हिंदी विवेक : we work for better world...

   ***प्रशांत मनकुमरे*** 

  

       महालक्ष्मी मंदित के माध्यम से दो प्रकार के कार्य किए जाते हैं। धार्मिक कार्य तथा सेवा कार्य। धार्मिक कार्यों में देवी की पूजा, अर्चना, नवरात्र उत्सव, अश्विन और माघ मास में उत्सव आदि होते हैं। उत्सवों में विभिन्न कार्यक्रम किए जाते हैं।
     मंदिर के द्वारा किए जानेवाले सेवा कार्य भी बहुत हैं। मंदिर के माध्यम से प्रतिवर्ष ८ से ९ हजार विद्यार्थियों को स्कालरशिप दी जाती है। यह लगभग २.५ से ३ करोड तक की होती है। जरूरतमंद मरीजों के लिए भी मंदिर की ओर से मदद की जाती है। यह रकम भी ५-६ करोड रुपए प्रति वर्ष होती है। मंदिर में एलोपैथी और आयुर्वेदिक उपचार पद्धति से दो दवाखाने भी चलाए जाते हैं। एलोपैथिक दवाखाना सोमवार से शुक्रवार मंदिर परिसर में ही चलाया जाता है और आयुर्वेदिक दवाखाना केवल शुक्रवार को सुबह ७बजे ़़से १२ बजे तक खुलता है। ताडदेव स्थित ए.पी.मिल कम्पाउंड में भी दवाखाना चलाया जाता है। मंगलवार को सिद्धी विनायक मंदिर में भी दवाखाना चलाया जाता है।
    

 मंदिर की ओर से अन्य सामाजिक संस्थाओं को भी दान दिया जाता है। वैष्णवी चैरीटेबल ट्रस्ट के माध्यम से भी स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन किया जाता है।
आषाढ तथा कार्तिक मास की एकादशी के मेलों तथा कुंभ मेलों में आनेवाले भक्तगणों के लिए निशुल्क चिकित्सा सुविधा मुहैया कराई जाती है। आवश्यकता होने पर मंदिर की ओर से ही मरीज को आर्थिक सहयोग भी दिया जाता है।
    महालक्ष्मी मंदिर के माध्यम से निशुल्क अन्नछत्र शुरू करने की भी योजना है। फिलहाल जगह की कमी के कारण मंदिर ने इसे शुरू नहीं किया है परं जल्द ही वे इसे शुरू करेंगे।

                                                                      मो. : ९५९४९६१८५५

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu