हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

***प्रतिनिधि*** 
   
महाराष्ट्र पिछले कुछ सालों से अकाल, किसानों की आत्महत्या, कम उत्पादकता आदि समस्याओं का सामना कर रहा है। इन समस्याओं का मुख्य कारण यह है कि यहां बारिश बहुत कम हुई तथा जितनी हुई उस पानी का भी संचय नहीं किया गया।
     बारिश कितनी होगी यह तो मानव के हाथ में नहीं है परंतु जितना पानी मिले उसका संचय करके उसे वर्ष भर उपयोग में लाना मानव के हाथ में जरूर है। इसी उद्देश्य से समस्त महाजन संस्था बीड जिले में कार्यरत है। जिले के कुल ५ गावों में यह संस्था कार्यरत है। इस पूरे जिले में कुल
     ६६ मिमि वर्षा ही रिकॉर्ड हुई है। यह वर्षा भी अनिश्चित है। इस अनिश्चितता के कारण यहां के किसान अपनी फसलों का नियोजन नहीं कर पाते। परिणाम स्वरूप फसलों का उत्पादन कम होता है और किसानों को आय नहीं होती।
      इन सभी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए समस्त महाजन संस्था के द्वारा इन गावों में छोटे बांध बनाने तथा नालों को चौडा तथा गहरा करने का कार्य किया जा रहा है। संस्था के चेयरमेन गिरीशभाई शाह ने जानकारी दी कि मूलत: इन नालों में सफाई न होने के कारण यहां का पानी दूषित होता है। परंतु यदि इन्हें साफ कर दिया गया तो पानी के संचय की शुरुआत हो सकेगी तथा इस पानी को साफ करके खेती तथा अन्य कार्यों के लिए उपयोग किया जा सकेगा। नालों को १० मीटर से ३० मीटर तक चौडा करने तथा २ मीटर गहरा करके सीमेंट के नाले बनाने का निश्चय किया गया है।
     
इस नाले को बनाने का कार्य गांववालों को साथ लेकर ही किया गया है जिससे गांव के लोगों को रोजगार मिलेगा तथा गांव से पलायन में कमी आएगी। इससे भूजल का स्तर भी बढ़ेगा। जमीन का जो भाग बंजर हो गया है वह भी उपजाऊ हो सकेगा और फसलों के उत्पादन में भी १०% से १५% की बढ़ोत्तरी होगी। समस्त महाजन संस्था की ओर से किया गया कार्य निश्चित ही सराहनीय है तथा इससे गावों में खुशहाली लौटने की आशा की जा सकती है।

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu
%d bloggers like this: