हिंदी विवेक : we work for better world...

यह वो कहानी और कारण है जो लगभग सभी भारतीय को पता है कि हम दिवाली श्री राम जी के वनवास से लौटने की खुशी में मनाते हैं। मंथरा के गलत विचारों से पीड़ित हो कर भरत की माता कैकई श्री राम को उनके पिता दशरथ से वनवास भेजने के लिए वचनबद्धः कर देते हैं। ऐसे में श्री राम अपने पिता के आदेश को सम्मान मानते हुए माता सीता और भाई लक्ष्मण के साथ 14 वर्ष के वनवास के लिए निकल पड़ते हैं। वहीं वन में रावण माता सीता को छल से अपहरण कर लेता है।

तब श्री राम सुग्रीव के वानर सेना और प्रभु हनुमान के साथ मिल कर रावण की सेना को परास्त करते हैं और श्री राम रावण का वध करके सीता माता को छुड़ा लाते हैं। उस दिन को दशहरे के रूप में मनाया जाता है और जब श्री राम अपने घर अयोध्या लौटते हैं तो पूरे राज्य के लोग उनके आने के खुशी में रात्री के समय दीप जलाते हैं और खुशियाँ मनाते हैं। तब से उस दिन का नाम दीपावली के नाम से जाना जाता है।

This Post Has 7 Comments

  1. Hindi vivek masik patrika ke pathako ko dipawali ki hardik shubkamnaye

  2. Hindi vivek ke sabhi pathako ko dipawali ki hardik shubkamnaye. Jai shree ram

  3. जय श्रीराम

  4. jai shree ram

  5. शुभ दीपावली.

  6. जय श्रीराम

  7. जय श्रीराम

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu