हिंदी विवेक : we work for better world...

 ***सोनाली जाधव*** 
        
  सेवा’ इस शब्द के साथ कुछ लोगों का गहरा सम्बंध होता है। समय के साथ उनमें यह भाव इतना गहरा होता जाता है कि वे अपना पूरा जीवन सेवा को ही समर्पित कर देते हैं। समाज के विभिन्न जरूरतमंदों की सेवा करना और समाज के प्रति अपने उत्तरदायित्व के भाव के साथ सुमन रमेश तुलसियानी पिछले कई दशकों से कार्यरत हैं। उनके इस सेवाकार्य में दो व्यक्ति सदैव उनके साथ रहे; पति रमेश तुलसियानी और भाई सी.ए. श्रीपाद कुवेलकर।
      श्रीमती तुलसियानी का जन्म ९ अक्टूबर, १९३७ को गोवा में हुआ। स्व. श्री मुकुंद कुवेलकर और श्रीमती द्वारका कुवेलकर की इस सबसे छोटी कन्या ने अपनी विद्यालयीन शिक्षा न्यू ईरा हाईस्कूल, मारगांव (गोवा) से पूर्ण की और सन् १९५२ में उनका मुंबई आगमन हुआ। मुंबई के गिरगांव स्थित उपनगर में चिकित्सक समूह हाईस्कूल में उन्होंने अपनी आगे की पढ़ाई की और एस. एस. सी. परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद उन्होंने सोफिया कॉलेज में प्रवेश लिया। यहां उन्होंने मनोविज्ञान और फ्रेंच का प्रमुख रूप में अध्ययन किया। कला संकाय के स्नातक की उपाधि उन्हें फ्रेंच में प्राप्त हुई जिसमें उन्होंने प्रथम स्थान प्राप्त किया था। उन्हें पेरिस के सर्बोन विश्वविद्यालय द्वारा छात्रवृत्ति भी दी गई; परंतु कुछ निजी कारणों के कारण उन्होंने इसे अस्वीकार कर दिया।
      सन १९८९ में उन्होंने अपने पति के साथ मिलकर सुमन रमेश तुलसियानी चैरिटेबल ट्रस्ट (एस. आर. टी. सी. टी.) की स्थापना की। रोगियों और विद्यार्थियों के लिए वरदान साबित होने वाली इस संस्था के माध्यम से सुमनजी दिनभर में लगभग पचास से सत्तर हजार रुपये दान करती हैं। मुंबई के जे. जे. हॉस्पिटल, सायन हॉस्पिटल, नायर हॉस्पिटल आदि में भर्ती मरीजों को मदद करने का कार्य यह ट्रस्ट करता है।
श्रीमती तुलसियानी अपने ट्रस्ट के माध्यम से निम्न कार्य करती हैं-
१) गरीब और जरूरतमंद बच्चों को छात्रवृत्ति।
२) सोफिया कॉलेज के विज्ञान विभाग को आर्थिक सहायता।
३) सूचना तकनीकी के क्षेत्र में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के इच्छुक विद्यार्थियों को ऋण के रूप में सहायता।
४) केशव सृष्टि में राम रत्न विद्या मंदिर के लिए होस्टल निर्माण।
५) गोवा में स्नेह मंदिर नामक वृद्धाश्रम में आर्थिक सहायता आदि।
६) मुंबई के उपनगर चेंबूर में स्थित विवेकानंद एज्यूकेशन सोसायटी शिक्षा क्षेत्र की प्रसिद्ध संस्था है। इसकी भव्य इमारत के इंजिनियरिंग विभाग का खर्च वहन किया। http://www.tulsianitrust.com/
७) भारतीय संस्कृति का जतन करने के उद्देश्य से सुमन रमेश तुलसियानी ट्रस्ट के द्वारा वानप्रस्थ आश्रम दैनंदिन खर्च के लिए इस्कॉन के ५५ लाख रुपए दिए गए।
८) ‘स्नेहबंधन ट्रस्ट’ के द्वारा बनाए गए वृद्धाश्रम को २५ लाख रुपये देकर उसे कर्जमुक्त किया और अन्य सुविधाओं के लिए १० लाख रुपए भी दिए।
९) शांति आवेदना नामक गोवा की संस्था को मुंबई में अस्पताल की तल मंजिल बनाने के लिए तथा गोवा के अस्पताल में स्वतंत्र वॉर्ड बनाने के लिए सुमन रमेश तुलसियानी ट्रस्ट के द्वारा ५० लाख रुपये दिए गए।
१०) साधू वासवानी एज्यूकेशनल सेंटर, पुणे के अंततराष्ट्रीय स्तर के छात्रवास हेतु सुमन रमेश तुलसियानी चैरिटेबल ट्रस्ट के द्वारा ८ करोड़ रुपयों का दान।
११) औरंगाबाद के डॉ. हेडगेवार हॉस्पिटल के डायलिसिस सेंटर के लिए सुमन रमेश तुलसियानी चैरिटेबल ट्रस्ट के द्वारा ५० लाख रुपये दान दिए हैं।

सुमन रमेश तुलसियानी जी ने ओल्ड पुणे-मुंबई हाई-वे (राजमार्ग) एन एच-४ पर इसी वर्ष सुमन रमेश तुलसियानी टेक्निकल कैम्पस फेकेलिटी ऑफ इंजीनियरिंग का शुभारंभ किया है। सन् २००८ में इस तकनीकी शिक्षा संस्थान के लिए जमीन खरीदी गई और निर्माण कार्य शुरू किया गया और सन २०१२ के प्रारंभ में संस्थान की मुख्य इमारत बनकर तैयार हुई। शैक्षणिक, प्रशासनिक तथा आवासीय इमारतों वाला यह शिक्षा संस्थान २१ एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है।

                                                            मो. 7040511564
 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu