हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

तेज धूप से तपती धरती पर पानी की ’फुहारें पड़ते ही, सोंधी-सोंधी खुशबू से मन मयूर नाचने लगता है। ठंडी हवाएं मन को सराबोर कर देती हैं। जब यही फुहारें तेज बारिश का रूप ले लेती हैं तो कुछ दिनों बाद अनेक समास्याएं सामने आने लगती हैं। जिसमें मु‘यत: बालों की समस्या विकराल है। बारिश में बाल उलझे और चिपचिपे हो जाते हैं। और तेजी से झड़ने लगते हैं। आइए जानते हैं, उन्हें चमकीले और स्वस्थ रखने के उपाय……

*रोजाना बालों को धोना नुकसान करता है। सप्ताह में 2 या 3 दिन बालों को धोएं।

*बारिश में बालों के स्टाइलिंग प्रोडक्टस जैसे स्ट्रेटनर, कर्लर, ड्रायर और हाइलाइटर का कम से कम प्रयोग करें।

*बारिश में बाल दोमुहें, उलझे और सूखे होकर झड़ने लगते हैं। इनसे बचने के लिए बालों की नियमित अंतराल के बाद ’ऑइल मसाज’ अवश्य करें।

* मानसून में नमी और उमस बहुत होती है जिससे पसीना आता है। इसके कारण सिर की त्वचा पर खुजली और डैंड्रफ होने लगता है। इसके लिए 2 चमच नीम के तेल में समान मात्रा में यानी 2 चम्मच बादाम का तेल अथवा नारियल का तेल मिलाएं। अब अच्छी तरह सिर की मालिश करें। इसे 2-3 घटें तक ऐसे ही छोड़ दें। अब शैंपू से धोे लें। नीम तेल सिर की त्वचा से डैंड्रफ और खुजली दूर करेगा। बादाम और नारियल तेल बालों को पोषण देंगे। इससे बाल स्वस्थ रहेंगे।

* बारिश में बालों के गीला होने पर उन्हें साफ पानी  से धोकर अच्छी तरह से सुखा लें। यदि धोना संभव ना हो तो अच्छी तरह पोछें और सुखाएं! इससे बालों को कम नुकसान होगा। बारिश में घुघराले बाल ज्यादा उलझते हैं। इसलिए इन्हें धोने के लिए हाइड्रेटिंग शैम्पू और कंडीशनर का प्रयोग करें। इससे बाल बेजान नहीं लगेंगे।

* बारिश में बालों को झड़ने से बचाने के लिए सिर की त्वचा हमेशा सूखी और साफ रखें।

* बाजर में एंटीफि‘ज शैम्पू, कंडीशनर, सीरम और स्प्रे मिलते हैं। इनके प्रयोग से बालों का उलझना रोका जा सकता है।

*आप भले ही बालों के लिए कितने भी अच्छे प्रोडक्ट इस्तेमाल करें, बालों का ध्यान भी रखें परंतु अच्छी नींद और हेल्दी डाइट नहीं है तो कोई फायदा नहीं इसलिए हेल्दी डाइट और नींद का ‘याल रखें और पाएं घने, चमकीले, स्वस्थ बाल।

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: