हिंदी विवेक : we work for better world...

मुंबई में मराठा क्रांती मोर्चा की तरफ से पुकारे गए बंद का मिश्रित पणिाम दिखाई दिया। इसके पूर्व भी भीमा कोरेगांव में हुई घटना के उपरान्त देश के विभिन्न स्थानों पर दलित समाज के विभिन्न लोगों द्वारा आंदोलन किया गया। संघठित तथा सशक्त समाज के रूप में विकास करने की आज की आवश्यकता पर इन जातिगत आंदोलनो का क्या प्रभाव पड़ेगा? अपनी बेबाक राय दें.

 

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu