नुकसान।
  • अमेरिका के पेनसिल्वेनिया में पहली बार 1957 में बिजली घड़ी प्रदर्शित की गयी।
  • अलास्का को अमेरिका का 49वां राज्य 1959 में घोषित किया गया।
  • अफ्रीकी देश युगांडा 1962 में गणतंत्र बना।
  • देश के पहले मौसम विज्ञान राकेट ‘मेनका’ का 1968 में प्रक्षेपण।
  • 1971 में भारत पाकिस्तान युध्द शुरू और राष्ट्रपति ने राष्ट्रीय आपातकाल की घोषणा की।
  • बर्मा (अब म्यांमार) में संविधान को 1974 में अंगीकार किया गया।
  • इजरायल ने 23 साल बाद सोवियत संघ में वाणिज्य दूतावास को 1991 में दोबारा खोला।
  • अमरीका और रूस ने अपने परमाणु हथियारों की संख्या को आधा करने पर 1993 में सहमति जताई।
  • अमेरिकी राष्ट्रपति जार्ज बुश एवं रूस के राष्ट्रपति बोरिस येल्तसिन द्वारा ‘स्टार्ट द्वितीय’ संधि पर 1993 में हस्ताक्षर किया गया।
  • इटली के अभिनेता एवं लेखक डारियो फो को 1997 में साहित्य का नोबल पुरस्कार दिया गया।
  • पाकिस्तान की नेशनल असेंबली ने इस्लामी शरीयत कानून को 1998 में देश के सर्वोच्च कानून के रूप में अनुमोदित किया।
  • 1998 में अल्जीरियाई इस्लामी विद्रोह में 412 लोगों की हत्या।
  • वर्ष 2002 का भौतिकी कानोबेल पुरस्कार अमेरिका के रैमण्ड डेविस और जापान के कोशिबा को संयुक्त रूप से देने की 2002 में घोषणा की गई।
  • 12वें सार्क सम्मेलन में भाग लेने के लिए 2004 में प्रधानमंत्रीअटल बिहारी वाजपेयी इस्लामाबाद पहुँचे।
  • यूरोपीय उपग्रह ‘क्रायोसेट’ का प्रक्षेपण 2005 में विफल।
  • गूगल ने यू-ट्यूब के अधिग्रहण की 2006 में घोषणा की।
  • चीन की मारग्रेट चान ने 2007 में विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक पद की कमान संभाली।
  • पाकिस्तान की शांति नोबेल पुरस्कार विजेतामलाला यूसुफ़ज़ई को 2012 में आतंकवादियों ने गोली मारी।

3 जनवरी को जन्मे व्यक्ति –

  • सामाजिक कार्यकर्त्ता, भारत में पहली महिला शिक्षक, और मराठी भाषा में पहली महिला कवयित्रीसावित्रीबाई फुले का 1831 में जन्म।
  • एशिया की सबसे पुरानी प्रिंटिंग प्रेस के संस्थापक मुंशी नवल किशोर का उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में 1836 जन्म।
  • प्रख्यात कलाकार नंदलाल बोस का 1882 में जन्म।
  • मशहूर स्वतंत्रता सेनानीखुदीराम बोस का 1889 में जन्म।
  • ओडिशा के पूर्व मुख्यमंत्री जानकी बल्लभ पटनायक का 1927 में जन्म।
  • प्रसिद्ध भारतीय राजनेता जसवंत सिंह का 1938 में जन्म।
  • बॉलीवुड अभिनेता संजय खान का 1941 में जन्म।
  • आकाशवाणी व दूरदर्शन की स्वर-परीक्षित एवं मान्यता-प्राप्त कलाकार बागेश्री चक्रधर का 1954 में जन्म।
  • मॉडल, बॉलीवुड अभिनेत्री गुल पनाग का 1977 में जन्म।
  • भारतीय पार्श्वगायक नरेश अय्यर का 1981 में जन्म।
  • भारतीय हॉकी के प्रसिद्ध खिलाड़ियों में से एक जयपाल सिंह का 1903 में जन्म।
  • प्रसिद्ध फ़िल्म निर्माता-निर्देशक चेतन आनंद का 1915 में जन्म।

3 जनवरी को हुए निधन

  • 1972 में लेखक व नाटककार मोहन राकेश का निधन।
  • 2002 में भारत के प्रसिद्ध रॉकेट वैज्ञानिक सतीश धवन का निधन।
  • 2005 में भारतीय सरकारी अधिकारी जे एन दीक्षित का निधन।
  • 1979 में विद्वान् शोधकर्मी समीक्षक परशुराम चतुर्वेदी का निधन।
  • 1871 में केरल के सीरियन कैथॉलिक संत तथा समाज सुधारक कुरिआकोसी इलिआस चावारा का निधन।

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: