हिंदी विवेक : we work for better world...

सरकार किसी हानिकारक चीज पर प्रतिबन्ध तो लगा सकती है पर सबसे ज़रूरी बात होती है लोगों के बीच उसके प्रति जागरूकता का पैदा होना. इस तथ्य के आधार पर यह जानना ज़रूरी हो जाता है कि क्या आम जनता प्लास्टिक के दुष्प्रभावों के प्रति सजग और जागरूक है? अपनी बेबाक राय दें.

This Post Has 11 Comments

  1. बेशक जागरूकता किसी भी समस्या के समाधान की पहली शर्त है और प्लास्टिक के पर्यावरण पर दुष्प्रभावों के बारे में आमजन को सजग किया जाना बेहद जरूरी है, लेकिन यह समस्या का एक सीमित और अलाभकारी समाधान होगा ! इससे भी ज्यादा जरूरी है कि औद्योगिक और व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में प्लास्टिक के अंधाधुंध उपयोग को नियंत्रित किया जाये |

  2. People know that plastic is very harmful for environment and ecology but what other alternative do they have?
    They can reduce the usage of plastic but cannot stop it altogether.

  3. Haa to substitute Nikalo chalega but govt ko bhi chahiye cheeze jo nuksaan deti hai usko wahan se band kare jahan se suru ho rahi hai

  4. उपयोग-विकल्प

  5. सरकार को प्लास्टिक का उपयोग ढूढना चाहिए । जनता जागरूक है मगर कुछ अवसरों पर प्लास्टिक आवश्यक हो जाता है जिससे उसे मजबूरन उपयोग करना पड़ता है। सिर्फ कानून से प्लास्टिक नहीं रुक सकता।

  6. Ha ha ha ek din chutiya the people of india will die . Jise khte hai na kutte ki maut. Wait for this. Because we don’t care about our planet water forests. We only care how to earn money a lots taki hammare aane wale 10 puste khaye. We teach our children only books math physics etc. But we indians chutiya never teach how to save water, how we can use less and less plastic and polythin. It is not matter of poor people. Very rich and educated people involved too much in it. Maine suna hai ki ye duniya educayed people ki vajah se aur jyada barbaad ho gyi hai. So i call the people of india chutiya.

    1. your thoughts are good but mind your language.

  7. प्लास्टिक इकाइयां जिससे मानव जीवन व वसुंधरा को खतरा है।
    प्रशासन के साथ साथ हमारी-आपकी भी जिम्मेदारी हैं ।
    जिस प्रकार से पार्टियो व जातियो के लिये कट्टरता होती है ठीक उसी प्रकार से पोलीथिन,प्लास्टिक को ना कहने की भी कट्टरता होनी चाहिये ।
    आइये एक कदम परिवर्तन की और,आप स्वयं से बदलाव करे।
    Don’t use plastic bags.
    Shyam vaskle Khetia
    09424854477
    Cleen khetia+ GREEN KHETIA

  8. शासन प्रशासन य

  9. Yaar dekho sarkaar sirf jagruk karengi aur janta jagruk hogi isse kuch nai hoga ok agar sarkaar wakai chahti hai to direct plastics ki factory kyu band nai karti wo band kare to aur kuch Karne ki jarurat hi nai ……..

    1. Yeh tuglaki faisala nahi ho jayega? Sabse mukhya mudda hai ki plastic ka koi vikalp taiyaar ho, jo pollution free bhi ho. Ekaek band kar diya jayega to ham sabke jeevan par uska kitna bada aur bura effect padega, aapko pata bhi hai?

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu