हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

जानिए क्या होता है जनता कर्फ्यू ?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार रात 8 बजे देश की जनता को संबोधित किया, मोदी ने कहा कि अभी यह सोचना कि हम कोरोना से बच गये गलत होगा। हमें अभी लड़ाई लड़नी है और कोरोना को हराना है। अपनी अपील में पीएम ने जनता कर्फ्यू का जिक्र किया और सभी से अपील की है कि 22 मार्च को सभी लोग देशभर में सुबह 7 बजे से शाम 9 बजे तक जनता कर्फ्यू लगाए। इस दौरान लोगों को जागरुक करने की भी अपील की। पीएम ने कहा कि जरुरत ना हो तो घरों से ना निकले। मोदी ने कहा कि कोरोना की वजह से भारत ही नही बल्कि बहुत सारे देश परेशान है। पीएम ने कहा कि अगर हम ऐसा सोचते है कि हम कोरोना से बचे हुए है तो यह गलत है हमें अभी इसे सामान्य तौर पर नहीं लेना चाहिए इससे बचने के लिए सभी को सतर्क रहने की जरुरत है।

पीएम मोदी का जनता को संदेश-

मोदी ने जनता का आभार प्रकट करते हुए कहाकि उन्होने जब भी देश की जनता से कुछ मांगा है तो वह कभी निराश नही हुए है उन्होने कहा कि हम सब अपने निर्धारित लक्ष्यों की तरफ बढ़ रहे है लेकिन सभी को संयम के साथ काम लेना होगा।

मोदी ने देश की 130 करोड़ जनता से उनका कुछ सप्ताह मांगते हुए कहा कि कोरोना से बचने का कोई भी उपाय विज्ञान के पास नहीं है। वहीं जिन देशों में कोरोना की शुरुआत हुई थी वह बाद में अचानक से बढ़ गयी मानों उसका विस्फोट हो गया। इसलिए अभी यह कहना गलत होगा कि हम पूरी तरह से सुरक्षित हो चुके है।

मोदी ने अपील करते हुए कहा कि आप जरुरी सामान की खरीददारी की होड़ में ना दौड़े, मैं सभी को भरोसा देता हूं कि जरुरी सामानों की देश में कोई कमी नहीं होगी देश का कोई भी नागरिक खाली पेट नहीं सोएगा।

मोदी ने कहा कि किसी भी देश को कोरोना से बचाने में आम जनता की भूमिका अहम रही है। भारत के लिए कोरोना का खतरा सामान्य नहीं है और कोरोना से बचने के लिए दो चीजें बहुत जरुरी है पहला संकल्प और दूसरा संयम। भारत के हर नागरिक को यह संकल्प करना होगा कि इस बीमारी को हटाने के लिए सरकार के दिशा निर्देशों का पालन करें। हमें खुद को भी संक्रमित होने से बचना है और दूसरों को भी बचाना है। इस महामारी के लिए एक ही मंत्र है “हम स्वस्थ्य तो जग स्वस्थ्य”

पीएम ने उन लोगों से विशेष निवेदन किया है जो यह समझते है कि उन्हे कोई भी बिमारी नहीं हो सकती और वह बाहर घूमते रहते है। मोदी ने कहा कि ऐसे लोग ना सिर्फ अपनी सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करते है बल्कि अपने परिवार को भी खतरे में डालते है और उनके किये की सजा उनके परिवार को भुगतनी पड़ती है। पीएम ने सभी से निवेदन किया है कि बिना किसी जरुरी काम के घर से बाहर ना निकले। मोदी ने 60 से 65 वर्ष के लोगों से विशेष तौर पर अपील की है वह घर से बाहर बिल्कुल भी ना निकले क्योंकि उनके लिए संक्रमण का खतरा ज्यादा है।

देश के प्रधानमंत्री ने जनता से एक समर्थन मांगते हुए जनता कर्फ्यू की मांग की, मोदी ने जनता कर्फ्यू को समझाते हुए बताया कि जनता कर्फ्यू मतलब जनता के लिए, जनता द्वारा खुद पर लगाया गया कर्फ्यू। इस रविवार यानी 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक सभी देशवासियों को जनता कर्फ्यू का पालन करना है इस कर्फ्यू के दौरान कोई भी नागरिक घर से बाहर नहीं निकलेगा। इस पूरे दिन आप अपने घरों में रहें और बिना जरुरी काम के बाहर ना जाएं इसके साथ ही पीएम ने जनता कर्फ्यू के दौरान राज्य सरकारों और सभी धार्मिक संगठनों से सहयोग की अपील की है।

22 मार्च के दिन मोदी ने जनता से एक और अपील करते हुए सहयोग मांगा, मोदी ने कहा कि कुछ लोग इस मुसीबत के समय में भी काम पर लगे हुए है जिसमें पुलिसकर्मी, मिडियाकर्मी, सफाईकर्मचारी, डाक्टर्स, हास्पिटल स्टॉफ, एयरलाइंस कर्मचारी, डिलिवरी बॉय सहित तमाम लोग है जो अपनी चिंता किये बिना ही आम लोगों के लिए काम कर रहे है। यह सेवाएं देना सामान्य नहीं है यह खुद की जिंदगी की परवाह किये बिना काम कर रहे है। देश ऐसे लोगों का आभारी है लेकिन हम चाहते है कि 22 मार्च को हम ऐसे लोगों का धन्यवाद करें। 22 मार्च को शाम 5 बजे सभी लोग घर के बाहर निकले और 5 मिनट तक ताली बजाकर, थाली बजाकर या घंटी बजाकर ऐसे महान लोगों का धन्यवाद करें इससे उनका हौसला बढ़ेगा।

स्थानीय प्रशासन को भी धन्यावद के लिए सायरन बजाने के लिए मोदी ने अपील की है

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu
%d bloggers like this: