हिंदी विवेक : we work for better world...

किसी ने सच कहा है कि छोटा परदा कभी भी बड़े परदे से छोटा नहीं माना गया। यहां भी कलाकारों को उतनी ही इज्जत और शोहरत  मिलती है, जितनी बड़े परदे पर। लेकिन फिर भी छोटे परदे वालों की बड़े परदे की चाह किसी से छुपी नहीं है।

वर्षों से टेलीविज़न इंडस्ट्री के कलाकार फिल्मों में आते रहे हैं और सफल भी हुए हैं। लेकिन इन सबमें गौर करने वाली एक बड़ी बात यह है कि कम ही कलाकार हैं जो मेन लीड में फिल्मों में सफल रहे हैं और स्टार बने हैं। इसकी अलग-अलग वजह हो सकती है। सर्कस और फ़ौजी जैसे धारवाहिक से फिल्मों में आए शाहरुख़ खान सहित कुछ चुनिंदा नाम छोड़ दें तो बड़े परदे पर असफल होने वाले टेलीविज़न कलाकारों की लंबी लिस्ट नज़र आती है। “क्योंकि सास भी कभी बहू थी” में मिहिर का किरदार निभाने वाले अमर उपाध्याय फिल्मों में जितनी जल्दी आए, उतनी जल्दी ही गायब भी हो गए। धारवाहिक “कहीं तो होगा” में सुजल का किरदार निभाने वाले राजीव खंडेलवाल ने बॉलीवुड में इंट्री फ़िल्म “आमिर” से ली थी। इसके बाद उन्होंने कुछ और फ़िल्में कीं। फ़िल्म “फीवर” में भी वे नज़र आए थे। इसी सीरियल की अभिनेत्री आमना शरीफ़ ने फ़िल्म “आलू चाट” से बड़े परदे पर शुरुआत की थी। लेकिन वे भी नहीं चलीं। सीरियल “कसम से” की अभिनेत्री प्राची देसाई ने फ़िल्म रॉक ऑन से शुरुआत की थी। उन्होंने फ़िल्म “वन्स अपॉन ए टाइम इन मुम्बई” , “अज़हर” सरीखी फ़िल्मे कीं, पर लंबी पारी नहीं खेल पाईं। जय भानुशाली ने भी “हेट स्टोरी-2″ और ” एक पहेली लीला” फ़िल्म में अभिनय किया, मगर उन्हें भी दर्शकों का ज़्यादा प्यार नहीं मिला।

बरुण सोबती, सारा खान सहित और बहुत से नाम हैं जो सीरियल्स में तो बहुत पॉप्युलर हुए, फ़िल्मों में फ्लॉप रहे। टीवी इंडस्ट्री के कई कलाकार ऐसे भी हैं जिन्होंने सहायक अभिनेता की भूमिका में फ़िल्मों में अच्छी पारी खेली है। जबकि कई मैन लीड की चाह में आज भी संघर्ष कर रहे हैं। करण कुंद्रा, करण सिंह ग्रोवर, करण वाही, गुरमीत चौधरी सहित कुछ अन्य कलाकार बड़े परदे पर लगातार नज़र आ रहे हैं और बड़ी हिट की उम्मीद में है।

ये रहे सफ़ल-

सीरियल “हम पांच” से शुरुआत करने वाली विद्या बालन आज बड़ी अभिनेत्रियों में जानी जाती हैं। उन्होंने “कहानी”, डर्टी पिक्चर” सहित कई हिट फ़िल्मे दी हैं। सीरियल ” पवित्र रिश्ता” में मानव का रोल कर फेमस हुए सुशांत सिंह राजपूत ने अभिषेक कपूर की फ़िल्म ” कई पो छे” से शुरुआत की थी। कई फ़िल्मों में नज़र आ चुके सुशांत की आगामी फ़िल्म “केदारनाथ” का दर्शकों को बेसब्री से इंतज़ार है। “क्योंकि सास भी कभी बहू थी” सीरियल में लक्ष्य वीरानी का रोल करने वाले पुलकित सम्राट सफल जरूर हो रहे हैं, लेकिन अकेले के दम पर फ़िल्म खीचने का माद्दा पाने की वे अभी भी कोशिश में है। फ़िल्म “विक्की डॉनर” से शुरुआत करने वाली यामी गौतम भी दर्शकों में अपनी छाप छोड़ चुकी हैं। कपिल शर्मा, मनीष पॉल सहित कुछ नाम ऐसे है, जिनकी फ़िल्मे भले ही ना चली हों, लेकिन उनकी प्रसिद्धी कही ज़्यादा और आज भी बरक़रार है। फिल्मों में फ्लॉप रहे रोनित रॉय ने वर्षों बाद सीरियल्स में काम किया और सफ़ल रहे। इसके बाद उन्होंने रफ़्तार पकड़ी और बड़े परदे पर अपने अभिनय का लोहा मनवाया। वैसे देखा जाए तो टीवी इंडस्ट्री से कलाकारों के आने का सिलसिला बहुत पुराना है। मनोज बाजपेयी, आशुतोष राणा, इरफ़ान खान सहित कई अच्छे कलाकार छोटे परदे ने ही दिए हैं। मनोज वाजपेयी और इरफ़ान ने तो कई फ़िल्मे मुख्य भूमिका में की हैं। अब कुछ और कलाकार बड़े परदे का रुख़ करने जा रहे हैं। इनमें “नागिन” सीरियल से फेमस हुई मोनी रॉय “गोल्ड” फ़िल्म में अक्षय कुमार के साथ नज़र आएंगी और अंकिता लोखंडे फ़िल्म “मणिकर्णिका” में कंगना रणोत के साथ स्क्रीन शेअर करेंगी।

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu